प्रधानाध्यापिका बोली मुझ पर बनाया जा रहा दबाव, और फिर वह रोने बिलखने लगी

इलाज के बाद डॉक्टर ने आराम करने की सलाह देकर घर भेज दिया था।

By: Arvind Kumar Verma

Published: 26 Aug 2020, 05:36 PM IST

Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

कानपुर देहात-जनपद में सरकारी स्कूल की प्रधानाध्यापिका ने बीएसए पर प्रताड़ित करने और भ्रष्टाचार करने का दबाव बनाने का आरोप लगाया है। आहत प्रधानाध्यापिका ने स्कूल में बने कमरों में खुद को बन्द कर लिया। प्रधानाध्यापक लता अग्निहोत्री ने बताया कि बीएसए ने अपने चहेते ठेकेदारों द्वारा विद्यालय में फर्नीचर भिजवा दिया। फर्नीचर स्कूल में टूटा उखड़ा हुआ भेजा गया था। बीएसए फर्नीचर का भुगतान चेक से करने का दबाव बना रहे हैं। भुगतान करने से मना किया तो बीएसए द्वारा वेतन वृद्धि रोक दी गई और विभागीय कार्रवाई किए जाने की बात कहकर मानसिक प्रताडऩा दी जा रही है। विद्यालय फंड से पांच हजार की चेक काटे जाने का दबाव बनाया जा रहा है। शिक्षिका का डर के साए में रो रोकर बुरा हाल है।

मामले की जांच करने खंड शिक्षा अधिकारी उदय कटियार स्कूल पहुंचे। जब प्रधानाध्यापक लता अग्निहोत्री से प्रकरण के संबंध में पूछा गया तो उन्होंने बीएसए के उत्पीडऩ का मामला बताया। उन्होंने कहा कि उनसे भृष्टाचार कराने का दबाव बनाया जा रहा है। प्रधानाध्यापक के मामले से वह खुद हैरत में हैं। प्रधानाध्यापक को सात दिन के लिए आराम करने के लिए अवकाश दे दिया है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned