अब ब्लड बैंक से मिलने वाले खून में नहीं रहेगा एचआईवी संक्रमण का खतरा

अब ब्लड बैंक से मिलने वाले खून में नहीं रहेगा एचआईवी संक्रमण का खतरा

Alok Pandey | Updated: 08 Sep 2019, 11:40:39 AM (IST) Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

न्यूक्लिक एसिड टेस्ट के बाद ही मरीजों को दिया जाएगा खून
मरीजों में खून से किसी भी संक्रमण का नहीं रहेगा खतरा

कानपुर। किसी बीमारी या हादसे के दौरान मरीज को दिया जाने वाला खून अब और भी सुरक्षित होगा। इस खून से अब एचआईवी संक्रमण का खतरा नहीं होगा। मरीजों को दिया जाने वाला खून नेट (न्यूक्लिक एसिड टेस्ट) के बाद ही ब्लड बैंक से बाहर निकलेगा। इस खून में किसी भी तरह के संक्रमण की संभावना शून्य रहेगी।

न्यूक्लिक एसिड टेस्ट
न्यूक्लिक एसिड टेस्ट खून की जांच करने की एक ऐसी विधि है, जिससे खून में किसी भी प्रकार के संक्रमण का पता चल जाता है। खासतौर पर एचआईवी संक्रमण का। आमतौर पर एचआईवी संक्रमण का पता खून की जांच में नहीं चल पाता है। यदि कोई व्यक्ति (डोनर) हेपेटाइटिस संक्रमण के 56 दिन व एचआईवी संक्रमण होने के 22 से 25 दिन (विंडो पीरियड) में यदि ब्लड बैंक में रक्तदान करता है, तो जांचकर्ताओं को यह पता नहीं लग पाता कि उसके ब्लड में एचआईवी के वायरस मौजूद हैं या नहीं। ब्लड बैंक में मौजूदा जांच व्यवस्था के तहत किसी एचआईवी पीडि़त के खून में वायरस का पता उसी स्थिति में चल सकता है, जब सैंपल संक्रमित होने के 28 दिन बाद लिया गया हो। इस कारण विंडो पीरियड को कम नहीं किया जा सकता। जबकि नेट के जरिए एंटीबॉडी की पहचान कर कम समय में संक्रमण का पता लग जाता है, विंडो पीरियड को घटाया जा सकता है।

कोई एक्स्ट्रा चार्ज नहीं होगा
ब्लड बैंक प्रभारी डॉ. लुबना खान ने बताया कि हैलट के ब्लड बैंक में अब सभी को न्यूक्लिक एसिड टेस्ट के बाद ही खून देने का क्रम शुरू कर दिया गया है। इसमें किसी को भी अतिरिक्त शुल्क भी नहीं देना होगा। नेट जांच के बाद मिलने वाले खून में मरीजों को किसी भी तरह का संक्रमण बाद में होने की संभावना शून्य हो जाएगी। थैलीसीमिया जैसे मरीजों को फ्री में खून देने का नियम है इसलिए खून का संकट रहता है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned