शहर के सफाईकर्मी नहीं कर सकेंगे कामचोरी, घड़ी करेगी उनकी जासूसी

शहर के सफाईकर्मी नहीं कर सकेंगे कामचोरी, घड़ी करेगी उनकी जासूसी

Alok Pandey | Updated: 20 Jul 2019, 03:16:07 PM (IST) Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

सफाईकर्मियों को हाथ पर बांधनी होगी एक खास तरह की घड़ी
नगर निगम के कंट्रोल रूम से होगी सफाई कार्य की पड़ताल

कानपुर। शहर के किस इलाके में सफाई हुई और कहंा नहीं हुई, इसकी जानकारी अब नगर निगम के कंट्रोल रूम में बैठे अधिकारियों को तुरंत मिल जाएगी। जिसके चलते अब शहर के सफाईकर्मचारी कामचोरी नहीं कर पाएंगे। अगर वे किसी इलाके में सफाई करने नहीं गए तो इसका पता चल जाएगा। इसकी जानकारी एक घड़ी देगी। यह घड़ी हर सफाई कर्मचारी की कलाई पर बंधी रहेगी। इससे उनकी लोकेशन भी पता चलती रहेगी और घड़ी के जरिए फोटो भी नगर निगम के कंट्रोल रूम में जाती रहेगी।

६००० सफाईकर्मियों को मिलेगी घड़ी
शहर के 6000 सफाई कर्मियों, सफाई निरीक्षकों और सफाई नायकों को यह घड़ी दी जाएगी। इसके लिए महापौर प्रमिला पाण्डेय के निर्देश पर नगर निगम ने बेंगलुरु की कंपनी से वार्ता की है। महापौर के सामने कंपनी ने अपना प्रेजेंटशन भी दे दिया है। सफाई के नाम पर रोजाना होने वाले खेल और कमीशनबाजी से भी यह घड़ी मुक्ति दिलाएगी क्योंकि जो सफाई नहीं करेंगे, वेतन नहीं पाएंगे।

इस घड़ी में हैं खास फीचर्स
महापौर के मुताबिक इस घड़ी में कई स्मार्ट फीचर्स हैं। मसलन ग्लोबल पोजीशनिंग सिस्टम के जरिए यह पता चलता रहेगा कि सफाई कर्मी की लोकेशन किस वक्त कहां है। झाड़ू लगाते वक्त घड़ी के जरिए फोटो भी खींची जा सकती है और वीडियो भी बनाई जा सकती है। फोटो और वीडियो लोकेशन के साथ नगर निगम के कंट्रोल रूम में पहुंच जाएंगे। मूवमेंट का भी पता चलेगा, यानि इस बात की भी तस्दीक हो जाएगी कि झाड़ू सिर्फ दिखावे के लिए लगाई गई या पूरे बीट पर ठीक से सफाई हुई है।

विवाद पर फौरन मिलेगी मदद
सफाई कर्मचारियों के साथ अक्सर दबंग लोग भिड़ जाते हैं और विवाद की स्थिति पैदा हो जाती है। ऐसी सूरत में यह घड़ी कर्मचारियों के लिए मददगार भी साबित होगी। इसमें एक बटन ऐसा होगा जिसकी कनेक्टिविटी संबंधित वार्ड के पार्षद, सफाई नायक और सफाई निरीक्षक के मोबाइल फोन से होगी। विवाद की स्थिति में जैसे ही सफाईकर्मी इस बटन को दबाएंगे, एक साथ तीन लोगों के मोबाइल फोन की घंटी बजने लगेगी। घड़ी में ही कॉल रिसीव करने की भी सुविधा होगी। यानि, मौके पर ही सफाईकर्मी बता सकेंगे कि कहां सफाई करने में दिक्कत आ रही है। ऐसे में पार्षद, सफाई निरीक्षक और सफाई नायक मौके पर पहुंच सकते हैं।

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned