Railway News: कोरोना काल में कबाड़ ने रेलवे को दी 4.5 करोड़ की आय, ये रही पूरी जानकारी

-कोरोना काल में रेलवे ने कबाड़ से साढ़े 4 हजार करोड़ की आय जुटाई,
-रेलवे प्रतिवर्ष कबाड़ का ब्यौरा जुटाकर बोली लगवाता है,

By: Arvind Kumar Verma

Published: 10 Jul 2021, 10:22 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
कानपुर. कोरोना काल (Corona Virus) में संक्रमण की रोकथाम के लिए ट्रेनें बंद कर दी गई थी। ऐसे में रेलवे की आय काफी हद तक प्रभावित हो गई है। इन हालातों को देखते हुए रेलवे (Indian Railways) ने आय के अन्य संसाधनों को बढ़ाना शुरू किया है। रेलवे (Railway Department) ने कबाड़ से करोड़ों की आय की है। दरअसल प्रत्येक वर्ष रेलवे में पटरियों, डिब्बों, इंजनों एवं कारखानों में निर्माण के दौरान बचे हुए कबाड़ सहित बदलने के बाद बची पुरानी रेल पटरियों का ब्यौरा जुटाया जाता है। इसके बाद रेलवे इसकी बोली लगाकर बिक्री करता है।

बताया गया कि कोविड काल के पहले रेलवे ने कबाड़ से 46.09 करोड़ रुपये की आय की थी, जबकि बीते वित्तीय वर्ष यह आय बढ़कर 67 करोड़ रुपये हो गई है। वहीं इससे पहले तक कबाड़ से रेलवे की आय 40-50 करोड़ के बीच ही रहती थी। आय का यह आकड़ा उत्तर मध्य रेलवे के प्रयागराज मंडल का बताया गया है, जिनमें प्रयागराज और कानपुर सेंट्रल दो बड़े रेलवे स्टेशन हैं।

अगर देशभर में रेलवे से हुई आय की बात करें तो अधिकारियों के मुताबिक रेलवे ने 4,575 करोड़ रुपये की आय कबाड़ बेचकर जुटाए हैैं। रेलवे ने वित्तीय वर्ष 2020-21 में 67 करोड़ रुपये, 2019-20 में 46 करोड़ रुपये, 2018-19 में 41 करोड़ रुपये कबाड़ से कमाए हैं। प्रयागराज रेलवे मंडल के जनसंपर्क अधिकारी अमित कुमार सिंह ने बताया कि रेलवे का बड़ा नेटवर्क है। ऐसे में बेकार हुई वस्तुओं की बिड खोलकर उन्हें बेचने का क्रम चलता रहता है। यह जरूर है कि इस बार आय अधिक हुई है।

Corona virus
Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned