प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के तोहफे से कुम्हारों के दिन बहुरे

Vinod Nigam

Updated: 19 Oct 2019, 12:30:10 PM (IST)

Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

कानपुर। आधुनिकता के दौर में कुम्हार समाज को तोड़ कर रख दिया था। उन्होंने अपने कई दशक पुराने कार्य को छोड़कर मजदूरी करने लगे थे। लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चलते उनकी किस्मत बदल गई है। खादी ग्रामोद्योग आयोग ने कुम्हार सशक्तिकरण योजना के तहत दीपावली से पहले कानपुर में एक हजार से ज्यादा कुम्हारों को बिजली से चलने वाली मोदी चाक निशुल्क में वितरित की है। जिसके जरिए अब वह भी नई-नई डिजाइन के दिए के अलावा अन्य सामान बना रहे हैं।

चीन को देंगे टक्कर
दीवाली के दिए बनाने वाले कुम्हारों के लिए 2019 की दीपावली कुछ अगल साबित हो रही है। कानपुर में कुम्हार समाज के लोग मोदी सरकार द्धारा उपहार के तौर पर मिले बिजली से चलने वाले चाक का इस्तेमाल कर रहे हैं। बिजली की चाक से दिए बनाने पर उनको कम मेहनत लग रही है। साथ ही ज्यादा से ज्यादा दिए भी बन रहे हैं। पुत्तन कहते हैं कि चाइना से आने वाले दियों की वजह से हमलोग पूरी तरह से बेरोजगार हो गए थे, लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इस योजना के चलते पुश्तैनी कार्य पर फिर से जान आ गई है।

इस योजना के तहत दी गई मशीन
खादी ग्रामोद्योग आयोग ने कुम्हार सशक्तिकरण योजना के तहत इस तरह की मदद के लिए कानपुर में 500 कुम्हारों को चुना है। खादी ग्रामोद्योग आयोग (केवीआईसी) ने मार्च तक पूरे देश में बिजली चालित कुल 10 हजार चाक वितरित करने का लक्ष्य रखा है। केवीआईसी की के एक वक्तव्य में कहा गया है कि बिजली से चलने वाले चाक और मशीने पाने वाले कुम्हारों को पहले इन पर काम करने का प्रशिक्षण दिया गया है। उन्हें बिजली से चलने वाली चाक के अलावा 100 मिट्टी गूथने की मशीने 100 मिश्रण मशीने दी गयी है। इनसे कानपुर में 3000 से ज्यादा लोगों को रोजगार उपलब्ध होगा।

पहले दी गई ट्रेनिंग
कुम्हारों को बिजली से चलने वाली चाक की ट्रेनिंग दी गई। इसके बाद उन्हें चाक उपलब्ध करा दिए गए। श्यामू बताते हैं कि चाक मिल जाने से जहां समय की बचत होती है तो वहीं लागत भी कम लगती है। इसके अलावा हमलोग अनेक प्रकार के मिट्टी के वर्तन बना रहे हैं। चाइना को टक्कर देने के लिए मिट्टी से तैयार दिए और आधुनिक उपकरण भी बना रहे हैं। श्यामू बताते हैं कि पिछले पंद्रह दिनों के अंदर दूसरे शहरों से लोग खरीददारी के लिए आए और उम्मीद है ये दीवाली हमलोगों के घर खुशियां लेकर आएगी ।

सांसद ने कहा रेलमंत्री से करूंगा बात
भाजपा सांसद सत्यदेव पचौरी ने कहा, कानुपर के अलावा आसपास के इलाके में कुम्हारों की संख्या काफी है इसलिये प्रधानमंत्री द्वारा वितरण के बाद बिजली से चलने वाली चाक की मांग आई है। हमनें रेलवे से इसके लिये आग्रह किया है वह कुम्हारों द्वारा तैयार उत्पादों का अधिक से अधिक इस्तेमाल करे। स्टेशनों पर मिट्टी के बर्तनों का उपयोग अनिवार्य करने के लिए हम रेलमंत्री से भी मिलेंगे। स्टेशनों में मिट्टी के कुल्हड़, गिलास, प्लेट के साथ ही टेराकोटा उत्पादों को अनिवार्य बनाया जाना चाहिये।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned