पीएम-सीएम के लॉकडाउन का नहीं हो रहा पालन, अपने भविष्य की बर्बादी के साथ कर रहे जुर्म

विभिन्न हिस्सों से आ रही सूचना के अनुसार लोग अपने घरों से निकल कर सड़कों पर हैं, कोरोना वायरस से निपटने के लिए यह शुभ संकेत नहीं है।

कानपुर। कोरोना वायरस से निपटने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सीएम योगी आदित्यनाथ ने लॉक डाउन का आदेश दिया हुआ है, लेकिन कानपुर में इसका पालन नहीं किया जा रहा। लोग-बाग अपने घरों से बाहर घूम रहे हैं। सड़कों पर टहल रहे हैं। जनजीवन आम दिनों की तरह नजर आ रहा है। जहां पर पुलिस मौजूद है वहां से बाइक सवार लोग छिपकर निकल रहे हैं। डीएम और एसएसपी ने लोगों से कहा है कि यदि आप कानून अपने हाथ में लेगे तो मुकदमा दर्ज कर जेल भेजा जाएगा।

बावजूद नहीं मान रहे लोग
कानपुर के विभिन्न हिस्सों से लोग अपने घरों से निकल कर सड़कों पर हैं। लॉक डाउन की स्थिति में अपने घरों में रहकर खुद को बचाएं और अपनों को बचाएं। प्रधानमंत्री मोदी इसके लिए लगातार आम जनता से अपील कर रहे हैं। बावजूद आमजन मानने को तैयार नहीं। सुबह 6 से 11 बजे के बीच दुकानों में भीड़ जमा हुई तो एनआरआई सिटी, मैनावती मार्ग और सिंहपुर में लोग आमदिनों की तरह घूमते दिखे। नवाबगंज, आजाद नगर, आर्यनगर कल्याणपुर और जाजमऊ में भीड़ सड़कों पर दिखी। पुलिस ने किसी तरह उन्हें खदेड़ कर घरों के अंदर किया।

मोहल्लों में तैनात होगी पुलिस
डीएम ने कहा कि कानपुर के लोगों को े चाहिए कि लॉक डाउन के समय वे अपने घरों में रहें, ताकि कोरोना वायरस से आने वाली एक बड़ी मुसीबत से बचा जा सके। कोरोना वायरस से निपटने के लिए यह जरूरी है। जो लॉक डाउन का नियम नहीं मानेंगे उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। डीएम खुद सड़क पर उतरकर जायजा ले रहे हैं और पुलिस को भी कार्रवाई के आदेश दिए हैं। डीएम ने बताया कि बुधवार को लाॅकडाउन का कुछ हद तक असर दिखा। ऐसे इलाकों को चिन्हित किया जा रहा है जहां पर लोग घरों के बाहर निकल रहे हैं। वहां पर पुलिस तैनात की जाएगी।

एसएसपी ने की अपील
एसएसपी अनंत देव तिवारी ने कहा कि इस समय लोग अपने घरों में रहें। बहुत जरूरत के समय ही अपने घरों से निकलें। आप अभी सचेत हो जाएंगे तो भविष्य में एक बड़ी विपदा से बच जाएंगे। राशन, सब्जी आदि सामानों की खरीदारी के लिए बाहर निकलें लेकिन इस दौरान ध्यान रखें कि एक जगह पांच से अधिक लोग खड़े न हों। कहा खाद्य सामग्री की भविष्य में दिक्कत नहीं होगी। इन्हें लॉक डाउन से मुक्त रखा गया है।

जाना पड़ सकता जेल
शहर की सड़कों पर तैनात ट्रैफिक पुलिसकर्मी लोगों को रोककर हिदायत दे रहे हैं। लेकिन इसका कोई खास असर नहीं दिख रहा। आम लोगों की अनदेखी पर पुलिस प्रशासन लगातार चेतावनी दे रही है। पुलिस लाउडस्पीकर पर अनाउंसमेंट कर लोगों को चेतावनी दे रही है। दुकानें बंद कराई जा रही। राहगीरों को सड़क से वापस भेजा जा रहा है। पुलिस प्रशासन यह हिदायत दे चुकी है की सीधा से नहीं माने तो पुलिस प्रावधानों के मुताबिक कार्रवाई भी कर सकती है।

230 लोगों को किया गिरफ्तार
मंगलवार को विभिन्न थानों में धारा 144 के उल्लंघन में 84 मुकदमे दर्ज कर 454 लोगों के खिलाफ कार्रवाई शुरू की गई। 230 लोगों को मौके पर ही गिरफ्तार कर थाने लाया गया और रात में चेतावनी देकर जमानत पर छोड़ा गया। इस दौरान 60 बाइक भी सीज की गईं। जिले की सभी सीमाओं को भी सील करा दिया। शुक्लागंज से आने वाले दोनों पुलों के पास बैरियर लगा दिए गए। इसी तरह गंगा बैराज, लखनऊ हाईवे, आगरा हाईवे, प्रयागराज हाईवे, जीटी रोड पर मकनपुर के आगे बैरियर लगा दिए गए।

कर्फ्यू की लोग कर रहे मांग
वहीं कुछ लोग ऐसे भी हैं, जो लाॅकडाउन का पालन कर रहे हैं। सुबह के वक्त आर्यनगर निवासी बबलू गुप्ता सब्जी के लेने के लिए अकेले घर से निकले। भीड़ देखकर वह बिना खरीदारी कर घर वापस चले गए। बबलू गुप्ता ने कहा कि कोरोना वायरस को लेकर शहर की जनता गंभीर नहीं है। अब सरकार को जल्द से जल्द कर्फ्यू लगा देना चाहिए और खुद की जान और दूसरों को बीमार करने वालों को जेल भेजना होगा। जब तक सरकार ये कदम नहीं उठाएगी तब तक लोग नहीं मानेंगे। इसी तरह से ललई गुप्ता भी बोले, कहा कोरोना पर जीत तभी मिलेगी जब कानपुर में कफ्र्यू लगेगा।

 

Vinod Nigam
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned