बारिश न होने पर यहां किसान करते हैं ये टोटका, फिर.........मांग इंद्रदेव से लगाते हैं अर्जी

यहां के लोगों का मानना है ऐसा करने से इंद्रदेव खुश होते हैं और फिर झमाझम बारिश होती है।

By: Arvind Kumar Verma

Published: 27 Jul 2020, 06:54 PM IST

कानपुर देहात-इस वर्ष एक बार फिर बारिश न होने से किसान सहित आम जनमानस परेशान हो चुका है। एक तरफ जहां गर्मी से लोग परेशान है। वहीं सबसे बड़ी मुसीबत किसानों के सामने खड़ी हो गई। इस समय धान की फसल प्रमुखता से की जाती है, जिसके लिए पानी की अत्यंत आवश्यकता होती है। जून के बाद जुलाई माह भी सूखा निकल गया, लेकिन बांडल गरजकर चले जाते हैं। जबकि इस माह में धान की रोपाई का कार्य होता है। बारिश न होने से अब गांव के लोग इंद्रदेव को प्रसन्न करने के लिए तरह तरह के जतन कर रहे हैं। कानपुर देहात रसूलाबाद क्षेत्र के एक गांव में बारिश के लिए गांव के युवाओं ने इंद्रदेव से लेदा मांगा है। इसमें गांव के लोग जगह-जगह पानी से कींचड़ करके लोटपोट होकर लेदा मांग रहे हैं। साथ ही गांव की महिलाएं भी ढोलक पर गीत गाती नजर आई। यहां के लोगों का मानना है ऐसा करने से इंद्रदेव खुश होते हैं और फिर झमाझम बारिश हो जाती है।

इस समय उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में किसान बारिश ना होने से परेशान हैं और ऐसे में किसानों की हाल ही में लगाई गई धान की फसल बारिश न होने के कारण सूखने के कगार पर आ गई है। जिसको देखते हुए जनपद कानपुर देहात के रसूलाबाद तहसील क्षेत्र के शंकरपुर गांव में पुरानी रीति रिवाज के हिसाब से गांव की महिलाओं व युवाओं ने एक टोटका किया। गांव के सैकड़ों युवाओं ने गांव में घूम घूमकर जगह-जगह पहले पानी डलवाया। फिर उसके बाद पानी पर लोगों ने लोटपोट कर भगवान से बारिश होने की गुजारिश की। युवाओं की इस अनोखी प्रार्थना की महिलाएं दर्शक बनी और उन्होंने भी युवाओं के साथ ढोलक मंजीरा बजाकर भगवान के भजन गाए। इसके बाद ग्रामीणों ने घर घर जाकर लेदा मांगा।

गांव के बुजुर्गों का भी मानना है कि जब भी सूखा आता है। तब इस तरीके से टोटके करने से इन्द्रदेव रहम करके बारिश करते हैं, जिससे किसानों की फसल सूखने से बच जाती है। क्योंकि कहा जाता है भगवान पर भरोसा रखने वाले किसान संकट के समय में अपने टोटके अंदाज में निमंत्रण देकर बारिश करने की अर्जी लगाते हैं। यहां के लोगों का इस टोटके पर आस्था और विश्वास जुड़ा हुआ है। इसको चाहे अंधविश्वास समझा जाए या हकीकत, लेकिन लोग अपने इस अंदाज में देवताओं से बारिश की अरदास लगा रहे हैं।

Show More
Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned