सेव और अनार के बीच जा पहुंचा प्याज, आम आदमी की पहुंच से हुआ बाहर

पुराना स्टाक खत्म होते ही चढ़ गए दाम
फुटकर में दाम ११० रुपए किलो पर पहुंचे

कानपुर। पिछले कई महीनों से आम आदमी की जेब हल्की कर रहा प्याज अब सब्जियों की बजाय फलों की कतार में शामिल हो गया है। इसके दाम अनार और सेब की तरह चढ़ गए हैं। पुराना स्टॉक खत्म होते ही दाम बढऩे से अब प्याज पहुंच से बाहर हो गया है। थोक में प्याज ९५ रुपए तो फुटकर में ११० रुपए किलो पर जा पहुंचा है।

स्टॉक हुआ खत्म, आवक हुई कम
थोक मंडी में प्याज का पुराना स्टाक खत्म हो चुका है। महज पांच दिन पहले प्याज का थोक रेट ५५ रुपए था, लेकिन अब प्याज है ही नहीं और पुराना प्याज आना भी बंद हो गया है। जो भी प्याज आता है वह आते ही उठ जाता है। स्टॉक के लिए बचता ही नहीं। पहले औसतन १२०० टन प्याज आता था जो इस बार घटकर ५०० टन रह गया है।

होटल-ढाबों से गायब हुआ प्याज
प्याज के बढ़ते दाम से आम आदमी की रसोई का बजट तो पहले ही बिगड़ चुका था अब होटल और ढाबों से भी प्याज गायब हो रहा है। होटल-ढाबा संचालकों का कहना है कि खाने का रेट तो लगभग वही रहता है, प्याज तो फ्री में दिया जाता है। अब प्याज इतना महंगा है कि फ्री में देना मुमकिन नहीं और अगर इसका दाम खाने में रेट शामिल करेंगे तो ग्राहक कम हो जाएंगे। लिहाजा प्याज की जगह मूली से काम चलाया जा रहा है।

दावत में खरबूजे के बीज की प्यूरी का इस्तेमाल
शादी की दावतों में भी प्याज उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। महंगाई के कारण दावत का बजट बिगड़ रहा है, लिहाजा खरबूजे और तरबूज के बीच से प्यूरी तैयार कर काम चलाया जा रहा है। जिस दावत में २५ से ३० किलो प्याज का इस्तेमाल होता था, वहां केवल १० किलो प्याज ही खरीदा जा रहा है।

Show More
आलोक पाण्डेय
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned