इस कंपनी ने यहां फैलाया ऐसा जाल, लाखों रुपये का कर दिया खेल, जानिए क्या है पूरा मामला

दरअसल शिक्षित छात्रों को एलेस्ट्राम सिस्टम प्राईवेट कंपनी ने अपना शिकार बना लिया।

By: Arvind Kumar Verma

Published: 07 Jun 2019, 02:30 PM IST

Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

कानपुर देहात-शिक्षा ग्रहण करने के बाद छात्रों का एक लक्ष्य नौकरी होता है, इसके लिए छात्र भरसक प्रयास में रहते है। ऐसे भटकते छात्रों को फर्जी प्राईवेट कंपनियां नौकरी का झांसा देकर ठगी का शिकार बनाते हैं। ऐसा ही एक मामला कानपुर देहात के मंगलपुर क्षेत्र में सामने आया है, जहां शिक्षित छात्रों को एलेस्ट्राम सिस्टम प्राईवेट कंपनी ने अपना शिकार बना लिया। कंपनी के मैनेजर ने करीब 3 दर्जन छात्रों से नौकरी देने के नाम पर झांसा दिया और लाखों रुपये समेटकर उन छात्रों को कंपनी से बाहर भी कर दिया। यह देख छात्रों ने जब कंपनी के मैनेजर से संपर्क करना चाहा तो संपर्क नही हो सका। इसकी जानकारी छात्रों ने अन्य लोगों को दी। इसके बाद गुस्साए छात्र महिलाओं संग मंगलपुर थाने पहुंचे। यहां घटना की जानकारी देते हुए न्याय की गुहार लगाई। फिलहाल थाना पुलिस ने आरोपियों के विरुद्ध कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है।

 

घटना कानपुर देहात के मंगलपुर थानाक्षेत्र की है। छात्रों का आरोप है कि कंपनी के मैनेजर आरपी श्रीवास्तव व गिरजेश मिश्रा ने सरकारी नौकरी ना मिलने की वजह से भटक रहे छात्रों को नौकरी देने के झांसे में ले लिया। इसी क्रम में बैठे कई फैक्टरी और कम्पनी वाले नौकरी के नाम पर ठगी करने में लगे है। इस एलेस्ट्राम सिस्टम प्राईवेट लिमिटेड कम्पनी के मैनेजर आरपी श्रीवास्तव और गिरजेश मिश्रा ने करीब 3 दर्जन छात्रों से प्रति 70 हजार की जमानत धनराशि लेकर नौकरी देकर उन्हें अपने जाल में फंसाया।

 

हालांकि कंपनी ने उन्हें नौकरी पर रखा और 2 महीने काम करने के बाद बिना किसी नोटिस के सभी को बाहर कर दिया। इस दौरान कर्मियों ने कंपनी के अफसरों से संपर्क किया तो नही हो सका। खुद को ठगी का शिकार होता देख गुस्साए पीड़ित छात्रों और उनके साथ काम कर रही लेडीजें मंगलपुर थाने पहुंच गई। यहां थाना पुलिस को उन्होंने पूरी घटना से अवगत कराया। थानाध्यक्ष ने सभी को आश्वासन दिया कि आपका पैसा वापस करवाया जाएगा और उनके खिलाफ सख्त कार्यवाही होगी।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned