मोदी ने राहुल गांधी के खिलाफ दर्ज करवाया परिवाद

Vinod Nigam

Publish: Apr, 19 2019 09:01:01 AM (IST)

Kanpur, Kanpur, Uttar Pradesh, India

कानपुर। बिहार की एक जनसभा के दौरान कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने मोदी समाज को चोर कह दिया, जिसके कारण कानपुर में इस समाज के लोग खासे गुस्से में हैं। गुरूवार को आत्मप्रकाश मोदी ने न्यायालय में जाकर कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष के खिलाफ धारा पांच सौ के तहत परिवाद दर्ज कराया। कोर्ट ने मामले को संज्ञान में लेते हुए पूरे प्रकरण की सुनवाई के लिए 30 अपैल की तारीख मुकर्रर की है।

30 अ्रपैल को सुनवाई
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी सारे मोदी चोर हैं, के अपने बयान पर बुरी तरह से फंसते दिख रहे हैं। जहां बीजेपी इस बयान को लेकर राहुल पर हमलवार है तो वहीं अब इनके खिलाफ लोग सड़क से लेकर कोर्ट में जा रहे हैं। इसी बीच कानपुर निवासी आत्मप्रकाश मोदी ने राहुल के खिलाफ मुख्य महानगरीय मजिस्ट्रेट में परिवाद दाखिल किया है, जिसकी सुनवाई अगली 30 अप्रैल को होनी है। अधिवक्ता प्रदीप शुक्ला का कहना है की राहुल गांधी अपने भाषण में मोदी समाज को चोर कह रहे हैं, जिसको लेकर न्यायालय में परिवाद दाखिल किया गया है। कोर्ट ने वादी के प्रार्थना पत्र और एवीडेंस को देखने के बाद इस पर सुनवाई का फैसला किया है।

मैं आहत हुआ हूं
परिवाद दाखिल करने वाले आत्मप्रकाश मोदी के मुताबिक, राहुल गांधी कह रहे है की सारे मोदी चोर हैं। राष्ट्रीय नेता के इस बयान से मोदी समाज के लोगों की भावनाएं आहत हुई हैं। राहुल गांधी किसी व्यक्ति विशेष पर टिप्पणी करते तो ठीक था लेकिन पूरे मोदी समाज को चोर कहना गलत है। राहुल गांधी के इस बयान से उनके चुनाव पर असर पड़ेगा, क्योंकि समाज के लोग उनके इस बयान से नाराज हैं। वादी ने कहा कि . मैं चाहता हूं कि कोर्ट राहुल को समन भेजे और उनके खिलाफ आपराधिक मुकदमा चलाकर कार्रवाई करें।

सबको चोर कहना गलत
आत्मप्रकाश मोदी ने कहा कि उकना सियासत से दूर-दूर का नाता नहीं। हम अपनी छोटी सी दुकान चलाकर अपना पेट पाल रहे हैं। इमानदारी ही हमारी कमाई और पूंजी है। जिस पर राहुल गांधी ने सीधे हमला किया है। उन्हें किसने एक समाज के लोगों को चोर कहनें का हक दिया है। संविधान में अभिव्यक्ति के बोलने की आजादी है, पर वो शब्द समाज के किसी भी व्यक्ति के बारे में नहीं होने चाहिए। हम तो कोर्ट से यही अनुरोध करेंगे कि राहुल के समन जारी कर कटघरे में खड़ा किया जाए, जिससे कि कोई दूसरा नेता य व्यक्ति किसी समाज को चोर कहने से पहले सौ बार सोंचे।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned