scriptNavy will get first machine gun, will shoot up to 1.7 km under the sea | Indian Navy News: भारतीय नौसेना के लिए बनी ऐसी पहली मशीन गन, समुद्र के अंदर 1.7 किमी तक मार, दुश्मनों को देगी मात | Patrika News

Indian Navy News: भारतीय नौसेना के लिए बनी ऐसी पहली मशीन गन, समुद्र के अंदर 1.7 किमी तक मार, दुश्मनों को देगी मात

-देश में नौसेना के लिए बनाई गई पहली हैवी मशीन गन,
-समुद्र के अंदर 1.7 किमी तक कर सकती है मार,
-इसका निर्माण आयुध निर्माणी तिरुचिरापल्ली में किया गया,

कानपुर

Published: July 18, 2021 06:07:30 pm

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
कानपुर. भारतीय नौसेना (Indian Navy) अब और भी मजबूत हथियारों से लैस किया जा रहा है। नौसैनिक अब समुद्र में दुश्मनों को करार जवाब दे सकेंगे। देश की यह पहली मशीन गन (Navy Get First Machine-Gun) बनाई गई है, जो समुद्र के अंदर 1.7 किमी तक मार कर दुश्मनों को मजा चखाएगी। इस 12.7 एमएम 2 नाटो स्टैंडर्ड हैवी मशीन गन (Heavy Standard Machine-Gun) है, इसे स्टैबलाइज्ड रिमोट कंट्रोल गन भी कहते हैं। इसका निर्माण आयुध निर्माणी तिरुचिरापल्ली ने किया है। यह काफी हैवी मशीन गन है, जो दुश्मनों को मार गिराने के साथ ही छोटे जहाजों को भी नुकसान पहुंचाकर डुबोने की ताकत रखती है।
Indian Navy News: भारतीय नौसेना के लिए बनी ऐसी पहली मशीन गन, समुद्र के अंदर 1.7 किमी तक मार, दुश्मनों को देगी मात
Indian Navy News: भारतीय नौसेना के लिए बनी ऐसी पहली मशीन गन, समुद्र के अंदर 1.7 किमी तक मार, दुश्मनों को देगी मात
यह भी पढ़ें: अब रक्षा मंत्रालय की शिकायतों का होगा जल्द निस्तारण, आईआईटी के इस एप में है विशेष खूबियां

स्माल आर्म्स फैक्ट्री (एसएएफ) कानपुर के अपर महाप्रबंधक प्रशासन एवं आर्डनेंस फैक्ट्री बोर्ड के उप महानिदेशक कारपोरेट कम्युनिकेशन गगन चतुर्वेदी ने बताया कि एलबिट सिस्टम, इजरायल से तकनीक हस्तांतरण करार हुआ, जिसके बाद यह गन बनाई गई है। यह 15 अत्याधुनिक हथियार नौसेना व भारतीय तटरक्षक को दिए गए हैं। शनिवार को एक कार्यक्रम के दौरान नौसेना को पांच और तटरक्षकों को 10 स्टैबलाइज्ड रिमोट कंट्रोल गन सौंपी गईं। उन्होंने बताया कि यह गन मरीन एप्लीकेशन्स के लिए है।
यह मशीनगन पूरी तरह आटोमेटिक है। रिमोट द्वारा इससे लक्ष्य भेदा जाता है। इसमें सीसीडी कैमरा, थर्मल इमेजर व लेजर रेंज फाइंडर लगाया गया है, जिससे यह रात के अंधेरे में भी लक्ष्य भेदने में सफल है। इसमें लगे ट्रैकिंग सिस्टम के जरिए लक्ष्य की सही तरीके से पहचान की जाती है। उप महानिदेशक ने बताया कि अभी तक ऐसी कोई हैवी मशीनगन नौसेना को ध्यान में रखकर नहीं बनी थी, जो रिमोट से संचालित हो। तमिलनाडु के तिरुचिरापल्ली में एक समारोह के दौरान ये गन महानिदेशक नेवल आर्मामेंट केएससी अय्यर को महानिदेशक आयुध निर्माणियां एवं अध्यक्ष आर्डनेंस फैक्ट्री बोर्ड सीएस विश्वकर्मा ने सौंपी।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

School Holidays in February 2022: जनवरी में खुले नहीं और फरवरी में इतने दिन की है छुट्टी, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालइन 4 तारीखों में जन्मी लड़कियां पति की चमका देती हैं किस्मत, होती है बेहद लकी“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीमां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतजैक कैलिस ने चुनी इतिहास की सर्वश्रेष्ठ ऑलटाइम XI, 3 भारतीय खिलाड़ियों को दी जगहकम उम्र में ही दौलत शोहरत हासिल कर लेते हैं इन 4 राशियों के लोग, होते हैं मेहनतीइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

Delhi: गैंगरेप के बाद युवती के काटे बाल, चेहरे पर कालिख पोत कर गलियों में घुमाया, जानिए क्या बोले सीएमराहुल गांधी ने फॉलोवर्स सीमित होने पर Twitter पर लगाया सरकार के दबाव में काम करने का आरोप, जानिए क्या मिला जवाबहाथी ने श्रमिक को कुचला झारखंड में नक्सलियों ने ब्लास्ट कर उड़ाया रेलवे ट्रैक, राजधानी एक्सप्रेस सहित कई ट्रेनों का रूट बदलाBudget 2022: इस साल भी पेश होगा डिजिटल बजट, जानें कैसे होगी छपाईUP Election 2022: प्रचार करने आए भाजपा के एक और उम्मीदवार को स्थानीय लोगों ने भगायाUP Election 2022 : अखिलेश को फिर बड़ा झटका, सपा विधायक हाजी इकराम कुरैशी ने थामा कांग्रेस का दामनUP Assembly Elections 2022: PM Narendra Modi के गढ़ में BJP को घेरने में जुटी सपा सुभासपा संग TMC जानें क्या है रणनीत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.