एसबीआई का अलर्ट, इन चार ऐप से बचें वरना बैंक खाता हो जाएगा खाली

- साइबर क्राइम की घटनाएं यूपी में लगातार बढ़ रही हैं। रिजर्व बैंक भी बैंक ग्राहकों को सचेत कर रहा है कि किसी भी लालच में न पड़े।

By: Sanjay Kumar Srivastava

Published: 05 Sep 2021, 11:30 AM IST

कानपुर. साइबर क्राइम की घटनाएं यूपी में लगातार बढ़ रही हैं। रिजर्व बैंक भी बैंक ग्राहकों को सचेत कर रहा है कि किसी भी लालच में न पड़े। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) ने अपने ग्राहकों को अलर्ट करते हुए कहाकि, चार ऐप से बचकर रहें, वरना आपका बैंक खाता मिनट में खाली हो जाएगा। जालसाज किसी तरह से बैंक उपभोक्ताओं से ये चार ऐप को डाउनलोड करा लेते है और उसके बाद खाता साफ कर देते हैं। बीते चार माह में स्टेट बैंक के 150 ग्राहकों को 70 लाख से ज्यादा की चपत लग चुकी है।

Petrol Diesel Price Today : पांच सितम्बर को पेट्रोल-डीजल की कीमतें चौंका देंगी, जानें लखनऊ में आज का रेट

चार खतरनाक ऐप के नाम :- अपने खाताधारकों को अलर्ट करते हुए स्टेट बैंक ने कहाकि, एनीडेस्क, क्विक सपोर्ट, टीमव्यूअर और मिंगलव्यू ऐप को भूलकर भी अपने मोबाइल पर इस्टॉल न करें। एसबीआई ने अपने खाताधारकों को यूनीफाइड पेमेंट सिस्टम को लेकर भी सतर्क किया है। एसबीआई ने कहाकि, किसी भी अज्ञात सोर्स से यूपीआई कलेक्ट रिक्वेस्ट या क्यूआर कोड स्वीकार न करें।

अज्ञात वेबसाइटों चक्कर में न पड़ें :- स्टेट बैंक ने अलर्ट करते हुए, अज्ञात वेबसाइटों से हेल्पलाइन नंबर खोजने की भूल न करें, क्योंकि आधा दर्जन से ज्यादा फर्जी वेबसाइट एसबीआई के नाम पर चल रही हैं। किसी भी समाधान के लिए आधिकारिक वेबसाइट पर ही जाएं और ठीक से चेक करने के बाद ही अपनी सूचनाएं साझा करें।

एसएमएस से सूचित करें :- स्टेट बैंक ने अपने ग्राहकों को दी कि, प्रत्येक डिजिटल लेनदेन के बाद बैंक एसएमएस भेजता है। अगर आपने लेनदेन नहीं किया है तो तुरंत उस मैसेज को एसएमएस में दिए गए नंबर पर फॉरवर्ड कर दें।

जालसाजी का शिकर होने पर इन नम्बरों पर करें फोन :-
कस्टमर केयर नंबर- 1800111109, 9449112211, 080 26599990

155260 (नेशनल साइबर क्राइम रिपोर्टिंग पोर्टल)

Show More
Sanjay Kumar Srivastava
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned