चीथड़े उड़ाने वाले विस्फोट में जवान को खरोंच भी नहीं आएगी, बचाएगा कानपुर का यह सूट

बारूदी सुरंग फटने पर भी जवान को सेफ रखेगा
सेना को १.१० लाख एंटी माइन ब्लास्ट सूट मिले

कानपुर। दुश्मन के इलाके में बिछीं बारूदी सुरंगें अब हमारे जवानों का बाल भी बांका नहीं कर सकेंगी। ब्लास्ट होने पर भी हमारा जवान सुरक्षित रहेगा और उसकी रक्षा करेगा कानपुर का यह सूट। जी हां कानपुर में बना यह एंटी माइन ब्लास्ट सूट जवान को खरोंच तक नहीं आने देगा। सेना को यह सूट मिलने के बाद अब सर्जिकल स्ट्राइक जैसे ऑपरेशन में जवानों को माइन ब्लास्ट का खतरा नहीं रहेगा। जवान बेखौफ होकर बारूदी सुरंग वाले इलाके में भी जा सकेंगे। विस्फोट होने पर भी उन्हें कुछ नहीं होगा।

इस तरह बचाता है जान
बारूदी सुरंग में विस्फोट होने पर यह सूट जवान की रक्षा करता है। यह कई हिस्सों में तैयार किया जाता है। इसमें सॉफ्ट और हार्ड पैनल का मिश्रण है। इसे बनाने में बैलेस्टिक फैब्रिक का प्रयोग किया गया है। यह बारूदी सुरंग ब्लास्ट की गर्मी को सोख लेता है। विस्फोट होने पर इसमें एक वर्ग सेंटीमीटर में २० हजार किलो का प्रेशर होता है, जिसे यह सूट घटाकर महज १६० किलो तक सीमित कर देता है, इससे जवान केवल थोड़ा उछलकर गिर जाता है और उसे चोट नहीं आती।

डीआरडीओ और आईआईटी ने किया तैयार
यह एंटी माइन ब्लास्ट सूट तैयार करने की जिम्मेदारी डीआरडीओ को मिली थी। इसमें आईआईटी के इंजीनियर मयंक अग्रवाल ने मदद की और ऐसे सूट का निर्माण किया जो दुनिया की सबसे खतरनाक बारूदी सुरंगों पर भी जवानों को सुरक्षित रख सके। यहां बना सूट पांच बार तक ब्लास्ट को बर्दाश्त करने की क्षमता है। जबकि विदेशी सूट केवल एक बार में ही बेकार हो जाता है और दोबारा उसका इस्तेमाल नहीं हो सकता। विदेशी सूट का वजन साढ़े सात किलो है जबकि कानपुर का सूट केवल साढ़े तीन किलो का है।

ज्यादा खतरनाक होती हैं बारूदी सुरंगें
नए दौर की बारूदी सुरंगें पहले की अपेक्षा ज्यादा खतरनाक हो गई हैं। पहले की सुरंगे विस्फोट होने पर केवल पैर खराब कर देती थीं। लेकिन आज के दौर में ऐसी सुरंगें बिछाई जा रही हैं जो चीथड़े उड़ा देती हैं। ये सुरंगें बेहद संवेदनशील होती हैं और केवल ४० किलो का वजन पड़ते ही बम की तरह फटती हैं।

ऊंची इमारत को ढेर कर सकता धमाका
इन बारूदी सुरंगों में २४० ग्राम आरडीएक्स की मात्रा होती है। इतना विस्फोटक एक १४ मंजिला ऊंची इमारत को भी ढेर कर सकता है। इतने बम में करीब ६० से ७० लोगों की जान भी जा सकती है। पाकिस्तान और अफगानिस्तान सहित कई देश अपनी जमीनों पर इसी तरह की बारूदी सुरंगें बिछाते हैं ताकि दूसरे देश के सैनिक वहां ना आ सकें।

सस्ते सूट पूरी सेना को मिलेंगे
पहले विदेशों से आयातित सूट काफी महंगे होते थे। इसकी कीमत ज्यादा होने के साथ ही यह बेहद भारी होते थे, इसलिए इनका आयात सीमित मात्रा में ही किया जाता था। अब देश में ही इस सूट का निर्माण महज ५० हजार में किया जा रहा है। जबकि विदेशी सूट इससे करीब दस गुना महंगा था। इससे अब पूरी सेना के लिए यह सूट तैयार हो सकेंगे।

आलोक पाण्डेय
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned