इस अफसर की पहल आ रही काम, पांच सैकड़ा से अधिक महिला पुरुषों को मिल रहा रोजगार

इससे पांच सौ से अधिक महिला एवं पुरुषों को कार्य मिला है।

By: Arvind Kumar Verma

Published: 23 May 2020, 05:02 PM IST

कानपुर देहात-एक तरफ लॉकडाउन होते ही बाहर रहकर फैक्ट्रियों या व्यापार कर कमा रहे लोगों के सामने संकट खड़ा हुआ। वहीं घर आने के बाद पूंजी न होने पर और भी समस्या गहरा गई, लेकिन ऐसे में यदि रोजी रोटी की जुगाड बन जाए तो इससे बेहतर कुछ नहीं है। ऐसा ही कुछ कानपुर देहात के उसरी ग्रामसभा में देखने को मिला। यहां शासन के निर्देशानुसार बाहर से घर वापस आए हुए लोगों को मनरेगा के तहत कमाने की व्यवस्था की गई तो लोगों के चेहरे खिल उठे। दरअसल सरकार के निर्देश पर जिले में गांव-गांव रोजगार सुलभ कराने और किसानों के लाभ के लिए खेती की सेहत सुधारने का जिम्मा मनरेगा को दिया गया है। बताया गया कि कच्चा काम हर उस व्यक्ति को देने का फैसला लिया गया है, जो जरूरतमंद है। इससे 561 महिला एवं पुरुषों को कार्य मिला है।

प्रदेश सरकार ने बीते दिनों काम धंधा बंद होने के बाद रोजगार से जूझ रहे लोगों को राहत देने के लिए मनरेगा के तहत सशर्त कार्य कराने के निर्देश दिए। इसके चलते जिले के मुख्य विकास अधिकारी जोगिंदर सिंह ने कार्य की शुरुवात कराई। इस पर रसूलाबाद क्षेत्र के आदर्श ग्राम उसरी में मनरेगा योजना के तहत नहर बंबा से खेतों की तरफ जाने वाली गूलों को पुन: बनाने का कार्य युद्ध स्तर पर किया जा रहा है। इससे गरीबों को रोजगार एवं किसानों को खेतों तक पानी पहुंचाने की सुविधा मिलेगी।

इस काम के लिए सौ महिलाओं सहित कुल पांच सौ 61 मजदूरों को एक साथ काम मिला है। ग्राम प्रधान उसरी किरन सिंह की देखरेख में एक साथ आठ अलग-अलग जगहों पर मजदूरों के द्वारा किसानों के खेतों के समीप सिंचाई के लिए काफी चौड़ी नालियां (गूल) बनवाने का कार्य चल रहा है। जिसका भौतिक सत्यापन रसूलाबाद के खंड विकास अधिकारी सच्चिदानंद व ग्राम सचिव ऊदन सिंह द्वारा किया गया। खंड विकास अधिकारी ने बताया कि पानी की नालियां गुले बनाने का कार्य मजदूरों के द्वारा कार्य करवाया जा रहा है। गुले बनाने का कार्य मुख्य विकास अधिकारी की पहली प्राथमिकता में है।

COVID-19
Arvind Kumar Verma
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned