करणी सेना की धमकी से डरे संचालक, कानपुर में नहीं दिखाई गई पद्मावत

'पद्मावत' फिल्म 25 जनवरी को पूरे देश में रिलीज कर दी गई, लेकिन करणी सेना की धमकी के चलते कानपुर के सिनेमाहॉल में यह मूवी नहीं दिखाई गई।

By: Abhishek Gupta

Published: 25 Jan 2018, 11:03 PM IST

कानपुर. 'पद्मावत' फिल्म 25 जनवरी को पूरे देश में रिलीज कर दी गई, लेकिन करणी सेना की धमकी के चलते कानपुर के सिनेमाहॉल में यह मूवी नहीं दिखाई गई। इसके चलते दर्शक खासे नाराज दिखे। लोगों ने फिल्म की टिकटें ऑनलाइन बुक करा ली थी और उन्हें मायूसी ही हाथ लगी। सिनेमा हॉल की तरफ दौड़े दर्शकों ने इस दौरान विरोध करने वालो को खरी-खोटी सुनाई और अपने-अपने पैसे वापस लेकर घर चले गए। वहीं संचालकों ने बताया कि सुरक्षा-व्यवस्था होने के बावजूद करणी सेना के चलते आज के सारे शो निरस्त कर दिए गए है। हमें आशंका थी कि अराजकतत्व टिकटों की खरीदारी कर हॉल के अंदर प्रवेश कर वहां पर हंगामा कर सकते हैं। जिसके चलते जान-माल का नुकसान हो सकता है।

डर के चलते नहीं चलाई फिल्म-
सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर पूरे देश में आज फिल्म पद्मावत रिलीज हो गई, लेकिन कानपुर के मल्टीप्लेक्सों में फिल्म नहीं दिखायी गयी। सिनेमा मालिकों को ऐसी सूचनाऐं मिली थी कि करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने शो के टिकट बुक करायें हैं और वे दर्शक बनकर हॉल में प्रवेश करेगें और फिल्म शुरू होने पर अन्दर बवाल करेगें। इन सूचनाओं पर आज के सभी शो निरस्त कर दिये गये और किसी भी दर्शक को अन्दर नहीं घुसने दिया गया। साउथ एक्स मॉल मैनेजर मनीष ने बताया कि पुलिस-प्रशासन ने हमें सुरक्षा-व्यवस्था मुहैया कराई थी। पर करणी सेना ने पहले हम लोगों से फिल्म नहीं चलाने का अनुरोध किया था। साथ ही धमकी दी थी कि अगर फिर भी आप लोगों ने फिल्म परदे पर चलाई तो अंजाम भुगतने को तैयार रहना। मॉल और दर्शकों की सुरक्षा को देखते हुए हमने अपने यहां आज फिल्म नहीं दिखाने का निर्णय लिया। दर्शकों का पैसा वापस कर दिया गया है।

रेवमोती और गुरूदेव में भी नहीं चली फिल्म-
करणी सेना की धमकी के चलते शहर के सभी सिनेमाहॉलों में फिल्म नहीं दिखाई गई। रावतपुर स्थित रेवमोती मॉल में सुबह से ही दर्शकों की भीड़ उमड़ी। कुछ लोगों ने ऑनलाइन टिकट पहले से बुक करा लिए थे, वह परिवार के साथ पहुंचे। गेट पर पहले ही लिखकर टांग दिया गया था कि गुरूवार और शुक्रवार को शो निरस्त कर दिए गए हैं। गुरूदेव हॉल में पर मूवी देखने पहंची निहारिका ने कहा कि संविधान ने हमें क्या, खाना, क्या, पीना और कौन सी मूवी देखनी है, बावजूद कुछ अराजकतत्वों के चलते हम गुलामी सहनी पड़ी। सरकार चाहती तो ऐसे अराजकतत्वों को पकड़ कर जेल भेज देती तो यह नौबत नहीं आती।

सरकार के चलते गुंड़ागर्दी कर रहे-
फिल्म देखने पहुंचे सूरज और शिवम ने कहा कि सुप्रीमकोर्ट के आदेश के बाद पद्मावत फिल्म रिलीज की गई, लेकिन कुछ लोगों ने इस पर बावल और हंगामा शुरू कर दिया। अगर यूपी सरकार धमकी देने वालों के खिलाफ सख्ती दिखाती तो आज फिल्म परदे पर चल रही होती। शिवम ने कहा कि अब कोई भी जब चाहेगा अपने समाज की बात कहकर फिल्म और अन्य धारावाहिकों पर अंड़गा अटका कर रोक लगवा देगा। राजेश ने कहा कि सरकार करणी सेना को अंदरखाने राजनीतिक दलों का सरंक्षण मिला हुआ है। इसी के चलते यह लोग कैमरे में आकर खुलेआम धमकी दे रहे हैं और शासन-प्रशासन इन्हें अरेस्ट करने के बजाय इनका बचाव कर रहा है।

Abhishek Gupta
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned