वृद्धा का सपना पूरा कर लोगों की सुर्खियों में छाए थानाध्यक्ष, ओडीएफ को लेकर अखिलेश यादव ने भी पहले किया था ट्वीट

इस मामले के चर्चा में आने के बाद सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी ट्वीट किया था।

By: Arvind Kumar Verma

Published: 22 Feb 2021, 02:30 PM IST

पत्रिका न्यूज नेटवर्क
कानपुर. पुलिस के प्रति आम लोगों की गलत विचारधारा से हटकर कानपुर के बिधनू थानाध्यक्ष (Bidhnu Thanadhyaksh) ने सराहनीय कार्य किया, जिससे वो चर्चा का विषय बने हुए हैं। पुलिस का इन्सानियत भरा मित्रवत चेहरा लोगों को देखने को मिला। जब शौचालय को लेकर पारिवारिक विवाद (Parivarik Vivad) में थानाध्यक्ष ने एकता का पाठ पढ़ाया, जिससे आज पूरा परिवार एकजुट होकर लोगों के लिए नजीर बन गए हैं। उनके इस कार्य के चलते बिधनू के ग्रामीणों से लेकर ट्विटर (Twiter) तक पुलिस की जमकर सराहना हो रही है। हालांकि इस मामले के चर्चा में आने के बाद सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव (SP Akhilesh Yadav) ने भी ट्वीट (Tweet) किया था। उन्होंने पार्टी के ट्विटर अकाउंट (Party Twiter Account) से कानपुर के ओडीएफ (ODF Kanpur) होने पर तंज कसा था।

यह भी पढ़ें: अगर चुनना है ग्राम प्रधान तो मतदाता सूची में नाम बढ़वाएं, जानिए कैसे और कहां करें आवेदन

जानिए पूरा मामला

बिधनू थानाक्षेत्र के कठारा गांव की 80 वर्षीय वृद्धा सुंदर देवी (Lady Sunder Devi) की मजबूरी जानकर आप भी दंग रह जाएंगे। घर में शौचालय (Shauchalay) न होने से वृद्धा कुछ दिनों से एक टाइम ही खाना खा रही थीं। जिससे बार-बार शौचालय न जाना पड़े। दरअसल 80 वर्षीय सुंदर देवी को ग्राम पंचायत (Gram Panchayat) की ओर से शौचालय निर्माण के लिए रुपये मिले थे। वह करीब छह माह से दरवाजे पर शौचालय निर्माण कराने का प्रयास कर रही थीं, लेकिन पड़ोस में रहने वाले भतीजे इसका विरोध करते थे। कहासुनी में बात मारपीट तक आ पहुंचती थी।

फिर इस तरह बन गया पूरा परिवार

विवाद से निजात पाने के लिए सुंदर देवी ने डीआइजी डॉ. प्रीतिंदर सिंह (DIG Dr. Pritinder Singh) से इसकी शिकायत करते हुए शौचालय बनवाने की गुहार लगाई थी। इस पर डीआइजी ने थाना प्रभारी को मामले की जांच के आदेश दिए थे। जिसके बाद सुंदर देवी के घर बिधनू थाना प्रभारी विनोद कुमार सिंह पहुंचे, जहां उन्होंने वृद्धा के सभी भतीजों और बेटों को एक साथ बैठाया। और इंसानियत व बड़े बुजुर्गों के प्रति सम्मान का भाव रखने की सीख दी। थानाध्यक्ष की शैली देख पूरा परिवार गिले-शिकवे खत्म कर वृद्ध चाची के लिए शौचालय बनवाने के लिए तैयार हो गए। थाना प्रभारी ने बताया कि भतीजे पहले पूरी संपति के बंटवारे की मांग कर रहे थे।

Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned