जय बाजपेयी की संपत्तियों पर लगा सरकारी ताला, पत्नी ने जमकर निकाली भड़ास

हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे (Vikas Dubey) के खंचाजी रहे जय बाजपेयी की चार अचल संपत्तियों को जब्त कर लिया गया है। इन संपत्तियों पर सरकारी ताला लगाकर सील कर दिया गया है, जिससे कि जय बाजपेयी का पूरा परिवार सड़क पर आ गया है।

By: Karishma Lalwani

Updated: 07 Sep 2020, 10:49 AM IST

कानपुर. हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे (Vikas Dubey) के खंचाजी रहे जय बाजपेयी की चार अचल संपत्तियों को जब्त कर लिया गया है। इन संपत्तियों पर सरकारी ताला लगाकर सील कर दिया गया है, जिससे कि जय बाजपेयी का पूरा परिवार सड़क पर आ गया है। इस दौरान जय बाजपेयी की पत्नी श्वेता ने पुलिस पर जमकर भड़ास निकाली है। उनका आरोप है कि उनके पति की गलत छवि मीडिया में दिखाकर उन्हें बदनाम करने की कोशिश की गई है।

रविवार को प्रशासनिक टीम कई थानों की फोर्स और पीएसी के साथ जय बाजपेई के मकान पर पहुंची। मकान में रह रहे किराएदार शनिवार देर रात ही अपना सामान समेटकर वहां से चले गए थे। जिला प्रशासन ने तीन मकानों पर ताला लगाकर सील की मोहर लगा दी। चारों भाइयों के जेल जाने के बाद उनकी पत्नियां और बच्चे उस मकान में रह रहे थे, जिसमें जय की मां प्रसून बाजपेई रह रही थीं। जिला प्रशासन की टीम मकान को जब्त करने के लिए पहुंची। प्रशासनिक टीम ने कार्रवाई करते हुए परिवार के सभी सदस्यों को घर से बाहर किया और संपत्ति को सील कर दिया।

इस दौरान पुलिस पर अपनी भड़ास निकालते हुए जय बाजपेयी की पत्नी श्वेता ने कहा कि उनके पति के बारे में सही बातें नहीं लिखी गईं। अगर सही बातें लिखी जातीं, तो आज वो यहां खड़ी नहीं होती। श्वेता ने घर के पड़ोस में रहने वाले एक अधिवक्ता पर आरोप लगाते हुए कहा, 'वह मेरे पति के पीछे पड़ा हुआ था। उसी की वजह से यह सब हुआ है।'

'बिना नोटिस की गई कार्रवाई'

श्वेता ने बताया, 'विकास दुबे के पड़ोस में हमारा गांव है। सिर्फ हमारा इतना ही संबंध था। वह कभी हमारे घर नहीं आया और ना ही हम लोग वहां गए। पुलिस ने कहा कि फर्जी कहानी बताकर पति को जेल भेज दिया। हमसे किसी तरह का सबूत नही मांगा गया, बिना नोटिस दिए ही जब्त करने के लिए आ गए।'

बता दें कि जय बाजपेयी और उनके भाइयों ने कोर्ट में सरेंडर कर दिया है। कानपुर पुलिस ने जय बाजपेयी और उनके भाइयों की संपत्ति को लेकर रिपोर्ट तैयार की थी। इसमें जब्तीकरण को लेकर भी विवरण दिया गया था और यह कहा गया था कि जय और उसके भाइयों ने अपराध के जरिए संपत्ति अर्जित की है। पुलिस ने रिपोर्ट बनाकर डीएम आलोक तिवारी को सौंपी थी। इस रिपोर्ट पर डीएम ने संपत्ति जब्त करने का आदेश दे दिए थे। इन संपत्तियों में 8 भवन व भूखंड, 5 बाइकें, एक स्कूटी और 6 लग्जरी कारें शामिल हैं।

ये भी पढ़ें: राजधानी में बरसेंगे बदरा, मौसम विभाग की भविष्यवाणी, जानें कहां-कहां होगी बारिश

Karishma Lalwani
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned