खाकी फिर हुई शर्मसार, जब सिपाही ने एक नाबालिग के साथ किया दुष्कर्म, फिर पुलिस ने की ऐसी कार्रवाई

आरोपी आगरा के बरहन थाने में तत्काल समय मे तैनात है।

Arvind Kumar Verma

Updated: 20 Feb 2020, 03:24 PM IST

Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

कानपुर देहात-यूपी में योगी सरकार भले ही महिला सुरक्षा के दावे कर रही हो, लेकिन जब महिलाओ लड़कियों की सुरक्षा में तैनात सिपाही ही जब रक्षक की बजाय भक्षक बन जाएंगे तो कैसे यूपी में महिलायें व लडकियां सुरक्षित होंगी। ऐसा ही एक मामला यूपी के जनपद कानपुर देहात में देखने को मिला, जहां घर के अंदर अकेली नाबालिग छात्रा को एक यूपी पुलिस विभाग में तैनात सिपाही ने अपनी हवस का शिकार बना डाला। नाबालिग छात्रा की आवाज सुन घर के अंदर पहुची नाबालिक छात्रा की माँ ने अपनी बेटी के साथ सिपाही की हैवानियत को देखा तो उसने सिपाही को कमरे के अंदर बंद कर दिया और पुलिस को सूचना दे दी। जिसके बाद पुलिस ने मामला दर्ज करते हुए सिपाही को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। पुलिस ने नाबालिग को मेडिकल के लिए भेजते हुए जांच शुरु कर दी है।

कानपुर देहात के मंगलपुर थाना क्षेत्र से एक ऐसा ही मामला निकलकर सामने आ रहा है, जहां कस्बा निवासी अंकित शुक्ला 2018 बैच में सिपाही के पद पर तैनात हुआ था और उसकी पहली ही पोस्टिंग आगरा में थी। आगरा के बरहन थाने में तत्काल समय मे तैनात है। उस पर आरोप है कि एक दिन की छुट्टी पर अपने घर आया सिपाही अंकित ने घर के पड़ोस में रहने वाली नाबालिग को घर मे अकेला देख उसको अपनी हवस का शिकार बना डाला और दुष्कर्म की घटना को अंजाम दे डाला। वही सूचना पर पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपी सिपाही को गिरफ्तार कर लिया और मामला दर्ज करते हुए उसको रेप व पास्को में जेल भेज दिया।

पीड़िता के परिजनों की माने तो जहां घर के अंदर अकेली नाबालिग छात्रा को पुलिस के सिपाही ने अपनी हवस का शिकार बना डाला। नाबालिग छात्रा की आवाज सुन घर के अंदर पहुची छात्रा की माँ ने अपनी बेटी के साथ सिपाही की हैवानियत को देखा तो उसने सिपाही को कमरे के अंदर बन कर दिया। इसके बाद पुलिस को सूचना दे दी। जिसके बाद पुलिस ने मामला दर्ज करते हुए सिपाही को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। पुलिस ने नाबालिग को मेडिकल के लिए भेजते हुए जांच शुरु कर दी है।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned