जेईई और गेट में असफल होने पर भी खुला आईआईटी से पढ़ाई का रास्ता, इस तरह करें आवेदन

जेईई और गेट में असफल होने पर भी खुला आईआईटी से पढ़ाई का रास्ता, इस तरह करें आवेदन

Alok Pandey | Updated: 11 Jul 2019, 02:15:19 PM (IST) Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

आईआईटी सिर्फ ग्रेड देगा, जबकि डिग्री विश्वविद्यालय से ही मिलेगी
सीनेट में प्रस्ताव पर चर्चा के बाद ही मिलेगी पढ़ाई की अनुमति

कानपुर। आईआईटी में पढ़ाई करना हर छात्र का सपना होता है। ऐसे में अगर छात्रज्वाइंट एंट्रेंस एग्जामिनेशन (जेईई) एडवांस और ग्रेजुएट एप्टीट्यूड टेस्ट इन इंजीनियरिंग (गेट) पास नहीं कर पाता है तो भी उसे निराश होने की जरूरत नहीं है। इसके बावजूद उसके लिए आईआईटी से पढ़ाई का विकल्प दिया गया है। इंस्टीट्यूट प्रशासन ने ऐसे ही छात्रों से नॉन डिग्री प्रोग्राम के लिए आवेदन मांगे हैं। इंस्टीट्यूट की वेबसाइट से छात्र आवेदन पत्र प्राप्त कर सकते हैं। इसे भरकर डीन एकेडमिक अफेयर्स कार्यालय में जमा करना होगा। साथ ही इसे डीन एकेडमिक अफेयर्स को ईमेल भी करना होगा।

सीनेट लेगा अंतिम निर्णय
डीन एकेडमिक प्रो. अचला रैना मिश्रा ने बताया कि आवेदन पत्र को विभाग, डीन स्टूडेंट अफेयर्स के पास भेजा जाएगा। इसके बाद इसका प्रस्ताव बनाकर सीनेट में रखा जाएगा। सीनेट ही अंतिम रूप से छात्रों को पढ़ाई की अनुमति देगी। छात्र यहां एक या दो सेमेस्टर की पढ़ाई कर सकता है। अधिक जानकारी हासिल करने के लिए छात्र आईआईटी की वेबसाइट द्बद्बह्लद्म.ड्डष्.द्बठ्ठ पर लॉगइन कर सकते हैं या अपने सवाल डीन एकेडमिक प्रो. अचला रैना मिश्रा को ई-मेल के जरिये ड्डष्द्धद्यड्डञ्चद्बद्बह्लद्म.ड्डष्.द्बठ्ठ पर भेज सकते हैं।

आवेदन पत्र के साथ भेजें ये दस्तावेज
आवेदन पत्र के साथ छात्र को मूल शिक्षण संस्थान (जिस विश्वविद्यालय से छात्र पढ़ रहा है) का अनुमति पत्र संलग्र करना होगा। इसके अलावा एडमिशन का प्रूफ, मूल शिक्षण संस्थान का रेफरेंस लेटर, अंतिम सेमेस्टर का एकेडमिक रिकॉर्ड, स्टडी प्लान के दस्तावेज भी आवेदन पत्र के साथ लगाने होंगे।

जमा करने वाला शुल्क
बीटेक, बीएस के छात्रों को 400 रुपये प्रत्येक क्रेडिट (हर विषय के टॉपिक) के लिए देने होंगे। इस हिसाब से न्यूनतम 3600 रुपये प्रत्येक माह के लिए देय होगा। जबकि एमटेक, एमडेस, एमएससी, एमएस (रिसर्च), एमबीए, पीएचडी के छात्रों को प्रत्येक क्रेडिट के लिए 600 रुपये देने होंगे। इसमें न्यूनतम 5400 रुपये प्रतिमाह का भुगतान करना होगा। इस फीस के अतिरिक्त अगर छात्र हॉस्टल में रहता है तो उसे हॉस्टल शुल्क, मेस शुल्क, बिजली, कॉशन मनी भी जमा करनी होगी। एग्जामिनेशन, रजिस्ट्रेशन, जिमखाना, फेस्टिवल, मेडिकल, हॉस्टल रेंट आदि मदों में भी कुल 15,100 रुपये देने होंगे। (अगर छात्र को हॉस्टल नहीं मिलता है तो उसे रहने के लिए खुद इंतजाम करना होगा)

डिग्री विश्वविद्यालय से मिलेगी, आईआईटी देगा ग्रेड
इस प्रोग्राम के तहत जिस सेमेस्टर में छात्र आईआईटी में पढ़ाई करेगा उसमें उसे आईआईटी से ही ग्रेड दिया जाएगा। डीन एकेडमिक प्रो. अचला रैना मिश्रा के मुताबिक यह ग्रेड छात्र के कॉलेज और विश्वविद्यालय भेजा जाएगा ताकि उसके मार्कशीट में जुड़ सके। इससे भविष्य में उसे प्लेसमेंट में काफी फायदा मिलेगा। डिग्री उसी विवि से मिलेगी जहां छात्र ने प्रवेश लिया होगा।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned