गर्म हवा से फेल हो रहा ब्रेन का सिस्टम, कैलोरी डाइटिंग हो सकती खतरनाक

गर्म हवा से फेल हो रहा ब्रेन का सिस्टम, कैलोरी डाइटिंग हो सकती खतरनाक

Alok Pandey | Publish: Jun, 17 2019 01:44:05 PM (IST) Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

ब्लडप्रेशर हो रहा कम, चक्कर खाकर गिर रहे लोग,
पाचनतंत्र को नुकसान, गुर्दे भी काम करना बंद कर देते

कानपुर। गर्मी में चलने वाली गर्म हवा यानि लू अब जानलेवा भी हो रही है। इससे बचाव बेहद जरूरी है। ४५ डिग्री से ऊपर चल रहा पारा ब्रेन के कंट्रोल सिस्टम को फेल कर देता है, जिससे शरीर में तापमान अचानक बढ़ जाता है। इस स्थिति में लोग चक्कर खाकर गिर जाते हैं और उनका शरीर निष्क्रिय पड़ जाता है। सबसे ज्यादा खतरा उन लोगों को है जो डाइटिंग की आदत के चलते कम कैलोरी ले रहे हैं।

हीटस्ट्रोक से अंग हो रहे निष्क्रिय
दिन की गर्मी खतरनाक हो चुकी है। हीटस्ट्रोक के चलते शरीर के अंग काम करना बंद कर देते हैं। लोगों की सांस फूलने लगती है और नाक से खून भी निकलने लगता है। ऐसी स्थिति में तुरंत इलाज की जरूरत है, वरना जान भी जा सकती है।

लू लगने पर होता ये असर
गर्मी में अगर कोई लू की चपेट में आ जाता है तो उसके ब्रेन का थर्माेरेगुलेटरी सिस्टम फेल हो जाता है। यह सिस्टम शरीर में तापमान को नियंत्रित करता है। इसके फेल होते ही शरीर के अंदर बाहर जितना तापमान हो जाता है और व्यक्ति की किडनी को नुकसान होता है। जिससे शरीर में प्रोटीन जमने लगता है और उसकी किडनी काम करना बंद कर देती है।

डाइटिंग करने वालों को खतरा
जिन लोगों को डाइटिंग की आदत होती है और वे कैलोरी काफी कम मात्रा में लेते हैं उनके लिए भी खतरा ज्यादा है। गर्मी में जो लोग दो से तीन घंटे तक बाहर रहते हैं उनकी कैलोरी में तेजी से कमी होने लगती है। जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज के विशेषज्ञों की मानें तो दिन की धूप हर घंटे शरीर से १०० कैलोरी सोख लेती है। इससे व्यक्ति को थकान महसूस होती है और उसकी हालत बिगड़ सकती है। उसका ब्लड प्रेशर भी कम हो सकता है।

गर्मी में कैलोरी लेना सही
गर्मी में जो लोग धूप में बाहर निकलते हैं उन्हें कैलोरी की जरूरत पड़ती है। गर्मी में १० से पांच घंटे के बीच हर व्यक्ति को १६०० कैलोरी लेनी चाहिए। जो लोग फील्ड वर्क करते हैं और चार घंटे तक धूप में रहते हैं उनके लिए १९०० कैलोरी आवश्यक है। छह घंटे तक धूप में रहने वालों को २००० कैलोरी की आवश्यकता है।

 

 

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned