प्रशासन ने नहीं उठाया कोई ठोस कदम, तो स्थानीय लोगों ने शुरू की इन माफियाओं की निगरानी, जानिए पूरा मामला

सूबे में अवैध बालू व मिट्टी खनन को लेकर शासन ने पूर्णतया प्रतिबंध लगा रखा है।

By: Arvind Kumar Verma

Updated: 06 Jan 2020, 10:55 PM IST

कानपुर देहात-जनपद के सेंगर नदी के रानीघाट पर कई दिनों से अवैध खनन हो रहा था। मामला प्रकाश में आने पर डेरापुर कस्बे के लोगों के बीच चर्चा का विषय बना हुआ है। जबकि अफसर मौन बने हुए हैं। बता दें कि सूबे में अवैध बालू व मिट्टी खनन को लेकर शासन ने पूर्णतया प्रतिबंध लगा रखा है। बावजूद ये खनन माफिया बाज नहीं आ रहे हैं। रानीघाट खनन मामले को लेकर स्थानीय खुफिया निगरानी की जा रही है। खुफिया की ओर से अवैध खनन करने वाले लोगों को चिह्नित किया गया है। जिसकी रिपोर्ट भी उच्चाधिकारियों को भेजी गई है।

कानपुर देहात के डेरापुर कस्बे के रानीपुर सेंगुर नदी घाट के आसपास बलुई मिट्टी निकलती है। शासन के सख्त निर्देशों के बावजूद खनन माफिया यहां से बलुई मिट्टी का अवैध खनन कराकर कमाई कर रहा है और सरकार को बड़ा नुकसान पहुंचा रहे हैं। दरअसल इस बलुई मिट्टी की डिमांड खासतौर पर ईंट भट्ठों पर ज्यादा होती है, इसलिए शाम होते ही बलुई मिट्टी की खेप भट्ठों पर ट्रैक्टर-ट्राली से भेजने का सिलसिला शुरू हो जाता हैं। बावजूद प्रशासन अंजान बने हुए हैं।

मामला प्रकाश में आने पर एसडीएम ने जांच कराने की बात कही थी लेकिन कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया। घाट के आस पास ग्रामीणों ने बताया कि लगातार हो रहे अवैध मिट्टी खनन से कई टीले खोखले हो गए हैं। इन टीलों के ढहने से होने वाले हादसों को लेकर ग्रामीण भयभीत हैं। ग्रामीणों के अनुसार एक माह से अवैध मिट्टी खनन बदस्तूर जारी है। फिलहाल रानीपुर सेंगुर नदी घाट पर हो रहे अवैध मिट्टी खनन पर खुफिया ने निगरानी शुरू की है। स्थानीय खुफिया की ओर से अवैध खनन की जांच पड़ताल शुरू की गई है।

Show More
Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned