मुलायम के लिए हनुमान मंदिर में समर्थकों ने किया यज्ञ

मुलायम के लिए हनुमान मंदिर में समर्थकों ने किया यज्ञ

Vinod Nigam | Updated: 10 Jun 2019, 01:24:31 PM (IST) Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India


कुड़नी हमुमान मंदिर में मुलायम समर्थकों ने उनके स्वास्थ्य लाभ के लिए की पूजा-अर्चना, साथ आएं अखिलेश और शिवपाल।

कानपुर। समाजवादी पार्टी के सरंक्षक मुलायम सिंह यादव होने की खबर जैसे ही लोगों को हुई तो हड़कंप मच गया। इस बीच देरशाम बिधनू थानाक्षेत्र के कुड़नी गांव में स्थित एतिहासिक हनुमान मंदिर में उनके समर्थकों ने हवन-पूजन के साथ यज्ञ कर उनकी स्वास्थ्य लाभ के लिए मंन्नत मांगी। कठेरूआ निवासी बड़की और छुटकी यादव ने कहा कि नेता जी ने देश व प्रदेश के लोगों के लिए बहुत कार्य किए हैं। नेता जी अब बीमार न हो सके लिए हमनें भगवान बजरंगबली के दर पर हाजिरी लगाई है।

रविवार को अस्पताल में एडमिट
समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव को ब्लड शुगर के उच्च स्तर के कारण रविवार को लखनऊ स्थित राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में भर्ती कराया गया था। जहां डॉक्टर्स ने उनके टेस्ट किए। रिपोर्ट सामान्य आने के बाद डॉक्टर्स ने मुलायम सिंह यादव को छुट्टी दे दी। पर अपने नेता की बीमारी की खबर से उनके सैकड़ों समर्थक रो पड़े। इसी बीच कठेरूआ और आपपास के सैकड़ों ग्रामीण कुड़नी हनमान मंदिर जाकर पूला-पाठ किया। समर्थकों ने भगवान बजंरग बली के दर पर माथा टेकर मुलायम सिंह को पूरी तरह से स्वस्थ्य होने की कामना की।

फिलहाल नेता जी की तबियत ठीक
समाजवादी पार्टी के नगर अध्यक्ष मुईन खान ने बताया कि मुलायम सिंह हाइपर ग्लाइसीमिया (हाइपर टेंशन) और हाइपर डायबिटीज की बीमारी से ग्रसित हैं। रविवार को मुलायम सिंह यादव की तबीयत बिगड़ गई थी। दोपहर में उनका मुंह सूख रहा था और उन्हें दिक्कत महसूस हुई। जिसके बाद शाम में करीब 5 उन्हें लोहिया इंस्टिट्यूट में भर्ती करवाया गया। जांच में ब्लड शुगर हाई मिला था। फिलहाल वो पूरी तरह से ठीक हैं।

हार के बाद मुलायम सक्रिय
गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव में बीएसपी से गठबंधन के बावजूद समाजवादी पार्टी को मिली करारी हार के बाद से मुलायम सिंह यादव सक्रिय हो गए हैं। समाजवादी पार्टी के निराशाजनक प्रदर्शन को देखते हुए मुलायम सिंह यादव ने पुत्र अखिलेश और अपने भाई शिवपाल के बीच सुलह कराने की एक बार फिर कोशिश की। पार्टी सूत्रों ने बताया कि मतभेद दूर करने के लिए पिछले कुछ दिन में मुलायम ने अखिलेश, शिवपाल और पूरे कुनबे से मुलाकात की।

अखिलेश-शिवपाल आएं साथ
बड़की यादव ने कहा कि मुलामय सिंह ने समाजवादी पार्टी की नींव रखी। गरीब, मजदूर और किसानों के मुलायम सिंह नेता थे। उनकी रैली में ग्रामीण अपने-अपने घरों में तालाबंद कर जाया करते थे। रैली के दिन गांवों में ग्रामीणों के घर पर चूल्हे नहीं जलते थे। पर अखिलेश यादव , शिवपाल यादव और प्रोफेसर रामगोपाल ने नेता जी के अलावा हमसैसे हजारों लोगों को निराश किया है। नेता जी की बीमारी की वजह कुछ हद तक सपा के नेता हैं। अखिलेश यादव अब चेत जाएं और नेता जी के बताए रास्ते पर चलते हुए शिवपाल यादव के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलें।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned