सब्जी और फलों का छिलका बनेगा कमाई का जरिया, त्वचा भी रहेगी सुरक्षित

यूपीटीटीआई की छात्राओं ने खोज निकाला नया तरीका
ग्रामीण इलाकों की महिलाओं के लिए खोलेगा नई राह

कानपुर। घर से कूड़े के रूप में फेंका जाने वाला सब्जियों और फलों का छिलका कमाई का जरिया भी बनेगा। इससे त्वचा को हानिकारक केमिकल के नुकसान से बचाने में मदद मिलेगी। इसका मतलब यह नहीं कि छिलके से कोई स्किन क्रीम बनाई जाएगी, बल्कि छिलकों से तैयार हर्बल कलर से कपड़े रंगे जाएंगे। इसके लिए उत्तर प्रदेश वस्त्र प्रौद्योगिकी संस्थान की छात्राओं ने तरीका बताया है। इसका इस्तेमाल करके ग्रामीण महिलाओं की आर्थिक स्थिति को भी सुधारा जा सकेगा। संस्थान के निदेशक प्रो. मुकेश सिंह ने बताया कि संस्थान का शोध पर्यावरण संरक्षण व रोजगार के सरोकार के लिए कारगर साबित होगा। यह शरीर के लिए नुकसानदायक भी नहीं है। दो गांवों को गोद लेकर महिलाओं को इसका प्रशिक्षण देंगे।

छिलके से बनाया नेचुरल कलर
सब्जी और फल के छिलके से यूपीटीटीआई की छात्राओं ने प्राकृतिक रंग बनाया है। रसायन विभाग की प्रो. नीलू कांबो के निर्देशन में बीटेक तृतीय वर्ष की मोहिनी, कोमल त्रिपाठी और शिवि सिंह ने प्राकृतिक डाई तैयार की है। सफल परीक्षण के बाद पेटेंट के लिए आवेदन किया जा चुका है। इस शोध के लिए बीते सप्ताह दिल्ली में ऑल इंडिया काउंसिल फॉर टेक्निकल एजुकेशन (एआइसीटीई) की तरफ से मानव संसाधन एवं विकास मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने छात्राओं को राज्य विश्वकर्मा पुरस्कार से सम्मानित किया था।

त्वचा को नुकसान से बचाएगा
छिलकों से बनी डाई के प्राकृतिक होने के कारण त्वचा को नुकसान नहीं पहुंचेगा तो रंगाई-छपाई के दौरान पानी में केमिकल भी नहीं जाएंगे। सिंथेटिक डाई के केमिकल भूजल और नदियों को प्रदूषित करते हैं। ये सेहत के लिए भी खतरनाक हैं। इनसे एलर्जी, शरीर में दाने निकलने, खुजली होने की समस्या हो सकती है। मगर इस प्राकृतिक रंग से ऐसी समस्या दूर हो सकेगी।

अलग-अलग रंग
यूपीटीटीआई की छात्राओं ने चुकंदर से नीला, गाजर से लाल, गोभी पत्ते से हरा, संतरे से नारंगी रंग की डाई तैयार की है। डाई का एडहेसिव यानी मार्डेंट भी प्राकृतिक बनाया है। आंवला, सिरका, नींबू रस, एलोवेरा, हरड़-बेहड़, फिटकरी से तैयार मार्डेंट में दो घंटे तक फल-सब्जी के छिलके उबालकर डाई तैयार की गई।

फूड इंडस्ट्री में भी होगा प्रयोग
छिलकों के रंग से तैयार प्राकृतिक डाई के औद्योगिक इस्तेमाल के लिए नैनो पार्टिकल्स व नैनो इमल्सन तैयार किया गया है। इनका परीक्षण किया जा रहा है। इससे धागे की सूक्ष्म रंगाई होगी। प्राकृतिक होने के कारण फार्मास्यूटिकल व फूड इंडस्ट्री में भी इनका प्रयोग हो सकेगा।

ग्रामीण महिलाओं को मिलेगा रोजगार
कपड़ों में रंग भरने के साथ ग्रामीण महिलाओं को इससे जोड़ा जाएगा। तैयार प्राकृतिक रंग से कपड़ों की छपाई हो, इसके लिए संस्थान दो गांवों को गोद लेकर महिलाओं को प्रशिक्षित करेगा। इसके लिए छपाई के ठप्पे तैयार कर महिलाओं को सूट, चुनरी, फ्रॉक, तकिया व सोफे के कवर पर रंग करना सिखाया जाएगा।

आलोक पाण्डेय
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned