लाॅकडाउन को सफल बनाने के लिए मिला ब्रम्हास्त्र, देहरी लांघने वालों को सीधे पहुंचा रहा है जेल


आईआईटी कानपुर के द्रोन के जरिए हाॅटस्पाॅट के 19 इलाकों में रखी जा रही नजर, बाहर निकलते ही पुलिस के पास पहुंच जाती है तस्वीर।

By: Vinod Nigam

Published: 23 Apr 2020, 09:05 AM IST

कानपुर। कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने पुलिस-प्रशासन ने जनपद के 19 इलाकों को हाॅट स्पाॅट घोषित कर इन्हें सील कर दिया है। संकरी गलियां होने के चलते पुलिस की नजर से बचकर कुछ लोग लाकडाउन का उल्लंघन कर रहे हैं। इनसे निपटने के लिए प्रशासन अब आईआईटी के इन नाइट विजन कैमरों के माध्यम से रात में नजर रखे हुए है।

राज्यमंत्री ने दी बधाई
शहर में कोरोना के केस बढ़ने के बाद प्रशासन ने 19 इलाकों को हाॅटस्पाॅट घोषित कर इन्हें सील करने के साथ पुलिसबल की तैनाती कर दी है। डीएम ब्रम्हादेव तिवारी ने आईआईटी कानुपर के नाइट विजन द्रोन कैमरे मंगवाएं। अब इन्हीं के जरिए पूरे इलाके पर पुलिस-प्रशासन की टीमें 24 घंटे नगाह बनाए है। डीएम के इस प्रयास और आईआईटी की तकनीकि को देश के मानव संशाधन विकास राज्यमंत्री संजय धोत्रे ने ट्यिूटर पर बधाई दी है।

क्या है एयरक्राफ्ट द्रोन
आईआईटी-कानपुर के विद्यार्थियों ने ‘एयरक्राफ्ट ड्रोन तैयार किया है। यह ड्रोन न सिर्फ 4-5 किलोग्राम तक वजन उठा सकता है, बल्कि संवेदनशील क्षेत्र में लगातार तीन घंटे तक गश्त भी कर सकता है। इस ड्रोन में मानवरहित हेलिकॉप्टर की सुविधा है, जिसमें अन्य ड्रोन या अनमैंड एरियर वीइकल को पकड़ने के लिए जाल की सुविधा दी गई है। इस ड्रोन में अडवांस ऑटोपायलट सिस्टम भी है और यह अन्य ड्रोन को पकड़ने के दौरान वजन के बढ़ने से खुद की इंटेरिया में हुए अचानक बदलाव को संभालने में सक्षम है। इसकी खासियत ये है कि रात में उड़कर बिलकुल साफ तस्वीर कैमरे में कैद करता है।

40 के खिलाफ एफआईआर
आईआईटी के द्रोन के जरिए मिली तस्वीरों के बाद पुलिस की टीम तत्काल एक्शन में आती है और गली, व अन्य जगहों पर घूम रहे लोगों को दबोच रही हैं। द्रोन के जरिए 40 लोगों को पुलिस ने पकड़ा और मुकदमा दर्ज कर उन्हें थाने से जमानत देकर छोड़ दिया। डीएम डीएम ब्रम्हादेव तिवारी ने बताया कि पुलिस-प्रशासन की टीमें इस द्रोन के जरिए रात में गश्त करना शुरू कर दिया है। डीएम ने आदेश दिया है कि यदि कोई भी व्यक्ति लाकडाउन का उल्लंघन करता है उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाएगा। डीएम ने स्मार्ट सिटी के तहत लगाए कैमरों के साथ आईआईटी के द्रोन से भी नजर रखी जा रही है।

83 कोरोना के मरीज
बतादें कानपुर जनपद में कोरोना का पहला मरीज नवाबगंज थानाक्षेत्र स्थित एनआरआई सिटी में 23 मार्च को पाया गया था। इसके बाद कोरोना पाॅजीटिव मरीजों की संख्या में एकाएक बढ़ोतरी होने लगी और 22 अप्रैल की शाम तक आंकड़ा 83 तक पहुंच गया। जिसके चलते जिलाधिकारी ब्राम्हादेव तिवारी, एसएसपी अनंत देव तिवारी और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी कोरोना की रफ्तार को रोकने के लिए 24 घंटे ड्यिूटी कर रहे हैं और लाॅकडाउन का कड़ाई से पालन कराया जा रहा है।

22 को यहां उड़ा द्रोन
बुधवार को जाजमऊ , मछरिया, बाबू पुरवा, चमनगंज, बेकनगंज, अनवरगंज, कर्नेलगंज, यतीमखाना , ग्वालटोली आदि क्षेत्रों में आईआईटी के ड्रोन कैमरे के जरिए लोगों पर नजर रखी जा रही है। रात्रि में भी ड्रोन कैमरे से निगरानी की जाएगी। डीएम डाॅक्टर ब्रह्म देव राम तिवारी ने जनपद वासियों से अपील करते हुए कहा कि लॉक डाउन के साथ ही सोशल डिस्टेंसिग जो कि सोशल वैक्सीन है इसका पालन करें । घरों से न निकले। होम डिलेवरी के माध्यम से आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति की जा रही है। उन्होंने सभी नागरिकों से अपील करते हुए कहा कि अपने घरों में रहे अनावश्यक बाहर न निकले। ऐसा न करने वाले व्यक्ति के खिलाफ कठोर दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी।

coronavirus COVID-19
Show More
Vinod Nigam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned