Smuggler arrested : कॉन्सटेबल ने तस्कारों से मिलाया हाथ, मालखाने से पांच किलो चरस की पार

Smuggler arrested : कॉन्सटेबल ने तस्कारों से मिलाया हाथ, मालखाने से पांच किलो चरस की पार

Vinod Nigam | Publish: Aug, 08 2019 03:10:27 PM (IST) Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

चकेरी थाने में तैनाती के दौरान मालगोदाम से चोरी की थी चरस, तस्कारों के जरिए करवाई सप्लाई, पकड़े गए तस्कारों ने किया खुलाशा तो एसएसपी ने जांच बैठाई।

कानपुर। शहर में तैनाती के बाद अलाधिकारियों ने कांस्टेबल करीम को अपराधियों को दबोचने के लिए मुखबिर तंत्र खड़ा करने की जिम्मेदारी सौंपी। कॉन्सटेबल ने इसका जमकर फाएदा उठाया और खुद तस्करों को मालगोदाम में रखी चरस को बेच कर अपनी तिजोरी भरने लगा। नजीराबाद पुलिस ने ऐसे ही दो तस्कारों को पांच किलो चरस के साथ दबोचा। जहां उन्होंने पूछताछ के दौरान पुलिस को बताया है कि करीम नाम के कॉन्सटेबल ने उन्हें ये जहर पैसे लेकर दिया था। एसएसपी ने पूरे प्रकरण की जांच सीओ गीताजंलि को सौंपी है।

ऐसे हुआ खुलाशा
नजीराबाद थाने की पुलिस ने मादक पदार्थो की तस्करी करने वाले सारिक अमीन और सुभम को गिराफ्तार किया था । दोनों शातिर अपराधी है इनके पास से बड़ी मात्रा में चरस बरामद हुई है । सारिक और सुभम से पुलिस पूछताछ की तो उन्होने बताया कि चकेरी थाने में तैनात रहे कांस्टेबल करीब से उनकी मुलाकात हुई। करीम ने हमें मुखबिरी का काम सौंपा। इसी दौरान करीम ने हमसें चरस की बिक्री का ठेका दिया। वह मालगोदाम में रखी चरच को हमें देता और उसकी बिक्री कर कांस्टेबल का पैसा पहुंचा देते।

चकेरी में पकड़ी गई थी चरस की खेप
दरसल कलीम पहले चकेरी थाने में तैनात था । कुछ माह पहले चकेरी थाने में बड़ी मात्रा में चरस की खेप पकड़ी गई थी । जिसे थाने के मालखाने में जमा कर दिया गया था। जिसे कांस्टेबल में मालखाने से निकाल कर दोनों तस्करों को दे दिया। उन्होंने चरस को एक माफिया को बेंच पैसे आपस में बांट लिए। कुछ माह पहले एसएसपी ने काम पर लापरवाही बरतनें के आरोप में कांस्टेबल को लाइन हाजिर कर दिया था। इसके बाद करीम और तस्करों ने अपना अवैध कारोबार बंद नहीं किया।

जांच के बाद कार्रवाई
नजीराबाद इंस्पेक्टर ने इसकी जानकारी उच्चधिकारियों को दी । फिलहाल सिपाही कुछ दिनो पहले ही लाइन हाजिर हो चुका है। एसएसपी अंनत देव के मुताबिक इसकी जांच सीओ नजीराबाद गीतांजली सिंह को दी है । जांच के बाद दोषी पाए जाने पर कांस्टेबल के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया जाएगा। जब इस पूरे प्रकरण पर करीम से बात करने की कोशिश की गई तो वह मुहं छिपाकर पुलिस लाइन के अंदर बनें कमरे में चला गया।

 

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned