370 करोड़ खर्च फिर भी कानपुर में बारिश का कर्फ्यू

370 करोड़ खर्च फिर भी कानपुर में बारिश का कर्फ्यू

Vinod Nigam | Updated: 11 Jul 2019, 01:50:42 PM (IST) Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

5 दिन पहले शुरू हुई बारिश गुरूवार की सुबह तक जारी है, जिसके कारण शहर अस्त.व्यस्त हो गया है और लोग घरों के अंदर कैद हैं।

कानपुर। पिछले पांच दिन से रूक-रूक हो रही रिमझिम बारिश ने मूसलाधार रूप धारण किया तो पूरा शहर जलमग्न हो उठा। हालात ये कि नाले-नालियां और सड़कें सभी एक हो गए। जिसके कारण लोग अपने-अपने घरों के अंदर कैद हो गए तो वहीं सड़कों में सिर्फ आवारा मवेशी और जलीय पक्षी ही दिखाई दिए। नगर निगम ़द्धारा समुचित तैयारी न होने से शहरवासियों को इसका खामियाजा भुगतना पड़ा। नाले उलट पड़े और उनका सारा कचरा सड़कों पर बहने लगा। सड़कों पर घुटनों तक लगे पानी ने उसे ही नाले का रूप दे डाला। भारी बरसात के कारण सभी ने आड़ देख ठिठक लिया। दुकानदार अपनी दुकानों में दुबके रहे। ऐसा लगा जैसे बारिश ने कस्बे में कर्फ्यू लगा दिया हो। बतादें जलभाराव समेत अन्य कार्यो के लिए नमामि गंगे योजना के तहत 370 करोड़ रूपए सरकार ने दिए थे, बावजूद पूरा शहर लबालब है। इससे आशंका है कि ये पैसा पानी में कहीं डूब तो नहीं गया।

 

heavy  <a href=rain is causing problem for people in kanpur" src="https://new-img.patrika.com/upload/2019/07/11/w01_4822160-m.jpg">

पूरा शहर पानी से तर-बतर
नगर निगम प्रशासन के चलते करीब तीस लाख लोग बारिश के पानी के चलते प्रभावित हुए। नौकरीपेशा वाले लोग व स्कूली बच्चे जलभराव के जरिए कार्यालय व स्कूल पहुंचे तो वहीं ठेले के जरिए अपना पेट भरने वाले दुकानदार घरों के अंदर रहे। विभिन्न इलाकों में हुए जलभराव के बाद एक बात साफ हो गई है कि नमामि गंगे परियोजना के तहत सीवर लाइनों की हो रही सफाई में बड़ा खेल हुआ है। जो प्रोजेक्ट शहर में सीवर व जलभराव से मुक्ति के लिए था, उसका फाएदा क्यों नहीं हुआ। आशंका है कि इस परियोजना में खर्च हो रही 370 करोड़ की रकम भी डूब न जाए।

 

heavy rain is causing problem for people in kanpur

पिछली साल सड़कों में चली थीं नाव
लोगों के सामने सबसे बड़ा भय यह कि अगर बारिश इसी तरह होती रही तो कुछ ही घंटों बाद दुकानों व घरों में पानी घुस जाएगा। कई निचले मुहल्ले जलमग्न हो जाएंगे। फिलहाल सफाई न होने के चलते कूड़ा व गंदा पानी लोगों के घरों के सामने जमा है। सबसे ज्यादा भयभीत वे हैं जिनके मकान गंगा के निकारे के अलावा मकड़ीखेड़ा में बने हैं। 2018 में बारिश के चलते पूरा इलाका पानी में डूब गया था। लोग आने-जाने के लिए नाव का सहारा लेना पड़ा था। वकील दीप कहते हैं कि हम परिवार समेत मकड़ीखेड़ा से निकलकर अपने दोस्त के घर में शरण ले रखी है। पिछले साल से ज्यादा इस वर्ष मकड़ीखेड़ा की स्थित खराब है।

 

heavy rain is causing problem for people in kanpur

इन इलाकों में पानी ही पानी
खलासी लाइन समेत आसपास के इलाकों में भी जलभराव की समस्या से लोग परेशान हैं तो वहीं ग्रीन पार्क के आसपास पानी भर गया। घरों में पानी भर जाने से लोग कैद हो गए। सर्वोदय नगर, काकादेव, पी रोड, चावला मार्केट, गांधीग्राम, गांधीनगर, श्याम नगर, यशोदा नगर, रावतपुर, अफीम कोठी, लक्ष्मी पुरवा समेत कई इलाकों पानी भर गया। बारिश ने विभागों की लापरवाही की पोल खोल दी। आयकर भवन और उसके बाहर की सड़क जलमगन हो गई। राहगीर व वाहन सवारों को पानी के बीच से गुजरने में समस्या का सामना करना पड़ा। सबसे बड़ी समस्या से साउथ की हैं। यहां के अधिकतर इलाके जलमंग्न हैं।

 

heavy rain is causing problem for people in kanpur

विधायक ने नगर आयुक्त को दी नांव
बारिश में हुए भारी जलभराव के दौरान लोगों को हुई मुश्किलों को लेकर आर्यनगर विधायक अमिताभ बाजपेई जमकर बरसे। विधायक ने कहा कि सड़कों पर इतना जलभराव उनकी यादाश्त में कभी नहीं हुआ। नाला सफाई के कार्य को गंभीरता से नहीं लिया गया। हजारों वाहन पानी में फंस गए और लोगों के घरों और दुकानों में पानी भर गया। उनका कहना था कि हकीकत में नालों की आधी-अधूरी सफाई ही हुई। कहा कि केंद्र सरकार की नमामि गंगे परियोजना की नाकामी साबित हुई है। पाइप लाइनों में लगाया गया रोका हटाया ही नहीं गया। अधिकांश लाइनों को साफ ही नहीं किया गया। विधायक ने नगर विकास मंत्री को संबोधित एक ज्ञापन के अलावा नमामि नकामि योजना रूपी एक नाव नगर आयुक्त को सौंपी, जिसमें नाला सफाई की जांच पावर कमेटी से कराने की मांग की गई।

 

heavy rain is causing problem for people in kanpur

कांग्रेस ने कमिश्नर को दिया ज्ञापन
कांग्रेस के नगर अध्यक्ष हर प्रकाश अग्निहोत्री जलभराव को लेकर अपने समर्थकों के मंडलायुक्त से मिलकर उन्हें एक ज्ञापन दिया। नगर अध्यक्ष ने कहा कि नगर निगम और प्रशासनिक अधिकारियों ने बारिश के पहले बड़े-बड़े दावे किये गये थे। जिसमें कहा गया था कि अबकी बार जलभराव नहीं होगा लेकिन हुआ इसका उल्टा। बारिश से पूरा शहर जलमग्न हो गया और नालों से पानी नहीं निकल रहा है। ऐसे में इस भ्रष्टाचार की जांच हो और दोषियों पर सख्त कार्रवाई की जाये। नगर अध्यक्ष ने बताया कि, नालों की सफाई में पूरी तरह से लापरवाही बरती गयी है। जिससे पूरा शहर नदियों का रूप ले चुका है और सड़कों पर कूड़े के ढेर लगे हुए है। जिससे बीमारियां बढ़ने की आशंका है और पोल पर लगी लाइट्स कटिया से चलाई जा रही है। जिससे पोल में करंट भी उतर आता है, सड़कें टूटी है और गड्ढों की वजह से दुर्घटना का भी खतरा रहता है पर कोई सुनवाई नहीं होती।

 

heavy rain is causing problem for people in kanpur

सड़क पर उतरे डीएम
जलभराव की समस्या के चलते डीएम विजय विश्वास सड़क पर उतरे। कई इलाकों में जाकर निरीक्षण किया। डीएम ने चौराहे, सड़क और गलियों से जल निकासी की समुचित व्यवस्था के लिए नगर निगम, जल संस्थान, जल निगम के अधिकारियों को फटकार लगाते हुए 24 घंटे के अंदर समस्या से निजाद दिलाए जाने का आदेश दिया है। डीएम ने लोगों के लिए हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए हैं। जलभराव की समस्या आने पर लोग 0512-2526004-5 और 8601801104 नंबर पर अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं। इस दौरान डीएम ने वीआईपी रोड, ग्वालटोली , जेके मंदिर , मरियमपुर , गोविंद नगर , साकेत नगर ,नोबस्ता , महरबान सिंह का पुरवा ,गुजैनी , किदवई नगर ,बाबू पुरवा आदि क्षेत्रों का भ्रमण किया, जहां लोगों ने नगर निगम की पोल खोल दी।

 

heavy rain is causing problem for people in kanpur

अभी और बरसेंगे मेघ
चंद्रशेखर आजाद कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय के मौसम विज्ञानी डॉक्टर नौशाद खान का कहना है कि 13 जुलाई तक रुक-रुक कर बारिश होती रहेगी। बताया, इस वर्ष जून में बारिश उम्मीद से कम मात्र 45 मिमी ही रही थी। पर जुलाई में पिछले पांच वर्षों से चला आ रहा ट्रेंड जारी रहा। जुलाई में बुधवार दोपहर तक कुल 221 मिमी वर्षा रिकार्ड की जा चुकी है। अभी भी रिमझिम जारी है। जुलाई के पहले दिनों में छह रेनी डे रहे हैं। इसमें छह जुलाई को सर्वाधिक 79 मिमी बारिश रिकार्ड की गई है। पिछले पांच दिनों में 210 मिमी बारिश हुई है। नौशान खान की मानें तो जुलाई में अच्छी बारिश की उम्मीद है। वर्ष 2018 में जुलाई माह में 386 मिमी बरसात हुई थी लेकिन 2019 में यह औसत से अधिक 400-430 मिमी तक पहुंच सकती है।

heavy rain is causing problem for people in kanpur
Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned