एक स्मार्ट फोन ने युवक को पहुंचा दिया क्राइम ब्रांच के पास, लग रहे गंभीर आरोप, गरीब मां बाप के ऐसे हैं हाल

Arvind Kumar Verma

Publish: Mar, 17 2019 02:37:42 PM (IST)

Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

कानपुर देहात-बेटे की गलती बस इतनी ही थी कि उसने अपने शौक के लिए पुराना एंड्रॉयड फोन खरीद लिया था। बस फिर क्या जिले की क्राइम ब्रांच टीम ने उसे उठा लिया। दरअसल वह फोन चोरी किया हुआ था। मामला जनपद कानपुर देहात का है, जहां पर एक गरीब बेबस परिवार आंसू बहाने के लिए मजबूर है। इस परिवार का दर्द न तो जिले के अधिकारियों को दिख रहा है, न ही इन बूढ़े माँ बाप का अपने बेटे के लिए दर्द और तड़प। बहरहाल बेटे नरेंद्र के स्मार्ट फोन के शौक ने पूरे परिवार को मुसीबत में डाल दिया है। दोस्त से सेकेण्ड हैंडफोन लेना दोस्त को महंगा पड़ गया। क्योंकि फोन चोरी का निकलने पर कानपुर देहात पुलिस को युवक को उठाने का मौका मिल गया।

 

20 हजार रुपये का आरोप

बताया गया कि 3 दिन से क्राइम ब्रांच कानपुर देहात पुलिस नरेंद्र के साथ अपराधियों जैसा व्यवहार कर रही है। वहीं दूसरी ओर बूढ़े गरीब माँ बाप का रो-रोकर बुरा हाल है। इस बीच कानपुर देहात क्राइम ब्रांच के नाम पर अकबरपुर के अली नाम के शख्स ने पूरा फायदा उठाया। उसने बेटे को छुड़ाने का आश्वासन देकर 15 हजार रुपये ले लिए। काफी समय बीत जाने के बाद भी पैसे लेने के बाद भी युवक क्राइम ब्रांच की पकड़ से नहीं निकल सका है। अब वही अली नाम का युवक कानपुर देहात क्राइम ब्रांच के नाम पर अभी और 20 हजार रुपये मांग रहा है। चर्चा से पता चला कि अली नाम का युवक क्राइम ब्रांच का पक्का मुखबिर है। जिसका कहना है कि अगर रकम नही दी तो युवक नही छूटेगा। सच बात तो यह है कि यह युवक, जो पुलिस के आड़ में यूपी पुलिस को बेचने का काम कर रहा है।

 

समाजसेविका ने अफसरों से की शिकायत

वहीं जिले के अधिकारियों को जब मीडिया ने इस घटना की जानकारी दी तो पल्ला झाड़ते नजर आये। स्पष्ट यह है कि जिले का कोई भी अधिकारी क्राइम ब्रांच की इस कार्यगुजारी पर बोलना नहीं चाहता है। जबकि नियमानुसार 24 घंटो से ज्यादा पुलिस किसी अपराधी व निर्दोष को कस्टडी में पूंछतांछ के लिए नही रख सकती है, लेकिन कानपुर देहात क्राइम ब्रांच सारे नियमो को ताक पर रखकर अपने ढंग से काम कर रही है। वहीं दूसरी ओर इस खबर के वायरल होने के बाद कानपुर देहात पुलिस में फिलहाल हड़कंप सा मच गया है। लेकिन सच तो यही है कि उन बेचारे बूढ़े मां बाप का दर्द सुनने वाला कोई रहनुमा नहीं दिख रहा है। इसकी भनक लगते ही जिले की समाजसेवी कंचन मिश्रा ने पुलिस के उच्चाधिकारियों को इस मामले से अवगत कराते हुए न्यायोचित कार्रवाई करने की मांग की है। इस पर अफसरों ने आश्वासन भी दिया है।

 

तो क्या युवक अपराधी साबित होगा

दरअसल यह मामला कानपुर देहात के थाना अकबरपुर क्षेत्र के अल्मापुर गाव का है, जहां पर बेबस बूढ़े माँ बाप अपने बेटे के लिए आंसू बहाने के लिए मजबूर है। आज तीन दिन गुजर चुके हैं, लेकिन इनका लाल नरेंद्र कानपुर देहात क्राइम ब्रांच की गिरफ्त में है। क्योंकि बेटे के स्मार्ट फोन की चाह ने पूरे गरीब बेबस परिवार को मुसीबत में डाल दिया है और इस परिवार की कोई सुनने वाला नही है। वहीं दूसरी ओर ये गमजदा परिवार भूखा प्यासा आंसू बहाने के लिए मजबूर है। अब देखने वाली बात ये होगी कि 20 हजार रुपये की व्यवस्था इस मजबूर परिवार के पास न होने पर क्या बेटा अपराधी साबित होगा।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned