बकाया रुपए न दे पाने पर कानपुर व्यापारी हुए थे अगवा, पुलिस ने शाहजहांपुर से कराया मुक्त

लोकेशन शाहजहांपुर स्थित फैक्ट्री में मिली। पुलिस टीम देर रात पहुंची और तीन लोगों को मौके से गिरफ्तार कर व्यापारी को मुक्त कराया।

By: Arvind Kumar Verma

Published: 23 Jan 2021, 08:00 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क

कानपुर-फैक्ट्री मालिक का बकाया रुपया न दे पाने पर शाहजहांपुर के एक फैक्ट्री मालिक के कार सवार गुर्गों ने कानपुर के व्यापारी को अगवा कर लिया। काफी समय बाद फोन से बात होने पार जानकारी होते ही व्यापारी की पत्नी ने बर्रा थाने में शिकायत कर एफआईआर दर्ज कराई। अपहरण के मामले को लेकर सक्रिय हुई बर्रा पुलिस ने सर्विलांस सेल द्वारा ट्रेस करवाया। जिसके बाद लोकेशन मिलते ही बर्रा पुलिस ने शाहजहांपुर पहुंचकर जलालाबाद रोड स्थित फैक्ट्री से आरोपियों को दबोचा और व्यापारी को मुक्त कराया। फिलहाल पुलिस तीनों से पूछताछ कर रही है।

Read:-बिकरू अपडेट: घटना की रात विकास कोड वर्ड में चिलाया....,फिर उसके गुर्गे भागने लगे

दरअसल कानपुर के बर्रा-3 निवासी पवन कुमार तिवारी बर्रा आठ में हार्डवेयर व्यापारी हैं। उन्होंने बताया कि शाहजहांपुर की फैक्ट्री से उनके यहां पीवीसी पाइप आते थे, जिसका उन पर फैक्ट्री का वर्ष 2018 से अब तक 1.46 करोड़ रुपये बकाया हो गया था, जिसके लिए उन्होंने मालिक जितेश गुप्ता से 25 -25 हजार रुपए किस्तों में देने की बात कही थी। आरोप है कि रोजाना की तरह शुक्रवार सुबह वह दुकान पर बैठे थे। तभी फैक्ट्री का मैनेजर अनिल गुप्ता सहित चार लोग कार से उसकी दुकान पर आये। फिर एकाएक उसे जबरन बैठाकर ले जाने लगे।

आरोप है कि उन लोगों ने दोनों मोबाइल छीन लिए और स्विच ऑफ कर दिए। कई बार मिन्नतें करने पर दोपहर करीब 2 बजे मोबाइल चालू किया और पत्नी सीमा तिवारी से बात कराई। पत्नी को जब अपहरण की जानकारी हुई तो उसने बर्रा थाने पहुंचकर चारों के खिलाफ अपहरण की एफआईआर दर्ज कराई। इंस्पेक्टर हरमीत सिंह ने बताया कि आरोपित अनिल गुप्ता और व्यापारी के नम्बर सर्विलांस पर लगाये गए थे। जिनकी लोकेशन शाहजहांपुर स्थित फैक्ट्री में मिली। पुलिस टीम देर रात पहुंची और तीन लोगों को मौके से गिरफ्तार कर व्यापारी को मुक्त कराया। पुलिस तीनों से पूछताछ कर रही है।

Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned