पीएमओ के इस एक कॉल ने भाजपा में मचाया हड़कंप, सभा छोड़ भागे प्रदेश प्रभारी

पीएमओ के इस एक कॉल ने भाजपा में मचाया हड़कंप, सभा छोड़ भागे प्रदेश प्रभारी
UP BJP in charge Om Mathur

Shatrudhan Gupta | Publish: Nov, 19 2017 06:45:44 PM (IST) Lucknow, Uttar Pradesh, India

सुरेंद्र मैथानी ने बताया कि पीएमओ से फोन आने के बाद प्रदेश प्रभारी ओम माथुर को बनारस जाना पड़ा।

कानपुर. उत्तर प्रदेश निकाय चुनाव का प्रचार चरम पर है। राजनीतिक दलों के दिग्गज नेता चुनावी सभा कर अपने-अपने प्रत्याशियों को जिताने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा रहे हैं। इसी के तहत भाजपा के यूपी प्रभारी व वरिष्ठ नेता ओम माथुर कानपुर में महापौर प्रत्याशी प्रमिला पांडेय के लिए चुनाव प्रचार के लिए आए हुए थे। जनसभा में सैकड़ों की संख्या में लोग मौजूद थे।

ओम माथुर जैसे ही सभा के लिए निकलने के लिए होटल से बाहर आए, वैसे ही पीएमओ से एक कॉल आई और इसी के बाद सभा स्थगित कर दी गई। इसके बाद कार्यकर्ताओं में मायूसी छा गई। ओम माथुर ने सुरेंद्र मैथानी से तत्काल हेलीकॉप्टर की व्यवस्था करने को कहा। एक घंटे तक नगर अध्यक्ष सरकारी के साथ प्राईवेट एयर कंपनियों से संपर्क किया और दोगुना किराया देने को कहा, लेकिन कोई आने को तैयार नहीं हुआ, जिसके चलते ओम माथुर को सड़क मार्ग से ही बनारस जाना पड़ा।

पीएमओ से आया एक फोन, सीधे निकल लिए बनारस

भाजपा प्रदेश प्रभारी ओम माथुर की सभा कानपुर के फूलबाग में थी। वे लखनऊ से कानपुर पहुंचे थे। होटल विजय बिला में भोजन करने के लिए गए। इसी दौरान प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) से उनके मोबाइल पर कॉल आई। कॉल रिसीव करने के बाद उनके चेहरे पर उसादी छा गई। उन्होंने भाजपा नगर अध्यक्ष सुरेंद्र मैथानी से जल्द से जल्द बनारस जाने के लिए हेली कॉप्टर की व्यवस्था करने को कहा। सुरेंद्र मैथानी ने सरकारी के साथ प्राईवेट हेलीकॉप्टर की व्यवस्था करने के लिए जोर लगाया। दोगुने पैसे देने को कहा, लेकिन सभी ने तत्काल सुविधा देने से अपने हाथ खड़े कर दिए। इसके बाद भाजपा नेताओं ने ओम माथुर को सड़क के रास्ते बनारस पहुंचाने के लिए हाईस्पीड कार की व्यवस्था करवाई। वो यहां से सभा को संबोधित किए बिना ही बनारस के लिए निकल गए। इसके बाद भाजपा के स्थानीय नेताओं ने माइक संभाला और सभा को स्थगित करने की घोषणा कर दी।

इस नेता को भी बनारस भेजा गया

पूर्व विधायक व बनारस के चुनाव प्रभारी सलिल विश्नोई वहीं पर थे, लेकिन शनिवार को उन्हें कानपुर आना था। वो बनारस से कानपुर की ओर निकल पड़े थे, तभी उन्हें भी बनारस जाने को कहा गया। सलिल विश्नोई फतेहपुर से बनारस के लिए निकल गए। सुरेंद्र मैथानी ने बताया कि पीएमओ से फोन आने के बाद प्रदेश प्रभारी ओम माथुर को बनारस जाना पड़ा। सूत्रों की मानें तो बनारस चुनाव पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सीधी नजर है और वो अपने संसदीय क्षेत्र की सीट को हर-हाल में जीतना चाहते हैं। इसी के चलते सलिल विश्नोई को वहां का प्रभार देने के साथ वहीं रहने का आदेश भी दिया गया है। ओम माथुर के अचानक बनारस जाने के बाद सियासत और गरमाने की संभावना है।

निकाय चुनाव पर पीएम की नजर

यूपी निकाय चुनाव में स्थानीय भाजपा नेताओं ने पीएम की सभा कराए जाने की मांग की थी, लेकिन दिल्ली से उन्हें रजामंदी नहीं मिली। इसी के बाद चुनाव की कमान सीएम योगी आदित्यनाथ , डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्यदिनेश शर्मा , प्रदेश अध्यक्ष महेंद्रनाथ पांडेय सहित स्थानीय संगठन व संघ के कार्यकर्ता अपने कंधों पर उठाए हुए हैं। कानपुर में सीएम की रैली में कम लोगों के आने की जानकारी भी पीएम व राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के पास पहुंच गई है। भाजपा प्रत्याशियों को विरोधियों से 2017 के समर पर जबरदस्त चुनौती मिल रही है। कानपुर से मेयर पद के लिए कांग्रेस की महापौर प्रत्याशी वंदना मिश्रा भाजपा की प्रमिला पांडेय को कड़ी चुनौती दे रही हैं। मेयर की जंग इन्हीं दोनों के बीच मानी जा रही है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned