‘मंत्री जी’ चुनाव के बाद से नवाबगंज में बिजली कटौती का कर्फ्यू जारी

Vinod Nigam

Updated: 04 Sep 2019, 09:01:01 AM (IST)

Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

कानपुर। लोकसभा चुनाव 2019 के Lok Sabha Elections परिणाम आने के बाद नवाबगंज Nawabganj मोहल्ले में बिजली कटौती Power cut का सिलसिला शुरू हुआ जो मंगलवार को भी जारी रहा। यहां के पांच हजार से ज्यादा लोगों को सुबह से देर शाम तक अघोषित कटौती रूपी कर्फ्यू से जूझना पड़ा। शटडाउन, फॉल्ट के साथ ही ट्रिपिंग की समस्या से आजिज आ चुके उपभोक्ताओं ने आंदोलन के बजाए गांधीगिरी के जरिए अपना विरोध शुरू कर दिया है। लोग शाम होते ही अपने-अपने घरों के बाहर एक हाथ में बिजली मंत्री श्रीकांत शर्मा Power Minister Shrikant Sharma की नाम लिखा हुआ बल्व तो दूसरे में योगी सरकार Yogi Sarkar को 2022 के चुनाव में बेदलखल करने का नारा लिख कर प्रोटेस्ट कर रहे हैं।

अंघेरे में धरोहर
सीएसए, CSA एचबीटीआई, HBTI मेडिकल काॅलेज, पंडित दीनदयाल स्कूल, एचडी काॅलेज सहित अनेक सरकारी धरोहरों से बसा नवाबगंज इलाका पिछले सात सालों से बिजली कटौती की समस्या से जुझ रहा है। 2017 के विधानसभा चुनाव में लोगों ने कल्याणपुर से भाजपा का नीलिमा कटियार Neelima Katiyar को विधायक चुनकर विधानसभा पहुंचाया। चुनाव के वक्त उन्होंने भ्ी बिजली कटौती से लोगों को मुक्ति दिलाने का वादा किया था, लेकिन विधायक चुने जाने के बाद वह कभी मुड़ कर नवाबंगज की तरफ नहीं आई। लोकसभा चुनाव के बाद से इस इलाके में बिजली कटौती का अधोषित कफ्र्यू जारी है। केस्को एमडी, केस्को एक्सीयन, जेई, एई सहित अन्य अलाधिकारी शिकायत के बाद सुनवाई नहीं कर रहे हैं।

मंत्री मैडम भी नहीं सुनती फरियाद
नवाबगंज के ब्रम्हपुरी गली निवासी शिवप्रसाद बिजली नहीं आने के चलते अपने घर के बाहर मंत्री श्रीकांत शर्मा का नाम लिखा बल्व व कागज में बिजली कटौती की समस्या लिखे हुए बैठे थे। जब उनसे बात की गई तो वह पहले गुस्से से लाल हो गए और फिर बोले, पिछले चुनाव के बाद से हमारे मोहल्ले में बिजली कटौती जारी है। भीषण गर्मी के चलते बच्चे, महिलाएं व बुजुर्ग परेशान है। स्थानीय विधायक व प्रदेश सरकार में मंत्री नीलिमा कटियार को कईबार इस समस्या से अगवत कराया गया, लेकिन आश्वासन के सिवाए कुछ नहीं मिला। बिजली नहीं आने के चलते नलों की टोटियों से पानी नहीं निकला। अजादनगर से पानी लाने को मजबूर होना पड़ रहा है।

कारोबार बर्बाद
ब्रम्हपुरी गली से आगे चलकर बाजार पहुंचने पर यहां जूस की दुकान चलाने वाले सुनील कुमार भी कुछ इसी अंदाज में दिखे। उनसे मंत्री श्रीकांत शर्मा का नाम लिखा बल्व लिए होने पर पूछा गया तो उन्होंने बताया कि, गुरू रविवार की शाम बिजली गई। रात तो करीब तीन बजे आई। सोमवार को पूरे दिन और पूरी रात घरों में बल्व नहीं जले। मंगलवार की सुबह बिजली आई, लेकिन दोपहर के वक्त फिर गोल हो गई। कंपनीबाग जाकर केस्को के अधिकारियों से पूछा तो उन्होंने बताया कि बिठूर से बिजली काट दी गई है। बिजली कटौती से व्यापार पूरी तरह से चैपट हो गया है तो वहीं बिल के नाम पर हर माह दो से तीन हजार रूपए देने पड़ रहे हैं।

गुरू केस्को एमडी दोषी
किराना दुकानदार राजू सक्सेना बताते हैं कि बिजली विभाग नवाबंगज के लोगों के साथ भेदभाव कर रहा है। सड़क के उस पर आजादनगर और इस तरफ नवाबंगज आता है। अजादनगर में 24 घंटे बिजली आती है, जबकि हमारे मोहल्ले में महज 4 घंटे। राजू बताते हैं, आजानगर में भाजपा के अजावा आरएसएस के नेताओं के निवास हैं। जबकि हमारे मोहल्ले में आजजन रहते हैं। राजू ने बताया कि सोमवार को शाम के वक्त हमनें केस्को एमडी को करीब दर्जनभर फोन किया, लेकिन उन्होंने काॅल रिसीब नहीं की। राजू का आरोप है, बिजली कटौती के पीछे सिर्फ केस्को एमडी दोषी हैं। यदि वह आम उपभोक्ताओं की शिकयत सुनें और अधिकारियों पर कार्रवाई करें तो इस विराल समस्या से लोगों को निजाद मिल जाती।

7 साल से जमें हैं एक्सीयन साहब
कायस्थ सभा के प्रदेश अध्यक्ष सौरभ श्रीवास्तव बताते हैं कि रावतपुर सब डिवीजन में तैनात अधिकारी 2012 में समाजवादी सरकार के दौरान आए थे। पांच साल तक टस के मस नहीं हुए। 2017 में भाजपा सरकार आने के बाद भी एक भी अधिकारी का ट्रांसफर नहीं हुआ। सौरभ ने बताया कि रावतपुर डिवीजन के एक्सीयन आरके सिंह पटेल पिछले 7 साल से अंगज के पैर की तरह जमें हुए हैं। 2017 अगस्त में इनका ट्रांसफर उन्नाव हुआ था, लेकिन महज 24 घंटे के अंदर एक्सीयन साहब ने अपना स्थानान्तरण रूकवा लिया और तब से यहां जमें हुए हैं। सौरभ का आरोप है कि बिजली कटौती के पीछे इन्हीं साहब का खेल है और इनके सिर पर भाजपा की मंत्री का हाथ रखा हुआ है।

मैडम बिजी
बिजली कटौती को लेकर केस्को एमडी से बात करने के लिए फोन मिलाया गया तो उनके पीआरओ ने बताया कि मैडम बिजी हैं। यदि कोई शिकायत है तो बिजली विभाग के पोर्टल में उसे दर्ज करवा सकते हैं। इसके बाद केस्को के एक्सयीन आरके सिंह से बात की गई तो उन्होंने दो टूक शब्दों में कहा कि ओवरलोडिंग के चलते बिजली कटौती की जा रही है। मेरे हाथ में कुछ नहीं हैं। एमडी और एक्सीयन से बात करने के बाद मंत्री श्रीकांत शर्मा को फोन लगाकर बात करने की कोशिश की गई। जहां उनके पीआरओ ने कहा कि एसएमएस के जरिए समस्या लिखकर दें। एसएमएस करने के बाद महज दस मिनट के अंदर बिजली आ गई।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned