स्वस्थ रहना है तो अपनी सोच रखिए सकारात्मक

स्वस्थ रहना है तो अपनी सोच रखिए सकारात्मक

Alok Pandey | Publish: Mar, 17 2019 12:20:46 PM (IST) | Updated: Mar, 17 2019 12:20:47 PM (IST) Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

सेहत सुधरने के साथ कामयाबी भी दिलाती है अच्छी सोच
नकारात्मक विचार असफलता दिलाने के साथ देते बीमारी भी

कानपुर। एक अच्छी सोच बेहतर भविष्य की राह दिखाती है और सकारात्मक विचार मन को खुश रखते हैं। जिससे सेहत भी दुरुस्त रहती है। कई बड़ी संस्थाओं के सर्वे में यह बात सामने आयी है कि अगर सेहतमंद रहना है तो सोच बदलें और बेहतर सोंचे। अच्छा सोचेेंगे तो इसका असर आपके काम पर पड़ेगा और सफलता भी मिलेगी। इससे जीवन भी सुधरेगा। मतलब सेहत का सीधा संबंध सोच से है। तनावग्रस्त रहने से शरीर कई बीमारियों से घिर जाता है।

तनाव से मिलतीं बीमारियां
यह बात को मेडिकल साइंस भी बताता है कि तनावग्रस्त रहने से शरीर में कई बीमारियां पनपती हैं। तनाव लेने से शरीर में हार्मोंस बदलते हैं और एसिडिटी होती है, जिससे भोजन की नली का कैंसर भी हो सकता है। तनाव ही किडनी की बीमारी का कारण भी बनता है। दिल की बीमारियां भी तनाव से ही होती हैं। यानि शरीर की कई बड़ी परेशानियां तनाव की ही देन हैं।

नकारात्मकता से मिलती असफलता
आप चाहे कुछ भी कर लें, किनती भी मेहनत कर लें, अगर आप मन से हार चुके हैं और आपने सोच लिया है कि दिन नहीं सुधरेंगे तो सचमुच बिल्कुल नहीं सुधरेंगे। कोई चमत्कार कभी जीवन नहीं बदलता, इसके लिए आपको अपनी सोच में बदलाव लाना जरूरी है। विपरीत सोच आपको कभी सफल नहीं होने देती, मन मानता ही नहीं कि कामयाबी मिलेगी तो कामयाबी के लिए पूरी कोशिश भी नहीं हो पाती है।

खुशी से मिलती कामयाबी
अमेरिका के कंसास विश्वविद्यालय का अध्ययन बताता है कि दिखावटी मुस्कुराहट भी दिल की धड़कन और रक्तचाप को कम करने में मददगार साबित होती है। इसलिए हर दिन कुछ मिनट की ह्यूमर थेरेपी जरूरी है। साइकोलॉजिकल बुलेटिन का सर्वे बताता है कि सफलता से खुशियां आती हैं, लेकिन सच्चाई यह है कि खुशियों से ही हमें सफलता मिलती है। अमेरिका के करीब दो लाख से अधिक लोगों पर हुए सर्वे के मुताबिक खुश रहने वाले लोग आशावादी विचारों से सफलता हासिल करते हैं।

सोच से बदलता जीवन
हम जैसा सोचते हैं, जीवन वैसा बन जाता है। अगर एक ही विचार को दिन-रात सोचना जारी रखेंगे तो वह आपकी सच्चाई बन जाएगा। सकारात्मक लोग विपरीत परिस्थितियों का मुकाबला बेहतर तरीके से करते हैं। उम्मीदें और सकारात्मकता सेहतमंद बनाती हैं और सही निर्णय लेने में मदद करती है। बाहरी परिस्थितियों को हमेशा नियंत्रित नहीं किया जा सकता। लेकिन, आंतरिक विचारों पर काबू रखा जा सकता है। अगर जिंदगी से नाखुश हैं, तो सोचने और महसूस करने का तरीका बदलिए। दिमाग को सीमाओं से परे जाकर विस्तृत दायरे में सोचने दें।

 

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned