अखिलेश का चहेता खजांची गुजर रहा इन हालातों से, मां आज भी लगाए बैठी ये आस

अखिलेश का चहेता खजांची गुजर रहा इन हालातों से, मां आज भी लगाए बैठी ये आस

Arvind Kumar Verma | Publish: Sep, 09 2018 05:40:50 PM (IST) Kanpur, Uttar Pradesh, India

यूपी में सपा सरकार के दौरान प्रधानमंत्री मोदी द्वारा की गई नोटबंदी में बैंक की कतार में जन्मे खजांची को अखिलेश यादव द्वारा भरपूर मदद दी गयी लेकिन आज वह खजांची बदहाल जीवन जीने को मजबूर है।

कानपुर देहात। सत्ता बदली, निजाम बदले और बदल गए खजांची के हालात। दरअसल सपा के मुखिया से अपनी पहचान पाने वाले खजांची नाथ को बीजेपी की सरकार में मुफलिसी की जिंदगी जीना पड़ रहा है। दरअसल केंद्र में बीजेपी की सरकार आने के बाद प्रधानमंत्री ने देश मे नोटबन्दी की। उस दैरान खजांची नाथ का जन्म पीएनबी बैंक की सीढ़ियों पर हुआ था। मामला प्रकाश में आते ही तत्कालीन सत्तासीन मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बच्चे व उसकी मां सर्वेसा देवी को लखनऊ बुलाकर आर्थिक रूप से मदद देते हुए बच्चे का नाम खजांची नाथ रख दिया था लेकिन सत्ता बदलने के बाद आज खजांची सिर्फ नाम का ही खजांची कहा जा सकता है। सर्वेशा के पास सुविधाओं का टोटा है। भारी जलभराव के बीच खजांची अपनी मां व नानी के साथ बचपन गुजार रहा है।

मायके में झोपड़ी में परिवार कर रहा गुजारा

बताते चलें कि केंद्र में बीजेपी की सत्ता आते ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2 दिसंबर 2016 को नोटबंदी की घोषणा की थी। अफरा तफरी का माहौल व्याप्त था। उन परेशानियों में जिले के झींझक स्थित पीएनबी बैंक से रुपये निकालने के दौरान गर्भवती सर्वेसा ने कतार में ही खजांची को जन्म दिया था। पांच भाई बहनों में खजांची सबसे छोटा है। हालांकि खजांची के सिर पर पिता का साया नही है। मां सर्वेसा का ससुराल में विवाद होने पर वह अपनी मां कुसुमा व खजांची के साथ मायके अनंतपुर धौकल में झोपड़ी में गुजारा कर रही है। परिवार के पास कमाने का कोई जरिया नहीं बचा है।

सर्वेसा अखिलेश से लगा रही उम्मीद

खजांची की माँ सर्वेसा बताती हैं कि उनके पास रहने के लिए घर तक नहीं है। राशन के लिए राशन कार्ड भी नहीं बना है, जिससे गुजर बसर करना मुश्किल हो रहा है। सरकार से कुछ मदद की उम्मीद लगाए बैठी खजांची की मां ने बताया कि खजांची के जन्म से लेकर अभी तक अखिलेश ने मदद की है, आगे भी उनसे ही आशा है। उनके अलावा कोई उनके परिवार की मदद करने नहीं आया। सर्वेसा को आज भी अखिलेश के बुलावे का इंतजार है।

पूर्व प्रधान ने सपा कार्यालय को दी सूचना

इन परेशानियों के बीच खजांची की मां ने गांव में राशन कार्ड बनवाने और सरकारी योजना के तहत मकान हासिल करने की भरपूर कोशिश की, लेकिन उसे सफलता नहीं मिली। मददगार एवं समाजसेवी पूर्व प्रधान और समाजवादी पार्टी के नेता सर्वेश सिंह नीरू बताते हैं कि खजांची के परिवार की स्थिति बहुत खराब हो चुकी है। परिवार को कच्चे मकान में रहना पड़ रहा है। हम लोग इनके परिवार की हर संभव मदद करते रहते हैं। हमने इस परिवार की स्थिति के बारे में पार्टी के लखनऊ कार्यालय को सूचना दी है। हमें उम्मीद है कि इस परिवार को जल्द मदद मिलेगी और इनकी स्थिति में बदलाव आएगा।

Ad Block is Banned