ओमान देश में तस्करों की गिरफ्त से छूटी कानपुर की महिला, जल्द लौटेगी भारत

कानपुर कमिश्नरी पुलिस के अफसरों ने विदेश मंत्रालय से संपर्क कर 24 घंटे के भीतर कर्नलगंज की पीड़ित महिला को ओमान में मानव तस्करों के चुंगल से छुड़ा लिया है।

By: Arvind Kumar Verma

Updated: 15 Apr 2021, 02:07 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
कानपुर. मानव (महिला) तस्करी (Human Trafficking) नेटवर्क मामले में सक्रिय कानपुर कमिश्नरी पुलिस को विदेश मंत्रालय (Videsh Mantralay) के सहयोग से एक महिला को छुड़ाने में सफलता मिली है। दरअसल कानपुर की 17 महिलाओं सहित गुजरात की एक महिला को तस्करी एजेंटों ने अलग अलग देशों में बेचा था। मामले में पुलिस ने मंगलवार को मानव तस्कर ट्रैवल के दो एजेंटों को गिरफ्तार किया था। पूछताछ में पुलिस को अहम जानकारियां मिली थीं। जिसके बाद कानपुर कमिश्नरी पुलिस के अफसरों ने विदेश मंत्रालय से संपर्क कर 24 घंटे के भीतर कर्नलगंज की पीड़ित महिला को ओमान (Oman Country) में मानव तस्करों के चुंगल से छुड़ा लिया है।

बताया गया कि महिला अब ओमान में भारतीय दूतावास के अफसरों की निगरानी में है। वहां कागजी और कानूनी प्रक्रिया पूरी होने के बाद महिला को भारत लाया जाएगा। इसके बाद उसे कानपुर लाया जाएगा। कानपुर के कर्नलगंज की महिला को मानव तस्कर ट्रैवल एजेंट मुजम्मिल और अति उर्र रहमान ने ओमान में नौकरी लगवाने का झांसा देकर उसे वहां बेच दिया था। डीसीपी क्राइम सलमान ताज पाटिल ने बताया कि भारतीय दूतावास के अफसरों ने ओमान सरकार की मदद से पीड़िता को तस्करों के जाल से छुड़वा लिया है। अब वो सुरक्षित है। दो से चार दिन के भीतर भारत लाई जा सकती है।

आरोपियों से पूछताछ में जानकारी मिली थी कि उन्नाव, कानपुर की 17 व एक गुजरात की महिला को आरोपियों ने अलग-अलग देशों में बेचा है। विदेश मंत्रालय को इनका ब्योरा भेज दिया गया है। वहीं पुलिस की जांच में सामने आया कि आरोपी तस्कर गरीब युवतियों और महिलाओं को निशाना बनाते थे, जो नौकरी के लिए कहीं भी जाने को तैयार रहती थीं। मोटी तनख्वा का लालच दिया जाता था। उसके बाद झांसे में लेकर उन्हें बेच देते थे।

Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned