शहीद जवानों को श्रद्धांजलि देकर बोले स्कूली बच्चे, 14 फरवरी की वो तारीख नहीं भूलेंगे कभी

Vinod Nigam

Updated: 15 Feb 2020, 09:15:03 AM (IST)

Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

कानपुर। वैलेंटाइन डे के अवसर कानपुर के सरदार पटेल स्कूल के सैकड़ों बच्चों ने जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकी हमले में शहीद हुए जवानों को यादकर श्रृदांजलि दी। बच्चांे ने शहीदों के चित्र पर श्रद्धा सुमन अर्पित कर कैंडिल जलाकर देश के उन सच्चे सपूतों को नमन किया। इसके बाद बच्चांे ने हिन्दुस्तान जिंदाबाद के नारे लगाते हुए रैली निकाली। इस मौके पर बच्चों ने कहा 14 फरवरी 2019 की तारीख को कभी नहीं भूलेंगे। पढ़ लिखकर वर्दी पहनेंगे और दुश्मन देश को सबक सिखाएंगे।

शहादत को नमन
पूरा देश उन सीआरपीएफ के वीर जवानों को याद कर रहा है जो 14 फरवरी 2019 को पाकिस्तान समर्थित आतंकियों के एक आत्मघाती हमले में कश्मीर के पुलवामा में शहीद हुए थे। कानुपर के सरदार पटेल स्कूल के बच्चों ने इन शहीद जवानों को याद किया। बच्चों ने मोमबत्तियां जलाईं और मौन रखकर इन वीर जवानों की शहादत को नमन किया। श्रद्धांजलि में जुटे बच्चों ने कहा कि आज भी जब उन्हें पुलवामा हमले की वो तस्वीरें याद आती है तो वह सिहर उठते हैं। हमारी बहादुर सेना ने पाकिस्तान के अंदर घुसकर बदला लिया था। जिससे हमसब का सीना गर्व से चैड़ा हुआ था।

शहीदों के नाम कर नमन किया
छात्रा आस्था द्धिवेदी कहती हैं कि वैलेंटाइन डे पर जिस तरह से आतंकियो ंने धोखे से हमारे जवानों पर हमला कर उन्हें शहीद कर दिया, उससे मन बहुत दुखी है। इसी के चलते हम वैलेंटाइन डे शहीदों के नाम कर नमन किया। प्रतिभा सचान ने बताया कि पिछले साल हमसब ने वैंलेटाइन डे मनाया था, लेकिन अब हरवर्ष सीआरपीएफ के शहीदों के नाम पर ही ये पर्व मनाएंगे। कहा, वह भी सीआरपीएफ ज्वाइन कर बार्डर में दुश्मनों को सबक सिखएगी।

जिंदा रहेगी 14 फरवरी
स्कूल में आए रिटायर्ड सीआरपीएफ के सिपाही तेजपाल सिंह ने बताया कि 14 फरवरी 2019 को सीआरपीएफ का एक काफिला श्रीनगर-जम्मू हाइवे से गुजर रहा था। 78 बसों के इस काफिले में सीरआरपीएफ के 2500 जवान अपनी ड्यूटी पर लौट रहे थे। दोपहर के करीब 3 बजे का वक्त था। सीरआरपीएफ के जवानों का काफिला जब पुलवामा जिले के श्रीनगर-जम्मू हाइवे से गुजर रहा था, उसी वक्त जैश ए मोहम्मद के एक आतंकी ने विस्फोटकों से लदी कार सीरआरपीएफ के काफिले की गाड़ी से भिड़ा दी.। आत्मघाती हमले में भयानक विस्फोट हुआ। सीरआरपीएफ की गाड़ी की परखच्चे उड़ गए और सीरआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे। वह दिन समय और तारीख हम कभी नहीं भूलेंगे।

2019 pulwama attack pulwama attack pulwama attack 2019
Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned