लॉकडाउन में किराने की दुकान खोलनी है तो देनी होगी यह सुविधा

फोन पर आर्डर बुक करके घर तक पहुंचाने की होगी जिम्मेदारी

पैदल, हाथ ठेले और गाडिय़ों से भी होगी डोर-टू-डोर सप्लाई

कानपुर। प्रशासनिक स्तर पर डोर-टू-डोर होम डिलीवरी के लिए खाका तैयार कर लिया गया है। जिसके तहत लॉकडाउन के दौरान वे किराने वाले ही दुकान खोल सकेंगे जो डोर-टू-डोर सामान की सप्लाई देंगे। बाकी काउंटर पर सामान बेचने वालों को दुकान खोलने की अनुमति नहीं दी जाएगी। इसके लिए किराने वालों को अपना मोबाइल नंबर अपने एरिया में बांटना होगा, जिस पर लोग आर्डर बुक करा सकें।

तैयार हो रहा प्लान
लॉक डाउन में लोगों घरों तक जरूरी सामान पहुंचाने के लिए प्लान तैयार किया जा रहा है। इसके लिए 1800 वाहनों की व्यवस्था की गई है। हालांकि यह व्यवस्था शुक्रवार से लागू कराने का प्रयास है, पर अगर इसमें देरी होती है तो दूसरे विकल्प के तौर पर उन्हीं दुकानों पर बिक्री हो पाएगी, जहां सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जाएगा। इसके लिए अधिसूचित दुकानें सुबह चार बजे से 11 बजे तक खुल सकेंगी। ऐसा इसलिए किया जा रहा है क्योंकि दुकानें खुलने पर ज्यादातर दुकानों पर भीड़ एक साथ उमड़ती है और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन न होने से संक्रमण का खतरा बढ़ जाता है।

ठेले पर सब्जी बेचने वाले भी करेंगे डिलीवरी
हर इलाके में आसानी से पहुंच रखने वाले सब्जी ठेले वालों को भी होम डिलीवरी के लिए शामिल किया जाएगा। ठेले के अलावा और सिर पर डलिया के माध्यम से फल, सब्जी व अन्य जरूरी खाद्य सामान की सप्लाई चेन को अनुमति दी जाएगी। इसके जरिए दूध, राशन, गैस सिलिंडर, मसाले आदि जरूरी सामान किराना दुकानदारों के जरिए पहुंचाए जाएंगे। ई-रिक्शा, वैन और ठेले से सप्लाई सुचारू रहे, इसकी व्यवस्था सीधे थानाध्यक्ष देखेंगे।

दुकानों तक पहुंचाया जाएगा माल
लॉकडाउन के कारण बाहर से सामान आने में आ रही दिक्कत को दूर करने के लिए पड़ोसी जिलों के जिलाधिकारी से बात की गई है। दूसरी ओर मेडिकल सप्लाई चेन बनाने केलिए दवा व्यापारी संगठनों से भी प्रशासन की बात हो रही है। जिलाधिकारी ने माना कि जरूरी सामान मिलने में समस्या हो रही हैं, लेकिन लोग परेशान न हों, एक दो दिन में सप्लाई चेन पूरी तरह दुरुस्त हो जाएगी और सामान मिलने में कोई समस्या नहीं आएगी।

आलोक पाण्डेय Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned