बिकरू घटना में अमर की पत्नी खुशी आरोपी, मनु पांडेय नहीं, अभी तक 42 जा चुके जेल

-तीन दिन पहले 29 जून को शादी होकर घर आई खुशी आरोपी ,

-शशिकांत की पत्नी मनु की कॉल रिकॉर्डिंग हुई थी वायरल,

-चार्जशीट दाखिल करने की अंतिम तिथि 4 अक्टूबर,

By: Arvind Kumar Verma

Published: 30 Sep 2020, 12:31 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
कानपुर-बिकरू कांड में पुलिस द्वारा चार्जशीट तैयार कर ली गई है। चार्जशीट में खुशी को आरोपी बनाए जाने एवं शशिकांत की पत्नी मनु पांडेय का स्पष्ट जिक्र न होने से एक बार फिर पुलिस पर सवालिया निशान लग रहे हैं। घटना के तीन दिन पहले 29 जून को शादी होकर घर आई खुशी पर गंभीर धाराएं लगा उसे आरोपी बना दिया गया। जबकि साजिश में मनु के शामिल होने के ठोस सबूत होने के बावजूद उसे आरोपी नहीं बनाया गया है। यह बात लोगों के गले नहीं उतर रही है। फिलहाल 4 अक्टूबर चार्जशीट दाखिल करने की अंतिम तिथि है। कानपुर के बिकरू घटना को लेकर एक के बाद एक नए मोड़ सामने आ रहे हैं। घटना होने के बाद पुलिस 42 लोगों को सलाखों के पीछे भेज चुकी है। जिसमें इनकाउंटर में मारे गए अमर दुबे की नाबालिग पत्नी खुशी भी एक है, जिसकी शादी घटना के 3 दिन पहले ही हुई थी।

मनु की कॉल रिकॉर्डिंग हुई थी वायरल

पुलिस ने खुशी पर विस्फोटक अधिनियम, हत्या व हत्या का प्रयास एवं साजिश रचने सहित 17 धाराओं में दर्ज कर आरोपी बनाया है। वहीं दूसरी तरह शशिकांत की पत्नी मनु की कॉल रिकॉर्डिंग वायरल हुई थी, जिससे उसके साजिश में सम्मिलित होने की बात सामने आई, लेकिन उसके खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं की गई। घटना में बिल्हौर सीओ का शव भी मनु के घर में ही पाया गया था। मनु को गवाह बनाने की बात भी कुछ अधिकारियों द्वारा की जा रही थी, लेकिन अपराध में वह शामिल है तो गवाह क्यों बनाया जाएगा। विवेचना टीम के एक अधिकारी का कहना है कि जो साक्ष्य हैं, उसके आधार पर मनु को आरोपी बनाया जाना चाहिए। जेल भेजने के बाद खुशी को लेकर कई सवाल उठ खड़े हुए थे।

इस तरह के मोड़ आए सामने

इस पर तत्कालीन एसएसपी दिनेश कुमार ने खुशी को जेल से बाहर निकलवाने की बात कही थी। लेकिन कुछ दिन पुलिस इस बात से मुकर गई और रिहा कराने की प्रक्रिया भी रोक दी गई। फिर उसे खूंखार अपराधी बना दिया गया। इस विषय को लेकर भी चर्चाएं हैं। कुछ ग्रामीणों में चर्चा रही को खुशी के बाहर रहने पर कई राज खुल सकते हैं। पुलिस भी फंस सकती है। इस मामले पुलिस का शुरुवात में कहना था कि कुख्यात अपराधी विकास दुबे अपने भाई दीपक की राइफल प्रयोग करता है, वह विकास के साथ हर अपराध में सम्मिलित रहता है। वहीं दूसरी तरफ पुलिस विकास के भाई दीपक दुबे और उसकी पत्नी को क्लीन चिट दे चुकी है। पुलिस के मुताबिक दीपक और विकास की पत्नी रिचा के बिकरू में उस रात मौजूद होने के साक्ष्य नहीं मिले हैं।

Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned