पाकिस्तान से धमकी भरी काल आने के बाद बाद राष्ट्रपति की अभेद्य सुरक्षा


48 घंटे पहले राष्ट्रपति के रिश्तेदरों को बम से उड़ाने की मिली थी धमकी, पुलिस-प्रशासन के साथ खूफिया एजेंसियां अलर्ट पर।

By: Vinod Nigam

Updated: 30 Nov 2019, 03:01 PM IST

Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

कानपुर। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के कानपुर पहुंचने से ठीक दो दिन पहले उनके रिश्तेदारों को पाकिस्तान से एक काॅल आई। जिसमें उन्हें आरडीएक्स से उड़ाने की धमकी दी गयी थी। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच-पड़ताल शुरू कर दी है। वहीं राष्ट्रपति की सुरक्षा-व्यवस्था अभेद्य है। डीएम विजय विश्वास के मुताबिक 26 जिलों की पुलिस-फोर्स के साथ पीएसी और एसटीएफ के हथियार बंद कमांडो चप्पे-चप्पे पर तैनात किए गए हैं।

पाकिस्तान से आई थी काॅल
कल्याणपुर थाना क्षेत्र स्थित सिद्धार्थनगर में रहने वाले राजीव कुमार राष्ट्रपति के रिश्तेदार हैं। राजीव कुमार ने बताया गुरूवार दोपहर लगभग दो बजे मेरे पास पाकिस्तान के नम्बर से वॉट्सअप कॉलिंग के जरिए जान से मारने की धमकी दी। राजीव का कहना है कि फोन करने वाले ने उनसे नमो सेना इन्डिया छोड़ने की धमकी दी। ऐसा नही करने पर उन्हे और परिवार को बम से उड़ाने की धमकी दी। करीब 40 सेकेंड के तक बात करने के बाद फोन कट गया। पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच पड़ताल शुरू कर दी है। हलांकि 48 घंटे बीत जाने के बाद धमकी देने वाले शख्त तक पुलिस नहीं पहुंच सकी।

26 जिलों की फोर्स
धमकी के बाद पुलिस-प्रशासन के अलावा खूफिया एजेंसियां अलर्ट पर हैं। जहां से जहां से राष्ट्रपति के काफिले को गुजरना है, वहां-वहां 26 जिलों की पुलिस फोर्स के करीब तीन हजारों को तैनात किया गया है। इसके अलावा नौ एसपी सुरक्षा व्यवस्था की कमान संभल रहे हैं। उनके साथ ही 16 अपर पुलिस अधीक्षकों को भी लगाया गया है। एसपी पूर्वी राजकुमार अग्र्रवाल ने बताया कि दो दिवसीय कार्यक्रम को देखते हुए चकेरी एयरपोर्ट, कानपुर विश्वविद्यालय, पीएसआइटी में सेफ हाउस व सेफ अस्पताल भी बनाया गया है।

एसटीएफ के कमांडों भी मुस्तैद
राष्ट्रपति की सुरक्षा में एसआईयू, खुफिया के साथ ही एसटीएफ के कमांडो भी रहेंगे। राष्ट्रपति के आने और जाने से पहले निर्धारित रूट को बंद किया जाएगा। वहां की एसटीएफ के कमांडों से हथियारों से लैस होकर छतों पर मुस्तैद हैं। वहीं राष्ट्रपति की सुरक्षा को लेकर तीन सेफ हाउस और तीन अस्पतालों को तैयार किया गया है। सबसे पहले एयरफोर्स में सेफ हाउस व अस्पताल बनाया गया है। इसी तरह से पीएसआईटी, विश्वविद्यालय और नगर निगम में भी सेफ हाउस व अस्पताल बनाए गए हैं। सर्किट हाउस में रुकने के दौरान एयरफोर्स अस्पताल को ही सेफ अस्पताल के रूप में तैयार किया जाएगा।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned