कोविड-१९: कानपुर आईआईटी तैयार करेगा सस्ती जांच किट, तुरंत हो सकेगी वायरस की जांच

मरीजों को नहीं करना पड़ेगा जांच रिपोर्ट का लंबा इंतजार
आईआईटी में बंदी के बाद वैज्ञानिकों ने शुरू किया प्रयास

कानपुर। कोरोना का असर कम करने के लिए इसकी तुरंत पहचान होन बेहद जरूरी है। इसके चलते ही इसके चक्र को रोका जा सकता है। इसे देखते हुए आईआईटी कानपुर के वैज्ञानिकों ने कारोना वायरस की जांच किट बनाने की कोशिश शुरू कर दी है। वैज्ञानिकों का प्रयास है कि जांच किट सस्ती और तुरंत रिजल्ट देने वाली हो। इससे हर कोई इसका इस्तेमाल कर खुद को और दूसरों को सुरक्षित रख सकेगा।

इन्होंने शुरू की कोशिश
कानपुर आईआईटी ने कोरोना की सस्ती जांच किट तैयार करने का निर्णय लिया है। आईआईटी के बायोसाइंस एंड बायोइंजीनियरिंग विभाग के वरिष्ठ वैज्ञानिक प्रो. अमिताभ बंदोपाध्याय ने शोध शुरू कर दिया है। वे अपनी टीम के साथ किट बनाने में जुटे हैं। उन्होंने बताया कि अभी तक कोरोना की पहचान के लिए नमूने लेकर लखनऊ जांच के लिए भेजे जाते हैं। जिसमें कोरोना की पुष्टि होने में काफी समय लग जाता है।

पोर्टेबल वेंटीलेटर भी बनेगा
प्रो. बंदोपाध्याय की टीम ऐसा पोर्टेबल वेंटीलेटर बनाने पर भी काम कर रही है, जिसकी आपदा में वेंटीलेटर की जरूरत ज्यादा पड़ती है। वैज्ञानिकों का मानना है कि विदेशों में कोरोना वायरस में अधिकांश मरीजों की मौत सही ढंग से सांस न आने के कारण हो रही है। ऐसे में उन्हें वेंटीलेटर की अधिक जरूरत होती है जबकि किसी भी देश में पर्याप्त मात्रा में यह नहीं हैं। इसलिए पोर्टेबल वेंटीलेटर पर काम कर रहे हैं।

३१ तक आईआईटी बंद
आईआईटी में 31 मार्च तक बंदी है। बीटेक के छात्रों को घर भेजकर हॉस्टल खाली करा दिया गया है। एकेडमिक सेशन पूरी तरह से बंद चल रहा है। इसलिए वैज्ञानिकों ने अपने स्तर से प्रयास शुरू किया है। अगले दो-तीन दिन में इस शोध को नया रूप मिल जाएगा। वैज्ञानिकों की टीम नई टेक्नोलॉजी के जरिए अनेक समस्याओं का समाधान कर रही है। जब कोरोना का खतरा देशभर में छाया हुआ है तो टीम ने शोध भी शुरू कर दिया है।

आलोक पाण्डेय Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned