रेलमंत्री जी ट्रेन में महिलाएं असुरक्षित, शोहदों के चलते मां-बेटी ने छलांग लगा दी

कानपुर के चंदारी रेलवे स्टेशन पर हुई वारदात के बाद रेलवे प्रशासन में हड़कंप मच गया।

By:

Published: 12 Nov 2017, 10:35 PM IST

कानपुर। केंद्र में जब से मोदी सरकार सत्ता में आई तब से रेलवे की सुरक्षा व्यवस्था रामभरोसे चल रही है। ट्रेन हादसे का शिकार हो रही थी तो लूटपाट की घटनाएं रूकने के बजाय बढ़ी हैं। ऐसा ही एक मामला देररात सामने आया, जहां .हावड़ा से दिल्ली जा रही मां-बेटी ने शोहदों की हरकतों से तंग आकर चलती ट्रेन से छलांग लगा दी। कानपुर के चंदारी रेलवे स्टेशन पर हुई वारदात के बाद रेलवे प्रशासन में हड़कंप मच गया। सूचना पाकर पहुंची जीआरपी ने घायल मां-बेटी को इलाज के लिये हैलट अस्पताल में भर्ती कराया। घायल महिला ने बताया कि शोहदे उनके साथ गलत व्यवहार कर रहे थे। हमने जीआरपी को जानकारी दी। पुलिसवाले तीनों लड़कों को पकड़ लिया और फिर पैसे लेकर छोड़ दिया। तीनों शोहदे पीछा कर ट्रेन में सवार हो गए और बेटी को दबोचने लगे। उनसे बचने के लिए हम बेटी समेत ट्रेन से छलांक लगा दी।
पकड़ने के बाद आरोपियों को छोड़ा
बंगाल की रहने वाली नूरजहां के पति बाबू खान दिल्ली में नौकरी करते हैं। नूरजहां अपनी इकलौती बेटी सोनिया के साथ हावड़ा से दिल्ली जा रही थी। महिला ने बताया कि कलकत्ता से कुछ लड़के ट्रेन में सवार हुये थे और बेटी से बत्तमीजी कर रहे थे। जिसकी शिकायत हमने ने रास्ते में पड़ने वाले स्टेशन में की लेकिन रेलवे पुलिस ने कोई एक्शन नहीं लिया। शोहदों ने जब हद पार करनी शुरु कर दी तो मैने इलाहाबाद में उनकी शिकायत की इस दौरान जीआरपी ने तीन लड़कों को ट्रेन से उतार लिया और फिर छोड़ दिया। अगले स्टेशन में वह लड़के फिर ट्रेन में सवार हो गये और महिला और उसकी बेटी से बदसलूकी करनी शुरु कर दी। बेटी और खुद की लाज बचाने के लिये महिला कानपुर स्थित चंदारी रेलवे स्टेशन पर चलती ट्रेन से कूद गईं।
गार्ड की सूचना पर पहुंची कानपुर जीआरपी
मां-बेटी को ट्रेन से कूदता देख वहां मौजूद गार्ड ने घटना की जानकारी जीआरपी अफसरों को दी। घटना की जानकारी पाकर पहुंची जीआरपी पुलिस ने महिला को हैलट अस्पताल में भर्ती कराया जहां से उन्हें प्राथमिक इलाज देकर सेन्ट्रल स्टेशन जीआरपी के सुपुर्द कर दिया गया हैं। जीआरपी इंस्पेक्टर राम मोहन राय ने बताया कि पीड़िता की शिकायत पर मामला दर्ज कर लिया गया है और पूरे प्रकरध की जानकारी इलाहाबाद जीआरपी के वरिष्ट अधिकारियों को दे दी गई है। जीआरपी और पुलिस तीनों शोहदों को पकड़ने के लिए इलाहाबाद के लिए रवाना हो गई है। साथ ही गिरफ्तारी के बाद तीनों आरोपियों को क्यों छोड़ा गया इसकी भी जांच की जाएगा। मामले पर जो भी दोषी पाया जाएगा उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
बेटी की इज्जत बचाने के लिए उठाया कदम
पीड़िता ने बताया कि तीनों शोहदे को जीआरपी इलाहाबाद ने अरेस्ट कर लिया तो हम दोनों सो गए। कुछ देर के बाद तीनों युवक हमारे डिब्बे में आ धमके और पहले उन्होंने मुझे जमकर गालियां दीं ओर बेटी को सीट से घसीटने लगे। मैने विरोध किया तो उनमें से एक ने मेरी पिटाई कर दी। मैने एक शोहदे को पकड़ लिया और ट्रेन में सफर कर रहे यात्रियों से मदद की गुहार लगाई। कुछ लोग आगे बढ़े तो शोहदे उन्हें अपनी-अपनी सीट पर बैठे रहने को कहा। जब तीनों बेटी को दबोचने लगे तो मैने उन्हें धक्का देकर गेट के पास जा पहुची और ट्रेन से छलांग लगा दी।

pm modi
Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned