सरकार के इस अभियान को लेकर अफसर हुए सख्त, एक सप्ताह का दिया समय, बोले लापरवाही पर होगी सख्त कार्रवाई

आरोप है कि इन दोनों ग्राम पंचायतों में शौंचालयों का निर्माण ठेकेदारी पर होने के चलते निर्माण कार्य लक्ष्य के सापेक्ष पूरा नही हो सका है।

By: Arvind Kumar Verma

Published: 07 Jul 2019, 06:57 PM IST

कानपुर देहात-स्वच्छता अभियान के तहत केंद्र से लेकर राज्य सरकार कोई कोताही नही बारात रही है। बावजूद इसके गांव गांव शौंचालय निर्माण को लेकर जिम्मेदार मनमानी केने से बाज नही आ रहे हैं। दरअसल शासन ने बेसलाइन सर्वे से छूटे पात्रों के 93625 शौंचालय निर्माण का लक्ष्य हर हाल में 30 जून तक पूरा करने टारगेट कानपुर देहात जनपद को दिया था। बता दें कि पिछले दिनों कानपुर देहात के रसूलाबाद ब्लाक के जिला सलाहकार प्रवीण मिश्रा ने डीपीआरओ को रिपोर्ट देकर बताया कि ग्राम पंचायत मुलही में 20 शौंचालय निर्माण का आवंटन किया गया था। इस पर सिर्फ 17 शौंचालयों का निर्माण कराकर जियो टैगिंग की गई है। वहीं शेष तीन शौंचालयों के निर्माण का कार्य शुरू नही कराया गया है।

 

इसी तरह ग्राम पंचायत नारखास में 20 शौंचालयों के सापेक्ष 18 ही बनवाये गए है और शेष दो शौंचालयों का काम अधर में लटका हुआ है। आरोप है कि इन दोनों ग्राम पंचायतों में शौंचालयों का निर्माण ठेकेदारी पर कराया जा रहा है, इसके चलते निर्माण कार्य लक्ष्य के सापेक्ष पूरा नही हो सका है। इसके साथ ही मानक के विपरीत घटिया गुणवत्ता वाले तीन के दरवाजे लगवाए जा रहे हैं। इस वजह से बनवाये गए शौंचालय गुणवत्ता विहीन हैं। डीपीआरओ शिव शंकर सिंह ने बताया कि मुलही व नारखास दोनों ग्राम पंचायतों में ग्राम प्रधान व सचिवों द्वारा ठीक से दायित्वों का निर्वहन नही कर रहे हैं। नोटिस जारी करके एक सप्ताह में जवाब मांगा गया है। आदेशों की लगातार अवहेलना करने पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned