कहीं खुद ही बीमार न पड़ जाएं जूनियर डॉक्टर, दे सकते इस्तीफा

कहीं खुद ही बीमार न पड़ जाएं जूनियर डॉक्टर, दे सकते इस्तीफा

Alok Pandey | Publish: May, 22 2019 12:39:43 PM (IST) | Updated: May, 22 2019 12:39:44 PM (IST) Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

सीनियरों की रैगिंग से ज्यादा रेजीडेंट के रवैए से परेशान जूनियर डॉक्टर,
न पीने को पानी, न टॉयलेट का इंतजाम, बस काम, काम और काम

कानपुर। मेडिकल कॉलेज के एक जूनियर डॉक्टर ने भले ही सीनियरों की रैगिंग से तंग आकर इस्तीफा दे दिया हो, पर कई जूनियर डॉक्टर ऐसे हैं जो बदइंतजामी और रेजीडेंट के रवैए से परेशान हैं। उन्हें डर है कि कहीं वे ही बीमार न हो जाएं, इसलिए इस्तीफा देने का मन बना रहे हैं। नर्क जैसे हालातों के बीच कई-कई घंटे बिना आराम किए वह मरीजों के ट्रीटमेंट में लगे रहते हैं।

पानी और टॉयलेट का इंतजाम नहीं
हैलट के जूनियर डॉक्टरों के लिए अस्पताल में कोई व्यवस्थाएं नहीं हैं। न उनके लिए पीने का साफ पानी है और न ही टॉयलेट। वे मरीजों का टॉयलेट इस्तेमाल कर रहे हैं। कई-कई घंटे बिना रुके काम करने से उनकी सेहत बिगडऩे लगी है। उनके अंदर भरा गुस्सा मरीजों से बातचीत के दौरान साफ झलकता है। यह गुस्सा मरीजों के लिए नहीं बल्कि अस्पताल की व्यवस्थाओं के लिए है।

कमरों में नर्क जैसे हालात
जूनियर डॉक्टरों के कमरे बुरी हालत में हैं, जहां आराम करना तो दूर वे बैठना भी नहीं चाहते। इसलिए वार्डों में ही वक्त काटते हैं। कमरों में न पंखे हैं और न ही सफाई। हालांकि जूनियर डॉक्टरों की शिकायत पर प्राचार्य डॉ. आरती लालचंदानी से स्थितियां सुधारने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा है कि कमरों में सफाई कराकर सारी व्यवस्थाएं सही कराई जाएं।

रेजीडेंट डाल देते काम का बोझ
वार्डों में सारा काम जूनियर डॉक्टर ही संभाल रहे हैं। रेजीडेंट अपना भी काम जूनियर डॉक्टरों के जिम्मे सौंप देते हैं। इसके बावजूद रेजीडेंट जूनियर डॉक्टरों से ढंग से बात तक नहीं करते। सख्ती बरतते रहते हैं। इसे देखते हुए सर्जरी विभागाध्यक्ष डॉ. संजय काला ने रेजीडेंट डॉक्टरों को निर्देश दिए हैं कि वे जूनियर डॉक्टरों के साथ नरमी से पेश आएं।

काम का रोस्टर किया तैयार
जूनियर डॉक्टरों पर काम का अधिक लोड न पड़े, इसलिए उनके काम का रोस्टर तैयार किया गया है। इस रोस्टर में सुप्रीम कोर्ट के निर्देशों का पालन किया गया है। जिसके मुताबिक हर जूनियर डॉक्टर सप्ताह में सिर्फ ४८ घंटे ही काम करेगा। इसके अलावा १२ घंटे की उसकी इमरजेंसी ड्यूटी रहेगी। जो जूनियर डॉक्टर रात की शिफ्ट करेगा, उसे दिन में आराम दिया जाएगा।

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned