भाजपा से निष्कासित नेता ने लिया ठाकुर का नाम, जानिए कौन है संदीप ठाकुर

Who is history sheeter Sandeep Thakur - भाजपा से निष्कासित नेता नारायण सिंह भदौरिया ने इनामी बदमाश मनोज सिंह को अपने समर्थकों के साथ पुलिस कस्टडी से छुड़ा लिया था, पुलिस ने नारायण सिंह को बनाया था आरोपी

By: Mahendra Pratap

Published: 07 Jun 2021, 05:05 PM IST

कानपुर. Who is history sheeter Sandeep Thakur भाजपा से निष्कासित नेता नारायण सिंह भदौरिया ने 25,000 के इनामी बदमाश मनोज सिंह को अपने समर्थकों के साथ मिलकर पुलिस कस्टडी से छुड़ा लिया था। पुलिस ने नारायण सिंह को आरोपी बनाया था। इसके बाद नारायण सिंह ने सोशल मीडिया पर अपना बयान जारी किया, जिसमें भाजपा से निष्कासित नेता ने संदीप ठाकुर का नाम लिया था। संदीप ठाकुर कौन है, और इस घटना से उसका क्या सबंध है। जानिए...

यूपी में 3 माह में 10 करोड़ लोगों को लगेगा टीका, सीएम योगी की फुल प्रूफ प्लानिंग

दोनों खतरनाक गैग में दुश्मनी :- बर्रा थाना क्षेत्र में रहने वाला संदीप ठाकुर भाजयुमो की क्षेत्रीय इकाई में उपाध्यक्ष है। राजी हिस्ट्रीशीटर मनोज सिंह भी बर्रा का रहने वाल है। मनोज सिंह और संदीप ठाकुर के बीच लंबे समय से वर्चस्व की लड़ाई चली आ रही है। मनोज सिंह और संदीप ठाकुर गैंग के बीच हमेशा तकरार बनी रहती है। दोनों ही गैग एक दूसरे को नीचा दिखाने की फिराक में रहते हैं। दोनों गैंगों के बीच कई बार फायरिंग और बमबाजी क्षेत्र में दहशत फैलाते रहते हैं।

मनोज सिंह की भाजपा में नहीं हो पाई एंट्री :- मनोज सिंह ने 2016 में समाजवादी पार्टी ज्वाईंन की थी, पार्टी की तरफ से उसे जिला सचिव का पद नवाजा गया था। 2017 में सत्ता परिवर्तन होने के बाद उसने सपा छोड़ दी थी। मनोज सिंह भाजपा ज्वाईंन करने के लिए भाजपा नेताओं के चक्कर लगाने लगा। लेकिन इस प्रयास में सफल नहीं हो सका। इस बीच मनोज सिंह सरंक्षण के लिए ऐसे नेताओं के संपर्क में बना रहा, जिनका अपराध से किसी न किसी रूप में नाता रहा है। इसके बाद मनोज सिंह ने भाजपा में दक्षिण जिलामंत्री रहे नारायण सिंह भदौरिया का दामन थाम लिया।

भदौरिया ने क्यों लिया था संदीप ठाकुर का नाम :- भाजपा नेता संदीप ठाकुर को हिस्ट्रीशीटर मनोज सिंह और जिलामंत्री रहे नारायाण सिंह भदौरिया के बीच दोस्ती कांटे की तरह चुभ रही थी। मनोज सिंह को जिलामंत्री का संरक्षण मिल रहा था, और मनोज सिंह खुलेआम बर्रा क्षेत्र में घूम रहा था। इसके साथ ही बर्रा पुलिस भी उसे अरेस्ट नहीं कर रही थी। नारायण सिंह भदौरिया को इस बात की जानकारी थी कि संदीप ठाकुर उसे बिल्कुल भी पसंद नहीं करता है। सूत्रों के मुताबिक नारायण सिंह भदौरिया की जन्मदिन पार्टी में हिस्ट्रीशीटर मनोज सिंह शामिल होने के लिए पहुंचा है, नौबस्ता पुलिस को सूचना संदीप ठाकुर ने दी थी।

यह उन्ही के आदमी हैं :- मनोज सिंह

जिलामंत्री रहे नारायण सिंह भदौरिया ने अपने वायरल बयान में कहा था कि पुलिस जब सादी वर्दी में मनोज सिंह को पकड़ने के लिए आई थी। उस वक्त हिस्ट्रीशीटर मनोज सिंह ने कहा था कि मेरी बर्रा के संदीप ठाकुर से दुश्मनी चलती है, यह उन्ही के आदमी हैं।

संदीप ठाकुर पर थे दर्जनों मुकदमे :- संदीप ठाकुर हिस्ट्रीशीटर अपराधी था। सत्ता के दम पर उसने अपने हिस्ट्रीशीट खत्म करा ली। लेकिन टोनी यादव हत्याकांड का मामला अभी भी ट्रायल पर है। संदीप ठाकुर 2002 में डीबीएस कॉलेज से अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ रहा था। संदीप के विरोध में दबौली में रहने वाले मनोज सिंह भी चुनावी मैदान में थे। मनोज सिंह का चुनावी जुलूस बर्रा दो से निकल रहा था। इसी दौरान संदीप ठाकुर ने मनोज सिंह के समर्थक टोनी यादव की गोली मार कर हत्या कर दी थी। इस मामले में संदीप ठाकुर, पिता जेबी सिंह और भाई संजीव पर मुकदमा दर्ज किया गया था।

BJP
Mahendra Pratap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned