चिल्लर देखकर पडा अटैक, कंपनी के कर्मचारी की मौत

चिल्लर देखकर पडा अटैक, कंपनी के कर्मचारी की मौत
Kanpur news

Shatrudhan Gupta | Updated: 12 Dec 2017, 09:43:20 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

मैनेजर ने एक कर्मचारी को उसके वेतन के रूप में एक, दो, पांच व दस के चिल्लर थमा दिये।

कानपुर. नोटबंदी के दौरान केंद्र सरकार के कारोड़ों के चिल्लर बाजार में उतारे थे, जो आज लोगों पर भारी पड़ रहे हैं। बैंक के अफसर उन्हें लेने से इंकार कर रहे हैं तो वहीं प्राईवेट कंपनियों में काम करने वाले कर्मचारियों को जबरन इन्हें दिया जा रहा है। ऐसा ही एक मामला चौबेपुर थानाक्षेत्र स्थित मोर डिटर्जेंट कंपनी में सामने आया, यहां मैनेजर ने एक कर्मचारी को उसके वेतन के रूप में एक, दो, पांच व दस के चिल्लर थमा दिये। कर्मचारी ने इन्हें लेने से इंकार किया तो मैनेजर ने उसके साथ मारपीट की। जिसके चलते उसे हार्टअटैक पड़ गया और उसकी मौत हो गई। मृतक के परिजन जानकारी मिलते ही कंपनी पहुंच गए और हंगामा करने लगे। सूचना पर पहुंची पुलिस ने लोगों को शांत कराया और तहरीर मिलने के बाद कार्रवाई के साथ मुआवजा दिलाए जाने की बात कही।

मैनेजर ने वेतन के रूप में थमा दिया चिल्लर

चौबेपुर थानाक्षेत्र निवासी रामसिंह (40) मोर डिटर्जेंट कंपनी में नौकरी करते थे। रामसिंह की पत्नी गर्भवती थी और उसका इलाज चल रहा था। बीमार पत्नी का इलाज कराने के लिए रामिंसह कंपनी पहुंचा और मैनेजर से अपना वेतन मांगा। मैनेजर ने उसके एक माह का वेतन दो, पांच और दस के चिल्लर से भरा थैला पकड़ा दिया। रामसिंह के भाई ने बताया कि जब भईया ने चिल्लर लेने से इंकार कर दिया तो मैनेजर व अन्य सुरक्षाकर्मियों ने उनके साथ मारपीट पर उतारू हो गए और जबरन चिल्लर से भरा थैला थमा दिया। वो चिल्लर लेकर जैसे ही कंपनी के बाहर निकले वैसे ही गिर कर बेहोश हो गये। अन्य कर्मचारियों ने उन्हें अस्पताल ले जाने लगे, लेकिन तब तक उनकी मौत हो चुकी थी। मृतक के पास सेलरी के सिक्कों से भरी रेजगारी मिली। उनके साथ काम करने वाले कर्मचारियों का आरोप है कि सैलरी में सिक्के मिलने से वो तनाव में थे और उन्हें हार्ट अटैक पड़ गया।

कंपनी में शव रख किया हंगामा

मृतक के परिजनों ने शव को कंपनी में रखकर हंगामा करने लगे। कंपनी के मैनेजर अरूण पांडेय ने पुलिस को सूचना दे दी। पुलिस ने राम सिंह के परिवार को मनाती रही, लेकिन वो मालिक को बुलाए जाने पर अड़ गए। मालिक के आने के बाद मृतक के परिजन शांत हुए और कंपनी की तरफ से 1 लाख 30 हजार का मुआवजा दिया। इंस्पेक्टर ने बताया कि रामसिंह की मौत बीमारी के चलते हुई है। रामसिंह के परिजनों ने तहरीर नहीं दी। वहीं कंपनी के अन्य कर्मचारियों का आरोप है कि यहां पर मैनेजमेंट हर माह वेतन के रूप में चिल्लर दिया जा रहा है। जबकि चिल्लर से हमलोग कोई भी वस्तु नहीं खरीद सकते।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned