मंत्री जय कुमार जैकी ने खीच दी लक्ष्मण रेखा, दोआब की सरदह लांघ नहीं पाया कोरोना


घाटमपुर से सटी जहानाबाद विधानसभा के अलावा फतेहपुर में एक भी कोरोना संक्रमित मरीज नहीं मिलने से मंत्री ने अलाधिकारियों के साथ जनता की थपथपाई पीठ, 3 मई तक इसी तरह से कोरोना के खिलाफ जारी रखेंगे लड़ाई।

By: Vinod Nigam

Published: 23 Apr 2020, 01:50 PM IST

कानपुर। गंगा के किनारे बसे कानपुर में कोरोना का कहर जारी है पर जिले की सीमा से सटे फतेहपुर जनपद की सरहद में किलर कोरोना प्रवेश नहीं कर पाया। इस पर पत्रिका ने सूबे के कारागार मंत्री व जहानाबाद से विधायक जय कुमार सिंह जैकी से बात की। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिस दिन लाॅकडाउन का ऐलान किया उसके अगले दिन हमनें जिले के अलाधिकारियों के साथ बैठक की। फिर ग्रामपंचायत, नगरपालिका व नगर पंचायत के जनपतिनिधि व कर्मवारियों के साथ चैपाल लगाकर कोरोना के बारे में जानकारी देकर उन्हें अपने-अपने गांव, मोहल्ले, कस्बों की सुरक्षा के लिए तैनात कर दिया। यहां पर लाॅकडाउन का लोगों ने पालन किया तो बाहर से आए रिश्तेदारों को स्कूल में रखवाया। जिसका नतीजा रहा कि वायरस गंगा-यमुना पट्टी दोआब में दाखिल नहीं हो सका।

सबने दिया साथ
मंत्री जयकुमार सिंह जैकी ने बताया कि लाॅकडाउन के ऐलान के बाद हम अकेले कार के जरिए गांवों का भ्रमण किया। किसानों की सोशल डिस्टेंसिंग के तहत फसल की कटाई की व्यवस्था करवाई। सुबह चार से लेकर 10 बजे तक किसान खेतों में रहे। इसके बाद अपने-अपने घरों में चले जाते हैं। मंत्री ने बताया कि जहानाबाद विधानसभा से सटे बरीपाल में कोरोना के मरीज मिलने के बाद हमनें पूरे इलाके के लोगों से चर्चा की। ग्रामप्रधानों के अलावा अन्य ग्रामीणों से रतजगा कर गांव की सुरक्षा की जिम्मेदारी सौंपी। इसी का नतीजा रहा कि किलर कोरोना हमारे जिले में प्रवेश नहीं कर पाया।

5 लाख से ज्यादा लोगों को राशन
मंत्री जय कुमार सिंह जैकी ने बताया कि लाॅकडाउन के बाद प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ के आदेश के तहत जनपद में 5 लाख से ज्यादा गरीब, मजदूर, किसान व मनरेगा मजदूरों को निशुल्क में राशन पहुंचाया गया। बाहर से आए लोगों को गांव के बाहर स्कूलों में ठकराया गया। उनके भोजन के साथ मेडिकल चेकअप की व्यवस्था करवाई। मंत्री ने कहा कि पहले की सरकारों में राशन दुकानदार गरीबों के अनाज से अपनी जेब भरते थे, लेकिन 2017 में बीजेपी सरकार बनने के बाद हमनें जनपद से जनपद से राशन माफियाओं को बाहर करवाया। राशन दुकानदारों को सख्त हिदायद दी गई, जिसके चलते लाॅकडाउन के वक्त दुकानदार भी इमानदारी तरीके से गरीबों के घर गेहूं-चावल पहुंचाया।

---तो करें शिकायत
मंत्री ने बताया कि 3 मई तक जनपद में लोग पहले की तरह ही लाॅकडाउन का पालन करेंगे। सरकार के आदेश के बाद जिलाप्रशासन रियायत देगा। मंत्री ने कहा कि यदि किसी को कोई भी समस्या हो तो वह तत्काल मेरे मोबाइल नंबर से संपर्क कर सकता है। मंत्री ने बताया कि 23 मार्च से लेकर 22 अप्रैल के बीच हम महज तीन से चार घंटे ही सोए। घर में रहकर जनपद पर नजर बनाए रखा। अधिकारियों से चर्चा कर उकना हौसला बढ़ाया। संकट की इस घड़ी में सबने साथ दिया। मंत्री ने राशन दुकानदारों को भी धन्यवाद दिया। साथ ही कहा कि यदि कोई अधिकारी पैसा मांगे, घटतौली करे तो वह मुझको बताएं। हम उस अधिकारी को सस्पेंड के साथ जेल भिजवाएंगे।

एक के बाद एक फैसले लिए
23 मार्च से अब तक मंत्री जय कुमार सिंह जैकी ने एक के बाद एक कई बड़े फैसले लिए। यही नहीं चाहे वह गरीबों को भोजन मुहैया कराना हो, दूसरे राज्यों से अपने घरों को लौट रहे लोगों का दर्द बांटना हो या फिर खुद ही पूरी व्यवस्था की मॉनिटरिंग करना हो. मंत्री हर मोर्चे पर डटे दिख रहे हैं। मंत्री ने बताया कि रोज सुबह 10 बजे और शाम को 6 बजे अधिकारियों के साथ चर्चा करने के अलावा जिलें का भी दौरा करते हैं। अस्पताल हो या फिर कम्युनिटी किचन हो या फिर सड़क पर लौटते लोग, मंत्री हर जगह खुद पहुंचते हैं और जायजा लेने के साथ ही निर्देश भी देते हैं।

इनका भी मिला सहयोग
मंत्री ने कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए पंचायतीराज, ग्राम्य विकास और नगर विकास विभाग को व्यापक जागरूकता कार्यक्रम संचालित करने के निर्देश दिए। जनपद सीमा के सभी चेकपोस्टों पर थर्मल एनालाइजर स्थापित किये गए। जनपद में कोरोना फ्लू से निपटने के लिए कंट्रोल रूम स्थापित करवाया। धार्मिक स्थलों पर श्रद्धालुओं की भीड़ न इकट्ठी हो, इसको लेकर मंत्री ने धर्मगुरुओं से कोरोना वायरस के नियंत्रण के लिए समाज में जागरूकता का प्रसार करने की अपील की। विशेष परिस्थितियों को देखते हुए आमजन से अनुरोध किया कि चैत्र नवरात्रि में लोग अपने घर में ही रहकर धार्मिक अनुष्ठान संपन्न करें।

जनपद को मिला योजना का लाभ
मंत्री ने बताया कि डीएम को निर्देश दिया गया कि वे यह सुनिश्चित करें कि आवश्यक वस्तुओं की जमाखोरी अथवा कालाबाजारी न होने पाए। पुलिस को पूरे जनपद में व्यापक पेट्रोलिंग करने के निर्देश दिए। बताया, सीएम योगी आदित्यनाथ ने दैनिक रूप से कार्य करके अपने व अपने परिवार का जीवन-यापन करने वाले व्यक्तियों के सहायतार्थ अनेक निर्णय लिए। श्रम विभाग के 20.37 लाख पंजीकृत श्रमिकों को ‘लेबर सेस फण्ड’ से प्रत्येक श्रमिक को 1000 रुपए प्रति माह डीबीटी के माध्यम से उपलब्ध कराने की व्यवस्था की, जिसका लाभ फतेहपुर के मजदूरों को भी मिला।

Corona virus Corona Virus treatment coronavirus
Show More
Vinod Nigam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned