दोपहर तक भी सुबह जैसा रहा माहौल, न दुकानें खुलीं, न खरीदार दिखे

चाय-पान के खोमचे भी बंद दिखे, माचिस-बीड़ी को भी तरसे लोग
कुछ सवारियां बाहर तो निकलीं पर ऑटो-टेम्पो-ई-रिक्शा नहीं मिले

कानपुर। रविवार को एक तो छुट्टी का दिन और उस पर जनता कफ्र्यू की अपील। इसलिए लोगों ने घर से बाहर निकलने की जरूरत ही नहीं समझी। दोपहर साढ़े ११ बजे तक सुबह ८ बजे जैसा माहौल था, धूप जरूर तेज हो चुकी थी पर दुकानों के शटर नहीं खुले।

नहीं निकले खरीदार
हालांकि रविवार के दिन अन्य दिनों की अपेक्षा बाजार में ज्यादा भीड़ होती है। क्योंकि छुट्टी के दिन ही लोग हफ्ते भर की जरूरत का सामान लेने निकलते हैं। पर इस बार शनिवार को ही लोगों ने खरीदारी कर डाली। इसलिए न बाजार में खरीदार निकले और ना ही दुकानें खुलीं।

चाय-पान की गुमटियां रहीं बंद
रोजमर्रा कमाने खाने वाले चाय-पान के गुमटी वाले भी जनता कफ्र्यू के समर्थन में दिखे। इक्का-दुक्का को छोडक़र बाकी सारी छोटी चाय और पान-बीड़ी की दुकानें बंद रहीं। कुछ लोग जो जरूरत पर बाहर निकले तो भी उन्हें इनके लिए तरसना पड़ गया।

नहीं मिले वाहन, पैदल ही गए
वैसे तो हर जगह अवकाश ही था पर जरूरत पडऩे पर जो लोगा बाहर भी निकले वे धूप में वाहनों का इंतजार करते-करते थक गए। सडक़ पर एक दो ऑटो-टेम्पो ही दिखे और वह भी फुल थे। लिहाजा लोगों ने पैदल चलना ही मुनासिब समझा।

खुले रहे मेडिकल स्टोर
भले ही बाजार बंद रहे हों पर मेडिकल स्टोर मालिकों ने अपनी जिम्मेदारी को समझते हुए दवा प्रतिष्ठान खोले। सर्दी-जुकाम और बुखार फैलाने वाले इस मौसम में तुरंत दवा की जरूरत होती है, इसलिए मेडिकल स्टोर खुले रहे, हालांकि ग्राहकों की संख्या कम रही।

पेड़ों की छांव के नीचे काटा समय
सुबह आठ बजे रावतपुर गांव और काकादेव में बिजली चली गई और साढ़े दस बजे के बाद ही आयी। इस दौरान गर्मी लगने पर लोगों ने पेड़ की छांव के नीचे बैठ कर समय काटा। लोगों के बीच कोरोना वायरस ही चर्चा का एक ही विषय था। लोग इससे हुए नुकसान और बचाव पर बात करते दिखे।

आलोक पाण्डेय
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned