विकास दुबे के करीबी माने जाने वाले गुड्डन त्रिवेदी का सपा को लेकर अटकलें हुईं तेज, तो पार्टी के इन नेताओं ने किया खंडन

दरअसल गुड्डन त्रिवेदी को सपा नेता बताए जाने को लेकर अटकलें तेज हो गई थीं।

By: Arvind Kumar Verma

Published: 07 Jul 2020, 11:41 PM IST

कानपुर देहात-मोस्ट वांटेड अपराधी विकास दुबे के साथी जिला पंचायत सदस्य अरविंद उर्फ गुड्डन त्रिवेदी को सपा नेता बताए जाने को लेकर अटकलें तेज हो गई थीं। जिस पर समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष प्रमोद यादव ने बताया कि टीवी और सोशल मीडिया पर चल रही ख़बरें गलत हैं। उन्होंने टीवी वी सोशल मीडिया पर चल रही खबरो का खंडन किया है। उन्होंने कहा गुड्डन कभी भी पार्टी के सदस्य ही नहीं रहे हैं। दरअसल कानपुर मगर के विकरू गांव में गैंगस्टर विकास दुबे को पकड़ने गई पुलिस के 8 जवान मुठभेड़ में शहीद हो गए। जिसके बाद से पुलिस लगातार विकास दुबे की हिस्ट्री खंगाल रही है।

आरोपी की गिरफ्तारी के लिए पुलिस कानपुर देहात में भी विकास के सगे संबंधियों सहित उसके राजनैतिक करीबियों के बारे में भी जानकारी जुटा रही है। फिलहाल फरार चल रहा विकास दुबे पुलिस के लिए इस समय चुनौती बना हुआ है। यही वजह है कि वांटेड अपराधी विकास दुबे को ढूंढने के लिए पुलिस ने इनाम की रकम 1 लाख से बढ़ाकर ढाई लाख भले ही कर दी हो, लेकिन वह अभी भी पुलिस की पकड़ से दूर है। हालांकि पुलिस फरार चल रहे विकास दुबे के रिश्तेदारों व करीबियों के घरो में छापेमारी कर रही है।

कानपुर देहात जिले में क्राइम ब्रान्च की टीम ने एक दिन पहले जिला पंचायत सदस्य गुड्डन त्रिवेदी के घर छापा मारा, जहां उसके नौकरों को पूछताछ के लिए उठाया गया था, लेकिन गुड्डन सिंह का नाम सपा के नेता के रूप में बताया। वहीं सपा के जिलाध्यक्ष प्रमोद सिंह यादव एवं सपा जिला पंचायत अध्यक्ष रामसिंह यादव ने इस बात का खंडन किया और कहा कि हमारी पार्टी में अपराधियों का कोई भी नाता नही है।गुड्डन सिंह ने बीएसपी से जिला पंचायत सदस्य का चुनाव जगनपुर से लड़ा था। यह सब पार्टी को बदनाम करने की कोशिश की जा रही है।

Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned