CM का भ्रष्टाचार पर प्रहार, 24 घंटे के अंदर 3 पर FIR

Vinod Nigam

Publish: Nov, 15 2018 05:15:56 PM (IST)

Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

कानपुर। प्रदेश की बागडोर संभालने के बाद सीएम योगी आदित्यनाथ ने ऐलान किया था कि भ्रष्टाचार व भ्रष्टाचारियों की सुबे में कोई जगह नहीं है। वो सुधर जाएं नही ंतो हम उन्हें सुधार देंगे। इसी के बाद से यूपी में कई अधिकारी करप्शन के आरोप में जेल भेजे गए। कानपुर में पिछले 24 घंटे के अंदर दो सरकारी बाबुओं पर गाज गिरी है। यूपीएसआईडीसी के डिप्टी मैनेजर सुधीर कुमार कनौजिया के खिलाफ कल्याणपुर में आय से अधिक की संपत्ति का मामला दर्ज हुआ तो वहीं बुधवार को इंडसइंड बैंक की सिविल लाइन्स के शाखा प्रबंधक और कैशियर पर गबन की एफआईआर ग्वालटोली थाने में दर्ज हुई है। इसके पहले 42 कोटेदारों के अलावा चार पूर्तिनिरीक्षकों पर शासन के आदेश के बाद डीएम ने कार्रवाई की थी।

इसलिए दर्ज हुई
सिविल लाइंस स्थित बैंक शाखा में प्रबंधक अमित शुक्ला व कैशियर राहुल तिवारी के पास नकदी के लेनदेन का अधिकार था। बीती 26 अक्टूबर को बैंक के रीजनल हेड देबांजन गुहा ने बैंक शाखा के खजाने का निरीक्षण किया। उस समय खजाने में मात्र 29,93,237 रुपये मिले, जबकि लेखा बहियों के मुताबिक 4,41,33,657 रुपये होने चाहिए थे। इस हिसाब से 4,11,40,420 रुपये कम निकले। रिपोर्ट के मुताबिक मौके पर मौजूद कैशियर ने अधिकारियों को बताया कि यह धनराशि बिना किसी लिखापढ़ी के 10 अक्टूबर से 25 अक्टूबर के बीच हिनिश रामचंदानी नाम के शख्स को सौंपी गई है। जो उसने वापस नहीं किया। खजाने में तीन चेक भी रखे मिले हैं। शाखा प्रबंधक ने भी बैंक अधिकारियों के सामने यही बात स्वीकार की। इसके बाद 26 अक्टूबर को ही शाखा प्रबंधक ने बैंक में 10 लाख रुपये और दो नवंबर को 65 हजार रुपये जमा कराए।

4 फीसदी ब्याज पर दे दी रकम
बैंक प्रबंधक ने ग्राहकों की जमापूंजी को चार फीसदी ब्याज पर लोगों को दे रखी थी। इसके बदले वो ब्याज के रूप् में हर माह दस से पंदह लाख रूपए कमाता था। प्रबंधक के साथ कैशियर भी मिला हुआ था। एसएसपी अनंत देव तिवारी के मुताबिक बैंक की ओर से मिली तहरीर के आधार पर शाखा प्रबंधक और कैशियर के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। जांच कर आगे की कार्रवाई की जाएगी। गबन की बात पहले भी सामने आयी लेकिन उस समय किसी ने गौर नहीं किया था। वहीं आरोपी बैंक मैनेजर कुछ भी बोलने से इंकार कर दिया।

तीनों हो सकते हैं गिरफ्तार
पुलिस ने यूपीएसआईडीसी के डिप्टी मैनेजर सुधीर कुमार कनौजिया, बैंक के शाखा प्रबंधक अमित शुक्ला व कैशियर राहुल तिवारी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। सूत्रों की मानें तो पुलिस एक-दो दिन के अंदर तीनों अधिकारियों को अरेस्ट कर सकती है। तीनों के खिलाफ जांच में अहम सुराग पुलिस के हाथ लगे हैं। कनौजियां इस वक्त गाजियाबाद में तैनात हैं। इनके खिलाफ पांच साल पहले आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने का मामला सामने आया था। यूपी सतर्कता विभाग ने कुछ दिन जांच के बाद फाइल बंद कर दी थी। लेकिन योगी सरकार आने के बाद दोबारा पूरे मामले पर जांच की गई तो कनौजिया को जांच टीम ने दोषी पाया।

राशन घोटाला
पिछले दिनों खाद्य आपूर्ति विभाग में लाखों रुपए का महा घोटाला सामने आया था। गरीबों के राशन का हक मारकर लाखों रुपए के इस घोटाले में राशन वितरित करने वाले 42 कोटेदारों के अलावा आधा दर्जन सप्लाई इंस्पेक्टर शामिल होने की बात सामने आई थी। इस घोटाले से 40,65,250 रुपए की चपत सरकार को लग चुकी है। जब शासन स्तर पर कानपुर के राशन वितरण के जुलाई महीने के डाटा को फिल्टर किया गया तो पाया गया कि 42 कोटेदारों ने एक राशन कार्ड पर एक ही आधार कार्ड से सैकड़ों बार राशन निकाला । इसकी जांच की गई तो पूरा ’खेल’ खुल गया। जिसके बाद डीएम ने सभी 42 कोटेदारों के खिलाफ एफआईआर कराने के आदेश दिए.थे।

 

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned