मुस्लिम वोटर्स ने कमल को दिया वोट, इरफान के इलाके में भाजपा को बढ़त

मुस्लिम वोटर्स ने कमल को दिया वोट, इरफान के इलाके में भाजपा को बढ़त
bjp

Shatrudhan Gupta | Updated: 01 Dec 2017, 04:02:01 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

भाजपा ने मुस्लिम मंच और संघ ने मुस्लिम इलाकों में ट्रिपल तलाक के मुद्दे को जमकर भुनाया और महिलाओं ने इसी के चलते कमल को वोट दिया।

कानपुर. भाजपा ने निकाय चुनाव सबका-साथ, सबका-विकास की तर्ज पर लड़ा। कानपुर के साथ ही यूपी में कई मुस्लिम प्रत्याशियों को टिकट देकर चुनाव के मैदान पर उतारा था। भाजपा ने मुस्लिम मंच और संघ ने मुस्लिम इलाकों में ट्रिपल तलाक के मुद्दे को जमकर भुनाया और महिलाओं ने इसी के चलते कमल को वोट दिया। सपा के विधायक इरफान सोलंकी की विधानसभा सीसामऊ मुस्लिम बाहूल्य मानी जाती है और यहां से भाजपा को पहली बार जबरदस्त वोट मिले। साथ ही कैंट विधानसभा में भाजपा प्रत्याशियों को मत मिले हैं। यहां से कांग्रेस के सोहेल अंसारी विधायक हैं। साथ ही आर्यनगर की अधिकतर वार्डो में भाजपा ने 109 वार्डो में से 4 मुस्लिम प्रत्याशियों को टिकट देकर निकाय चुनाव में उतारा। तलाक महल से भाजपा ने रहनुमा बेगम को, कर्नलगंज से आसमा बेगम, जाजमऊ से रिहाना वारसी, दलेलपुरवा तारिख अंसारी को चुनावी मैदान पर उतारा।

50 वार्डो में खिला कमल

नगर निकाय चुनाव में जिस तरह मतदान का प्रतिशत धूप निकलते ही बढ़ा ठीक उसी तरह मतगणना में भाजपा मेयर प्रत्याशी बढ़त बना रहीं है। भाजपा मेयर प्रत्याशी प्रमिला पाण्डेय कांग्रेस की वंदना मिश्रा से काफी आगे निकल गईं और 86 हजार वोटों की निर्णायक वोटों की बढ़त बना चुकी हैं। प्रमिला को 2,32,489 वंदना को 1,47,690 सपा को 70,516 और बसपा को 54,364 वोट अभी तक मिले हैं। वहीं 110 वार्डो में से भाजपा 50 सीटें जीत चुकी है और दस सीटों पर बढ़त बनाए हुए है। भाजपा को इस चुनाव में मुस्लिम वोटर्स ने ठीक-ठाक वोट दिए। सीसामऊ विधानसभा क्षेत्र के तलाक महल, नालारोड, नहेरूनगर, बेगम, जाजमऊ दलेलपुरवा में मुस्लिम इलाकों में भाजपा जीत तो नहीं पाई, लेकिन मत प्रतिशत में बढ़ोतरी जरूर की है।

यूपी में 187 मुस्लिम चेहरे उतारे

यूपी निकाय चुनावों में 187 मुस्लिम चेहरों पर दांव लगाया था, जिनमें से अधिकतर महिलाएं हैं. चौंकने की बात है कि सिर्फ पार्षद व सभासद के चुनाव के लिए ही नहीं बल्कि बीजेपी ने 19 नगर परिषद अध्यक्ष पदों के लिए भी मुस्लिम चेहरे उतारे हैं, जिनमें 15 महिलाएं हैं। दरअसल, बीजेपी 2019 लोकसभा चुनाव को लेकर सियासी गुणा-भाग अभी से ही लगाने में जुटी है। बीजेपी खेमे में ये कवायद और चर्चा ज्यादा है कि 2019 के लोकसभा चुनाव में मुसलमानों का कौन सा तबका उन्हें वोट करेगा। उत्तर प्रदेश में शिया समुदाय के वोट कुछ हद तक बीजेपी को मिलते रहे हैं, लेकिन अब पार्टी अपना दायरा बढ़ाने के लिए मुस्लिम महिला वोटरों को भी अधिक से अधिक साथ जोड़ने के लिए मशक्कत कर रही है।

पहली बार भाजपा के लिए वोट पड़े

निकाय चुनाव के दौरान मुस्लिम बहुल इलाकों में भी बीजेपी के झंडे-पोस्टरों के साथ पार्टी के नेता गलियों में प्रचार करते देखे गए। ऐसे इलाकों में जहां बीजेपी के नेता बहुत ही कम जाया करते थे।वहां ना सिर्फ पार्टी के दफ्तर खुले, बल्कि बीजेपी के मुस्लिम चेहरे धड़ल्ले से सभाएं भी करते नजर आए। तलाक महल में 90 फीसदी आबादी मुस्लिमों की है और भाजपा ने यहां से रहनुमा बेगम को टिकट देकर चुनाव में उतारा था। यूपी के कैबिनेट मंत्री सतीश महाना सहित कई नेताओं ने सकरी गलियों में जाकर वोट मांगे। भाजपा तलाक महल से चुनाव तो नहीं जीती, लेकिन पहली बार करीब 300 वोट यहां से कमल को गए। सपा पहले नंबर, कांग्रेस दूसरे, बसपा तीसरे तो भाजपा प्रत्याशी यहां चौथे नंबर रही।

ट्रिपल तलाक का मुद्दा भाया

बीजेपी के मीडिया प्रभारी मोहित पांडेय ने बताया कि बीजेपी की तरफ मुसलमानों का रुझान बढ़ा है। ट्रिपल तलाक का मुद्दा उठने के बाद मुस्लिम महिलाएं बड़ी तादाद में आगे आई हैं। ऐसे में हमारी कोशिश इन्हें पार्टी से जोड़ने की है क्योंकि हमारा नारा है सबका साथ, सबका विकास। मोहित ने बताया कि कानपुर-बुंदेलखं डमें 33 नगर पालिका और 63 नगर पंचायतें की सीटें हैं। पार्टी ने पांच नगर पंचायतों के अलावा एक दर्जन वार्डो में मुस्लिम महिलाओं को टिकट देकर चुनाव के मैदान में उतारा था। मुस्लिम बहुल इलाकों में यूपी के इकलौते मुस्लिम मंत्री मोहसिन रजा ने खूब सभाएं कीं। तंग गलियों से लेकर छोटे कस्बों तक बीजेपी नेताओँ को सुनने के लिए लोग भी जुटे।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned