खेतों में काम कर रहे किसानों की चिंताएं बढ़ी, शासन से मिली राहत तो किसान बोले

किसानों ने सभी घरेलू काम छोड़ खेतों में काम शुरू कर दिया है।

By: Arvind Kumar Verma

Updated: 21 Apr 2020, 03:39 PM IST

कानपुर देहात-प्रदेश में लॉकडाउन की समय सीमा बढ़ने के बाद सभी जिलों में प्रशासन को कड़ाई से पालन कराने के निर्देश दिए गए थे। वहीं खेतों में खड़ी रबी फसल की कटाई मड़ाई को लेकर यूपी सरकार ने किसानों को राहत दी है। इसी के चलते कानपुर देहात में कृषि कार्यों को लेकर बीज भंडार, कृषि यंत्र दुकानें आदि खोलने के निर्देश दे रखे हैं। शासन के निर्देश के बाद किसानों ने सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए खेतों में गेहूं की कटाई मड़ाई का काम जोरों पर है। जिले के झींझक क्षेत्र में भी किसानों ने सभी घरेलू काम छोड़ खेतों में काम शुरू कर दिया है। दिन रात कहीं कटाई तो कहीं मड़ाई का काम चल रहा है। शासन से राहत मिलने के चलते ट्रैक्टरों द्वारा भूसे व गेहूं ढोए जा रहे हैं।

खेतों में काम कर रहे किसानों के मुताबिक सरकार के निर्देशानुसार कोई समस्या सामने नहीं आ रही है। हालांकि लॉकडाउन की वजह से कटाई में देरी जरूर हुई है, क्योंकि लोग पुलिस प्रशासन के भय से खेतों में जाने से डर रहे थे लेकिन अब कोई समस्या नहीं है। खेत में मड़ाई करा थे किसान छोटू राजावत ने बताया कि मौसम का मिजाज बार बार बदल रहा है। तेज धूप के बाद बादल छाने से फसल को लेकर चिंताएं बढ़ जाती है।

आसपास क्षेत्र में कहीं कहीं बूंदाबांदी भी हुई है। हालांकि यहां कुछ खास नहीं हुई। फिर भी कहीं मेहनत पर पानी न फिर जाए इसलिए हमलोग दिन रात काम कर रहे है ताकि पूरे साल का गल्ला सुरक्षित कर लें। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा कृषि कार्यों में राहत देने से कामकाज निपटाने में कोई व्यवधान नहीं हो रहा है। हम लोग सोशल डिस्टेंस बनाकर ही खेतों में काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि आदेश होने के बाद पुलिस प्रशासन द्वारा भी कृषि कार्य के दौरान अनाज लेे जाने वाले ट्रैक्टर को भी नहीं रोका जा रहा है इससे काफी आराम है।

COVID-19
Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned