scriptPotato seed production: per year income more than one crore | आलू के बीज के उत्पादन से करोड़ों की कमाई, किसानों के बीच लोकप्रिय यह बीज | Patrika News

आलू के बीज के उत्पादन से करोड़ों की कमाई, किसानों के बीच लोकप्रिय यह बीज

आलू से करोड़ों की कमाई करने वाले शिवम को सीएसए में सम्मानित किया गया। बीटेक की पढ़ाई कर चुके शिवम ने सेंट्रल पोटैटो रिसर्च इंस्टीट्यूट मेरठ से प्रशिक्षण प्राप्त किया है। जहां पर उन्होंने आलू के बीजों का उत्पादन का प्रशिक्षण प्राप्त किया। आज आलू पैदावार के खेत में शिवम का बड़ा नाम है।

कानपुर

Published: May 15, 2022 07:47:48 am

आलू से करोड़ों की कमाई करने वाले 21 वर्षीय शिवम तिवारी का आज बड़ा नाम है।जिसने आलू के बीज का उत्पादन करके जहां किसानों को उन्नत किस्म के बीज उपलब्ध करा रहे हैं। वही यह बताने की भी कोशिश कर रहे हैं कि खेती के माध्यम से भी अच्छी कमाई की जा सकती है। शिवम तिवारी आज 200 एकड़ भूमि पर आलू के उन्नत किस्म के बीजों का उत्पादन कर रहे हैं। इटावा से मैकेनिकल इंजीनियरिंग कर चुके शिवम अब चिप्स का प्लांट लगाने जा रहे हैं। उद्देश्य किसानों से आलू खरीद कर उनके इनकम को बढ़ाना है।

आलू के बीज के उत्पादन से करोड़ों की कमाई, किसानों के बीच लोकप्रिय यह बीज

इटावा जिले के नावली गांव निवासी शिवम कुमार तिवारी की उम्र केवल 21 साल है। 2019 में बीटेक करने के दौरान उन्हें प्रशिक्षण के लिए सेंट्रल पोटैटो रिसर्च इंस्टीट्यूट मेरठ भेजा गया। जहां उन्होंने आलू के बीजों के उत्पादन के विषय में जानकारी प्राप्त की। जिसके बाद उन्होंने 30 एकड़ जमीन पर आलू के बीजों का उत्पादन शुरू किया। मेरठ स्थित सीपीआरआई से माइक्रो प्लांट लाकर उन्हें अपने लैब में विकसित करते हैं। शिवम के अनुसार एक पौधे से 5 पौधों का निर्माण होता है और फिर इन पांच पौधों को सीसी में लगाकर बड़ी संख्या में पौधे तैयार किए जाते हैं।

माइक्रो प्लांट मेरठ से लाए जाते हैं

शिवम तिवारी ने बताया कि एक माइक्रो प्लांट से 5 हजार पौधे तक बनाए जा सकते हैं। इसके लिए एक लंबी प्रक्रिया है। उन्होंने बताया कि अक्टूबर महीने में इन पौधों को ग्रीन नेट हाउस में रखा जाता है। 10 दिन बाद इन पौधों में मजबूती आ जाती है और इन्हें ग्रीन नेट हाउस से निकालकर वाइट ग्रीन हाउस में लगा दिया जाता है। फरवरी महीने में पौधों से बीज निकलने लगते हैं। शिवम तिवारी ने बताया कि उनके पास वर्तमान में कुफरी बहार, कुफरी संगम, फ्राई होम, सुखी यारी आदि एक दर्जन से ज्यादा प्रजातियों के बीजों का उत्पादन हो रहा है। शिवम तिवारी ने बताया कि टिशू कल्चर लैब में विकसित होने वाले डीजे में रोक लगने की संभावना काफी कम होती है। इसीलिए इनकी डिमांड ज्यादा है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ज्योतिष: ऊंची किस्मत लेकर जन्मी होती हैं इन नाम की लड़कियां, लाइफ में खूब कमाती हैं पैसाशनि देव जल्द कर्क, वृश्चिक और मीन वालों को देने वाले हैं बड़ी राहत, ये है वजहताजमहल बनाने वाले कारीगर के वंशज ने खोले कई राजपापी ग्रह राहु 2023 तक 3 राशियों पर रहेगा मेहरबान, हर काम में मिलेगी सफलताजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथJaya Kishori: शादी को लेकर जया किशोरी को इस बात का है डर, रखी है ये शर्तखुशखबरी: LPG घरेलू गैस सिलेंडर का रेट कम करने का फैसला, जानें कितनी मिलेगी राहतनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

IPL 2022: टिम डेविड की तूफानी पारी, मुंबई ने दिल्ली को 5 विकेट से हराया, RCB प्लेऑफ मेंपेट्रोल-डीज़ल होगा सस्ता, गैस सिलेंडर पर भी मिलेगी सब्सिडी, केंद्र सरकार ने किया बड़ा ऐलान'हमारे लिए हमेशा लोग पहले होते हैं', पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कटौती पर पीएम मोदीArchery World Cup: भारतीय कंपाउंड टीम ने जीता गोल्ड मेडल, फ्रांस को हरा लगातार दूसरी बार बने चैम्पियनआय से अधिक संपत्ति मामले में ओम प्रकाश चौटाला दोषी करार, 26 मई को सजा पर होगी बहसऑस्ट्रेलिया के चुनावों में प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन हारे, एंथनी अल्बनीज होंगे नए PM, जानें कौन हैं येगुजरात में BJP को बड़ा झटका, कांग्रेस व आदिवासियों के लगातार विरोध के बाद पार-तापी नर्मदा रिवर लिंक प्रोजेक्ट रद्दजापान में होगा तीसरा क्वाड समिट, 23-24 मई को PM मोदी का जापान दौरा
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.